फिर के गली गली तबाह ठोकरें सब की खाए क्यूँ / Phir Ke Gali Gali Tabah Thokren Sab Ki Khae Kyun

फिर के गली गली तबाह ठोकरें सब की खाए क्यूँ
दिल को जो 'अक़्ल दे ख़ुदा, तेरी गली से जाए क्यूँ

रुख़्सत-ए-क़ाफ़िला का शोर ग़श से हमें उठाए क्यूँ
सोते हैं उन के साए में कोई हमें जगाए क्यूँ

बार न थे हबीब को, पालते ही ग़रीब को
रोएँ जो अब नसीब को, चैन कहो गँवाए क्यूँ

याद-ए-हुज़ूर की क़सम, ग़फ़्लत-ए-'ऐ़श है सितम
ख़ूब हैं क़ैद-ए-ग़म में हम, कोई हमें छुड़ाए क्यूँ

देख के हज़रत-ए-ग़नी फैल पड़े फ़क़ीर भी
छाई है अब तो छाउनी, हश्र ही आ न जाए क्यूँ

जान है 'इश्क़-ए-मुस्त़फ़ा, रोज़ फ़ुज़ूँ करे ख़ुदा
जिस को हो दर्द का मज़ा, नाज़-ए-दवा उठाए क्यूँ

हम तो हैं आप दिल-फ़िगार ग़म में हँसी है ना-गवार
छेड़ के गुल को नौ-बहार ख़ून हमें रुलाए क्यूँ

या तो यूँही तड़प के जाएँ या वही दाम से छुड़ाएँ
मिन्नत-ए-ग़ैर क्यूँ उठाएँ, कोई तरस जताए क्यूँ

उन के जलाल का असर दिल से लगाए है क़मर
जो कि हो लोट ज़ख़्म पर दाग़-ए-जिगर मिटाए क्यूँ

ख़ुश रहे गुल से अंदलीब, ख़ार-ए-हरम मुझे नसीब
मेरी बला भी ज़िक्र पर फूल के ख़ार खाए क्यूँ

गर्द-ए-मलाल अगर धुले, दिल की कली अगर खिले
बर्क़ से आँख क्यूँ जले, रोने पे मुस्कुराए क्यूँ

जान-ए-सफ़र नसीब को, किस ने कहा मज़े से सो
खटका अगर सहर का हो, शाम से मौत आए क्यूँ

अब तो न रोक, ऐ ग़नी ! 'आदत-ए-सग बिगड़ गई
मेरे करीम पहले ही लुक़्मा-ए-तर खिलाए क्यूँ

राह-ए-नबी में क्या कमी, फ़र्श-ए-बयाज़ दीदा की
चादर-ए-ज़िल है मलगजी, ज़ेर-ए-क़दम बिछाए क्यूँ

संग-ए-दर-ए-हुज़ूर से, हम को ख़ुदा न सब्र दे
जाना है सर को जा चुके, दिल को क़रार आए क्यूँ

है तो, रज़ा ! निरा सितम, जुर्म पे गर लजाएँ हम
कोई बजाए सोज़-ए-ग़म, साज़-ए-तरब बजाए क्यूँ


शायर:
इमाम अहमद रज़ा ख़ान बरेलवी

ना'त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी
ग़ुलाम मुस्तफ़ा क़ादरी
साबिर रज़ा अज़हरी सुरत





phir ke gali gali tabah Thokare.n sab ki khaae kyu.n
dil ko jo 'aql de KHuda, teri gali se jaae kyu.n

ruKHsat-e-qaafila ka shor Gash se hame.n uThaae kyu.n
sote hai.n un ke saae me.n koi hame.n jagaae kyu.n

baar na the habeeb ko, paalte hi Gareeb ko
roe.n jo ab naseeb ko, chain kaho ganwaae kyu.n

yaad-e-huzoor ki qasam, Gaflat-e-'aish hai sitam
KHoob hai.n qaid-e-Gam me.n ham, koi hame.n chhu.Daae kyu.n

