वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं
वहीं घर बनाने को दिल चाहता है
वो सोने से कंकर, वो चाँदी सी मिट्टी
नज़र में बसाने को दिल चाहता है

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं
वहीं घर बनाने को दिल चाहता है

जो पूछा नबी ने कि कुछ घर भी छोड़ा
तो सिद्दीक़-ए-अकबर के होंटों पे आया
वहाँ माल-ओ-दौलत की क्या है हक़ीक़त
जहाँ जाँ लुटाने को दिल चाहता है

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं
वहीं घर बनाने को दिल चाहता है

जिहाद-ए-मोहब्बत की आवाज़ गूँजी
कहा हन्ज़ला ने ये दुल्हन से अपनी
इजाज़त अगर हो तो जाम-ए-शहादत
लबों से लगाने को दिल चाहता है

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं
वहीं घर बनाने को दिल चाहता है

सितारों से ये चाँद कहता है हर-दम
तुम्हें क्या बताऊँ वो टुकड़ों का 'आलम
इशारे में आक़ा के इतना मज़ा था
कि फिर टूट जाने को दिल चाहता है

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं
वहीं घर बनाने को दिल चाहता है

वो नन्हा सा असग़र, वो एड़ी रगड़ कर
यही कह रहा था वो ख़ैमे में रो कर
ऐ बाबा ! मैं पानी का प्यासा नहीं हूँ
मेरा सर कटाने को दिल चाहता है

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं
वहीं घर बनाने को दिल चाहता है

जो देखा है रू-ए-जमाल-ए-रिसालत
तो, ताहिर ! 'उमर मुस्तफ़ा से ये बोले
बड़ी आप से दुश्मनी थी मगर अब
ग़ुलामी में आने को दिल चाहता है

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं
वहीं घर बनाने को दिल चाहता है


शायर:
ताहिर रज़ा रामपुरी

ना'त-ख़्वाँ:
ताहिर रज़ा रामपुरी
हाफ़िज़ उमर फ़ारूक़ नक़्शबंदी
मुहम्मद अनस नज़ीर



वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं
वहीं घर बनाने को जी चाहता है
वो सोने से कंकर, वो चाँदी सी मिट्टी
नज़र में बसाने को जी चाहता है

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं
वहीं घर बनाने को जी चाहता है

जो पूछा नबी ने कि कुछ घर भी छोड़ा
तो सिद्दीक़-ए-अकबर के होंटों पे आया
वहाँ माल-ओ-दौलत की क्या है हक़ीक़त
जहाँ जाँ लुटाने को जी चाहता है

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं
वहीं घर बनाने को जी चाहता है

जिहाद-ए-मोहब्बत की आवाज़ गूँजी
कहा हन्ज़ला ने ये दुल्हन से अपनी
'इजाज़त अगर दो तो जाम-ए-शहादत
लबों से लगाने को जी चाहता है

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं
वहीं घर बनाने को जी चाहता है

सितारों से ये चाँद कहता है हर-दम
तुम्हें क्या बताऊँ वो टुकड़ों का 'आलम
इशारे में आक़ा के इतना मज़ा था
कि फिर टूट जाने को जी चाहता है

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं
वहीं घर बनाने को जी चाहता है

वो नन्हा सा असग़र, जो एड़ी रगड़ कर
यही कह रहा था वो ख़ैमे में रो कर
ऐ बाबा ! मैं पानी का प्यासा नहीं हूँ
मेरा रन में जाने को जी चाहता है

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं
वहीं घर बनाने को जी चाहता है

जो देखा है रू-ए-जमाल-ए-रिसालत
तो, ताहिर ! 'उमर मुस्तफ़ा से ये बोले
बड़ी आप से दुश्मनी थी मगर अब
ग़ुलामी में आने को जी चाहता है

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं
वहीं घर बनाने को जी चाहता है


शायर:
ताहिर रज़ा रामपुरी

ना'त-ख़्वाँ:
ज़ोहैब अशरफ़ी





wo shehr-e-mohabbat jahaa.n mustafa hai.n
wahi.n ghar banaane ko dil chaahta hai
wo sone se kankar, wo chaandi si miTTi
nazar me.n basaane ko dil chaahta hai

wo shehr-e-mohabbat jahaa.n mustafa hai.n
wahi.n ghar banaane ko dil chaahta hai

jo poochha nabi ne ki kuchh ghar bhi chho.Da
to siddiq-e-akbar ke honTo.n pe aaya
wahaa.n maal-o-daulat ki kya hai haqeeqat
jahaa.n jaa.n luTaane ko dil chaahta hai

wo shehr-e-mohabbat jahaa.n mustafa hai.n
wahi.n ghar banaane ko dil chaahta hai

jihaad-o-mohabbat ki aawaaz goonji
kaha hanzla ne ye dulhan se apni
ijaazat agar ho to jaam-e-shahaadat
labo.n se lagaane ko dil chaahta hai

wo shehr-e-mohabbat jahaa.n mustafa hai.n
wahi.n ghar banaane ko dil chaahta hai

sitaaro.n se ye chaand kehta hai har-dam
tumhe.n kya bataau.n wo Tuk.Do.n ka 'aalam
ishaare me.n aaqa ke itna maza tha
ki phir TooT jaane ko dil chaahta hai

