पाई शब-ए-बरात ये क़िस्मत की बात है | जागूँगा सारी रात इबादत की रात है / Paai Shab-e-Barat Ye Qismat Ki Baat Hai | Jagunga Saari Raat Ibadat Ki Raat Hai

शब-ए-बरात ! शब-ए-बरात !
शब-ए-बरात ! शब-ए-बरात !

पाई शब-ए-बरात ये क़िस्मत की बात है
जागूँगा सारी रात, 'इबादत की रात है

पाई शब-ए-बरात ये क़िस्मत की बात है

शब-ए-बरात ! शब-ए-बरात !
शब-ए-बरात ! शब-ए-बरात !

मर्ज़-ए-गुनाह-गारी से तौबा करूँगा मैं
फ़रमान-ए-मुस्तफ़ा है, शफ़ा'अत की रात है

जागूँगा सारी रात, 'इबादत की रात है
पाई शब-ए-बरात ये क़िस्मत की बात है

शब-ए-बरात ! शब-ए-बरात !
शब-ए-बरात ! शब-ए-बरात !

होगी क़बूल सारे तलबगारों की फ़रियाद
बस दिल से पुकारो ये समा'अत की रात है

जागूँगा सारी रात, 'इबादत की रात है
पाई शब-ए-बरात ये क़िस्मत की बात है

शब-ए-बरात ! शब-ए-बरात !
शब-ए-बरात ! शब-ए-बरात !

सज्दे करूँगा, अश्क-ए-नदामत बहाऊँगा
सब कुछ मिलेगा मुझ को, 'इनायत की रात है

जागूँगा सारी रात, 'इबादत की रात है
पाई शब-ए-बरात ये क़िस्मत की बात है

शब-ए-बरात ! शब-ए-बरात !
शब-ए-बरात ! शब-ए-बरात !


सारा जहान छोड़ के मस्जिद चलो, नादिम !
रहमत ही रहमतें हैं, ये बरकत की रात है

जागूँगा सारी रात, 'इबादत की रात है
पाई शब-ए-बरात ये क़िस्मत की बात है

शब-ए-बरात ! शब-ए-बरात !
शब-ए-बरात ! शब-ए-बरात !


ना'त-ख़्वाँ:
राओ अली हसनैन





shab-e-baraat ! shab-e-baraat !
shab-e-baraat ! shab-e-baraat !


paai shab-e-baraat ye qismat ki baat hai
jaagunga saari raat, 'ibaadat ki raat hai

paai shab-e-baraat ye qismat ki baat hai

shab-e-baraat ! shab-e-baraat !
shab-e-baraat ! shab-e-baraat !

marz-e-gunaah-gaari se tauba karunga mai.n
farmaan-e-mustafa hai, shafaa'at ki raat hai

jaagunga saari raat, 'ibaadat ki raat hai
paai shab-e-baraat ye qismat ki baat hai

shab-e-baraat ! shab-e-baraat !
shab-e-baraat ! shab-e-baraat !

hogi qabool saare talabgaaro.n ki fariyaad
bas dil se pukaaro ye samaa'at ki raat hai

jaagunga saari raat, 'ibaadat ki raat hai
paai shab-e-baraat ye qismat ki baat hai

shab-e-baraat ! shab-e-baraat !
shab-e-baraat ! shab-e-baraat !

sajde karunga, ashk-e-nadaamat bahaaunga
sab kuchh milega mujh ko, 'inaayat ki raat hai

jaagunga saari raat, 'ibaadat ki raat hai
paai shab-e-baraat ye qismat ki baat hai

shab-e-baraat ! shab-e-baraat !
shab-e-baraat ! shab-e-baraat !

saara jahaan chho.D ke masjid chalo, Naadim !
rehmat hi rehmate.n hai.n, ye barkat ki raat hai

jaagunga saari raat, 'ibaadat ki raat hai
paai shab-e-baraat ye qismat ki baat hai

shab-e-baraat ! shab-e-baraat !
shab-e-baraat ! shab-e-baraat !


Naat-Khwaan:
Rao Ali Hasnain
Payi Shab e Barat Ye Kismat Ki Baat Hai Lyrics | Payi Shab e Barat Ye Qismat Ki Baat Hai Lyrics in Hindi | Jagunga Saari Raat Ibadat Ki Raat Hai Lyrics in Hindi | Payi Shabe Barat baraat sari | Aayi Shab e Barat Ye Kismat Ki Baat Hai Lyrics in Hindi lyrics of naat, naat lyrics in hindi, islamic lyrics, hindi me naat lyrics, hindi me naat likhi hui, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई, नात शरीफ की किताब हिंदी में, आला हजरत की नात शरीफ lyrics, हिंदी नात, Lyrics in English, Lyrics in Roman

Comments

Most Popular

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

ऐ ज़हरा के बाबा सुनें इल्तिजा मदीना बुला लीजिए / Aye Zahra Ke Baba Sunen Iltija Madina Bula Lijiye

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

बे-ख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Be-Khud Kiye Dete Hain Andaaz-e-Hijabana

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

कोई दुनिया-ए-अता में नहीं हमता तेरा | तज़मीन - वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा / Koi Duniya-e-Ata Mein Nahin Hamta Tera | Tazmeen of Waah ! Kya Jood-o-Karam Hai, Shah-e-Bat.ha ! Tera

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

कोई गुल बाक़ी रहेगा न चमन रह जाएगा / Koi Gul Baqi Rahega Na Chaman Reh Jayega

ताजदार-ए-हरम ऐ शहंशाह-ए-दीं | तुम पे हर दम करोड़ों दुरूद-ओ-सलाम / Tajdar-e-Haram Aye Shahanshah-e-Deen | Tum Pe Har Dam Karodon Durood-o-Salam