dekh ke hazrat-e-Gani phail pa.De faqeer bhi
chhaai hai ab to chhaauni, hashr hi aa na jaae kyu.n

jaan hai 'ishq-e-mustafa, roz fuzoo.n kare KHuda
jis ko ho dard ka maza, naaz-e-dawa uThaae kyu.n

ham to hai.n aap dil-figaar Gam me.n hansi hai naa-gawaar
chhe.D ke gul ko nau-bahaar KHoon hame.n rulaae kyu.n

yaa to yunhi ta.Dap ke jaae.n yaa wahi daam se chhu.Daae.n
minnat-e-Gair kyu.n uThaae.n, koi taras jataae kyu.n

un ke jalaal ka asar dil se lagaae hai qamar
jo ki ho loT zaKHm par daaG-e-jigar miTaae kyu.n

KHush rahe gul se andalib, KHaar-e-haram mujhe naseeb
meri bala bhi zikr par phool ke KHaar khaae kyu.n

gard-e-malaal agar dhule, dil ki kali agar khile
barq se aankh kyu.n jale, rone pe muskuraae kyu.n

jaan-e-safar naseeb ko, kis ne kaha maze se so
khaTka agar sahar ka ho, shaam se maut aae kyu.n

ab to na rok, ai Gani ! 'aadat-e-sag biga.D gai
mere kareem pehle hi luqma-e-tar khilaae kyu.n

raah-e-nabi me.n kya kami, farsh-e-bayaaz deeda ki
chaadar-e-zil hai malgaji, zer-e-qadam bichhaae kyu.n

sang-e-dar-e-huzoor se, ham ko KHuda na sabr de
jaana hai sar ko jaa chuke, dil ko qaraar aae kyu.n

hai to, Raza ! nira sitam, jurm pe gar lajaae.n ham
koi bajaae soz-e-Gam, saaz-e-tarab bajaae kyu.n


Poet:
Imam Ahmad Raza Khan

Naat-Khwaan:
Owais Raza Qadri
Ghulam Mustafa Qadri
Sabir Raza Azhari Surat
Phir Ke Gali Gali Tabah Lyrics | Phir Ke Gali Gali Tabah Lyrics in Hindi | Phir Ke Gali Gali Tabah Thokrein Sab Ki Khaye Kyun Lyrics in Hindi | fir taba thokare thokre thokrein khayen khayein lyrics of naat | naat lyrics in hindi | islamic lyrics | hindi me naat lyrics | hindi me naat likhi hui | All Naat Lyrics in Hindi | नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई | नात शरीफ की किताब हिंदी में | आला हजरत की नात शरीफ lyrics | हिंदी नात | Lyrics in English | Lyrics in Roman 50+ Naat Lyrics | Best Place To Find All Naat Sharif | 500+ Naat Lyrics | Best Site To Find All Naat in Hindi, English | 430 Naat lyrics ideas in 2024

Comments

Post a Comment

Most Popular

मेरे हुसैन तुझे सलाम / Mere Husain Tujhe Salaam

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

मेरा बादशाह हुसैन है | ऐसा बादशाह हुसैन है / Mera Baadshaah Husain Hai | Aisa Baadshaah Husain Hai

ऐ ज़हरा के बाबा सुनें इल्तिजा मदीना बुला लीजिए / Aye Zahra Ke Baba Sunen Iltija Madina Bula Lijiye

अल्लाह की रज़ा है मोहब्बत हुसैन की | या हुसैन इब्न-ए-अली / Allah Ki Raza Hai Mohabbat Hussain Ki | Ya Hussain Ibne Ali

कर्बला के जाँ-निसारों को सलाम / Karbala Ke Jaan-nisaron Ko Salam

हुसैन तुम को ज़माना सलाम कहता है / Husain Tum Ko Zamana Salam Kehta Hai

हुसैन आज सर को कटाने चले हैं / Husain Aaj Sar Ko Katane Chale Hain

हम हुसैन वाले हैं / Hum Hussain Wale Hain