wo shehr-e-mohabbat jahaa.n mustafa hai.n
wahi.n ghar banaane ko dil chaahta hai

wo nanha sa asGar, wo e.Di raga.D kar
yahi keh raha tha wo KHaime me.n ro kar
ai baaba ! mai.n paani ka pyaasa nahi.n hu.n
mera sar kaTaane ko dil chaahta hai

wo shehr-e-mohabbat jahaa.n mustafa hai.n
wahi.n ghar banaane ko dil chaahta hai


jo dekha hai roo-e-jamaal-e-risaalat
to, Taahir ! 'umar mustafa se ye bole
ba.Di aap se dushmani thi magar ab
Gulaami me.n aane ko dil chaahta hai

wo shehr-e-mohabbat jahaa.n mustafa hai.n
wahi.n ghar banaane ko dil chaahta hai


Poet:
Tahir Raza Rampuri

Naat-Khwaan:
Tahir Raza Rampuri
Hafiz Umar Farooq Naqshbandi
Muhammad Anas Nazeer



wo shehr-e-mohabbat jahaa.n mustafa hai.n
wahi.n ghar banaane ko jee chaahta hai
wo sone se kankar, wo chaandi si miTTi
nazar me.n basaane ko jee chaahta hai

wo shehr-e-mohabbat jahaa.n mustafa hai.n
wahi.n ghar banaane ko jee chaahta hai

jo poochha nabi ne ki kuchh ghar bhi chho.Da
to siddiq-e-akbar ke honTo.n pe aaya
wahaa.n maal-o-daulat ki kya hai haqeeqat
jahaa.n jaa.n luTaane ko jee chaahta hai

wo shehr-e-mohabbat jahaa.n mustafa hai.n
wahi.n ghar banaane ko jee chaahta hai

jihaad-o-mohabbat ki aawaaz goonji
kaha hanzla ne ye dulhan se apni
ijaazat agar do to jaam-e-shahaadat
labo.n se lagaane ko jee chaahta hai

wo shehr-e-mohabbat jahaa.n mustafa hai.n
wahi.n ghar banaane ko jee chaahta hai

sitaaro.n se ye chaand kehta hai har-dam
tumhe.n kya bataau.n wo Tuk.Do.n ka 'aalam
ishaare me.n aaqa ke itna maza tha
ki phir TooT jaane ko jee chaahta hai

wo shehr-e-mohabbat jahaa.n mustafa hai.n
wahi.n ghar banaane ko jee chaahta hai

wo nanha sa asGar, jo e.Di raga.D kar
yahi keh raha tha wo KHaime me.n ro kar
ai baaba ! mai.n paani ka pyaasa nahi.n hu.n
mera ran me.n jaane ko jee chaahta hai

wo shehr-e-mohabbat jahaa.n mustafa hai.n
wahi.n ghar banaane ko jee chaahta hai

jo dekha hai roo-e-jamaal-e-risaalat
to, Taahir ! 'umar mustafa se ye bole
ba.Di aap se dushmani thi magar ab
Gulaami me.n aane ko jee chaahta hai

wo shehr-e-mohabbat jahaa.n mustafa hai.n
wahi.n ghar banaane ko jee chaahta hai


Poet:
Tahir Raza Rampuri

Naat-Khwaan:
Zohaib Ashrafi
Wo Shehr e Mohabbat Jahan Mustafa Hain Lyrics | Wo Shahre Mohabbat Jahan Mustafa Hai Lyrics | Wahin Ghar Banane Ko Dil Chahta Hai Lyrics | Woh Sehre sahre sahare sehare sehar sahr sehr muhabbat hei hain hein wahi ji chahata hai muhabbat muhabat lyrics of naat | naat lyrics in hindi | islamic lyrics | hindi me naat lyrics | hindi me naat likhi hui | All Naat Lyrics in Hindi | नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई | नात शरीफ की किताब हिंदी में | आला हजरत की नात शरीफ lyrics | हिंदी नात | Lyrics in English | Lyrics in Roman 50+ Naat Lyrics | Best Place To Find All Naat Sharif | 500+ Naat Lyrics | Best Site To Find All Naat in Hindi, English | 430 Naat lyrics ideas in 2023

Comments

Post a Comment

Most Popular

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

ऐ ज़हरा के बाबा सुनें इल्तिजा मदीना बुला लीजिए / Aye Zahra Ke Baba Sunen Iltija Madina Bula Lijiye

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

बे-ख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Be-Khud Kiye Dete Hain Andaaz-e-Hijabana

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

कोई दुनिया-ए-अता में नहीं हमता तेरा | तज़मीन - वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा / Koi Duniya-e-Ata Mein Nahin Hamta Tera | Tazmeen of Waah ! Kya Jood-o-Karam Hai, Shah-e-Bat.ha ! Tera

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

कोई गुल बाक़ी रहेगा न चमन रह जाएगा / Koi Gul Baqi Rahega Na Chaman Reh Jayega

ताजदार-ए-हरम ऐ शहंशाह-ए-दीं | तुम पे हर दम करोड़ों दुरूद-ओ-सलाम / Tajdar-e-Haram Aye Shahanshah-e-Deen | Tum Pe Har Dam Karodon Durood-o-Salam