दुरूद तुम पर सलाम तुम पर / Durood Tum Par Salam Tum Par

रसूल मेरे ! मेरे पयम्बर ! दुरूद तुम पर, सलाम तुम पर
करम की हो इक निगाह हम पर, दुरूद तुम पर, सलाम तुम पर

क़ुरआन क्या है ? तुम्हारी बातें, तुम्हारे नग़्में, तुम्हारी ना'तें
कहेगा क्या कोई इस से बेहतर, दुरूद तुम पर, सलाम तुम पर

ये लैला-ए-शब सँवर रही है, जो माँग तारों से भर रही है
तुम्हारे क़दमों की धूल ले कर, दुरूद तुम पर, सलाम तुम पर

जो क़लमा-ए-ला-शरीक देखा, तुम्हें वहाँ भी शरीक देखा
ख़ुदा ही जाने ये राज़ बेहतर, दुरूद तुम पर, सलाम तुम पर

तुम्हारे घर की फ़सील क़ुरआँ, ख़ुदा की क़ुदरत तुम्हारा ईमाँ
ख़ुदा की रहमत तुम्हारा दफ़्तर, दुरूद तुम पर, सलाम तुम पर


ना'त-ख़्वाँ:
ख़ावर नक़्शबंदी



हुज़ूर ! मुजरिम खड़ा है दर पर, दुरूद तुम पर, सलाम तुम पर
तुम्ही तो हो बेकसों के यावर, दुरूद तुम पर, सलाम तुम पर

मैं रोज़ उड़ कर मदीने आऊँ, मैं सब्ज़-गुंबद की दीद पाऊँ
'अता हों ऐसे, शहा ! मुझे पर, दुरूद तुम पर, सलाम तुम पर

हुज़ूर ! नज़र-ए-करम हो अब तो, तुझी से माँगे 'उबैद तुझ को
वो 'आसियों में है सब से बढ़ कर, दुरूद तुम पर, सलाम तुम पर


शायर:
ओवैस रज़ा क़ादरी

ना'त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी



बुला लो, सरकार ! तुम अपने दर पर, दुरूद तुम पर, सलाम तुम पर
करम हो हम पर भी, बंदा-पर्वर ! दुरूद तुम पर, सलाम तुम पर

वो सब्ज़-गुंबद, सुनहरी जाली, लौटा न कोई वहाँ से ख़ाली
बना दो मेरा भी अब मुक़द्दर, दुरूद तुम पर, सलाम तुम पर

न पास ज़र है, न पर हैं मेरे, चला भी जाता नहीं है मुझ से
फिर कैसे पहुँचूँ तुम्हारे दर पर, दुरूद तुम पर, सलाम तुम पर

कभी तो आएगा वो ज़माना, यक़ीनन होगा मदीने जाना
पढ़ेंगे रौज़े पे सर झुका कर, दुरूद तुम पर, सलाम तुम पर

ये आरज़ू है मदीने जाऊँ, पकड़ के जाली ये कह सुनाऊँ
बचाना आ कर ब-रोज़-ए-महशर, दुरूद तुम पर, सलाम तुम पर


ना'त-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ नादिर रज़ा





rasool mere ! mere payambar !
durood tum par, salaam tum par
karam ki ho ik nigaah ham par
durood tum par, salaam tum par

qur.aan kya hai ? tumhaari baate.n
tumhaare naGme.n, tumhaari naa'te.n
kahega kya koi is se behtar
durood tum par, salaam tum par

ye laila-e-shab sanwar rahi hai
jo maang taaro.n se bhar rahi hai
tumhaare qadmo.n ki dhool le kar
durood tum par, salaam tum par

jo qalma-e-laa-shareek dekha
tumhe.n wahaa.n bhi shareek dekha
KHuda hi jaane ye raaz behtar
durood tum par, salaam tum par

tumhaare ghar ki faseel qur.aa.n
KHuda ki qudrat tumhaara imaa.n
KHuda ki rehmat tumhaara daftar
durood tum par, salaam tum par


Naat-Khwaan:
Khawar Naqshbandi



huzoor ! mujrim kha.Da hai dar par
durood tum par, salaam tum par
tumhi to ho bekaso.n ke yaawar
durood tum par, salaam tum par

mai.n roz u.D kar madine aau.n
mai.n sabz-gumbad ki deed paau.n
'ata ho.n aise, shaha ! mujhe par
durood tum par, salaam tum par

huzoor ! nazr-e-karam ho ab to
tujhi se maange 'Ubaid tujh ko
wo 'aasiyo.n me.n hai sab se ba.Dh kar
durood tum par, salaam tum par


Poet:
Owais Raza Qadri

Naat-Khwaan:
Owais Raza Qadri



bula lo, sarkaar ! tum apne dar par
durood tum par, salaam tum par
karam ho ham par bhi, banda-parwar !
durood tum par, salaam tum par

wo sabz-gumbad, sunehri jaali
lauTa na koi wahaa.n se KHaali
bana do mera bhi ab muqaddar
durood tum par, salaam tum par

na paas zar hai, na par hai.n mere
chala bhi jaata nahi.n hai mujh se
phir kaise pahunchu.n tumhaare dar par
durood tum par, salaam tum par

kabhi to aaega wo zamaana
yaqeenan hoga madine jaana
pa.Dhenge rauze pe sar jhuka kar
durood tum par, salaam tum par

ye aarzoo hai madine jaau.n
paka.D ke jaali ye keh sunaau.n
bachaana aa kar ba-roz-e-mehshar
durood tum par, salaam tum par


Naat-Khwaan:
Hafiz Nadir Raza
Durood Tum Par Salam Tum Par Lyrics in Hindi | Bulalo Sarkar Tum Apne Dar Par Durood Tum Par Salam Tum Par Lyrics in Hindi | Bulalo Sarkar Naat Lyrics | durud duruud salaam bula lo sarkaar | Salam Lyrics in Hindi lyrics of naat, naat lyrics in hindi, islamic lyrics, hindi me naat lyrics, hindi me naat likhi hui, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई, नात शरीफ की किताब हिंदी में, आला हजरत की नात शरीफ lyrics, हिंदी नात, Lyrics in English, Lyrics in Roman

Comments

Most Popular

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

मैं बंदा-ए-'आसी हूँ, ख़ता-कार हूँ, मौला ! / Main Banda-e-Aasi Hoon, Khata-Kaar Hoon, Maula !

उन का मँगता हूँ जो मँगता नहीं होने देते / Un Ka Mangta Hun Jo Mangta Nahin Hone Dete

तेरा नाम ख़्वाजा मुईनुद्दीन | तू रसूल-ए-पाक की आल है / Tera Naam Khwaja Moinuddin | Tu Rasool-e-Pak Ki Aal Hai

बे-ख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Be-Khud Kiye Dete Hain Andaaz-e-Hijabana

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

हाल-ए-दिल किस को सुनाएँ, आप के होते हुए / Haal-e-Dil Kis Ko Sunaaen Aap Ke Hote Hue

छूटे न कभी तेरा दामन या ख़्वाजा मुईनुद्दीन हसन / Chhoote Na Kabhi Tera Daman Ya Khwaja Muinuddin Hasan

जानम फ़िदा-ए-हैदरी या अली अली अली / Jaanam Fida-e-Haideri Ya Ali Ali Ali (All Versions)