बन के रहमत कोई आता है चला जाता है / Ban Ke Rehmat Koi Aata Hai Chala Jata Hai

बन के रहमत कोई आता है, चला जाता है
सब को दामन में छुपाता है, चला जाता है

पाँव रुक जाते हैं सिदरा पे किसी के जा कर
और कोई आगे बढ़ाता है, चला जाता है

उन की आँखों से हर इक अश्क टपकने वाला
नार-ए-दोज़ख़ को बुझाता है, चला जाता है

ऐ शहंशाह-ए-मदीना ! ये महीना हज का
मुझ को हर साल रुलाता है, चला जाता है

कहते रह जाते थे कुफ़्फ़ार, 'अली मौला तो
आता है, सर को उड़ाता है, चला जाता है

सख़्त पहरे पे भी 'अब्बास-ए-'अलमदार-ए-वफ़ा
पानी चुल्लू में उठाता है, चला जाता है

मेरा साबिर वो वली है कि जनाज़ा अपना
आता है, ख़ुद ही पढ़ाता है, चला जाता है

जब भी घबराऊँ तो आता है मदीने से करम
मुझ को सीने से लगाता है, चला जाता है

हुक्म-ए-ख़्वाजा हो तो ख़ादिम भी अना-सागर को
एक कासे में उठाता है, चला जाता है

अब भी अजमेर में अब्दुल्लाह बयाबानी है
राह भटकों को दिखाता है, चला जाता है

मुश्किल आती है अगर कोई तो अशरफ़ का करम
मुझ को मुश्किल से छुड़ाता है, चला जाता है

एक ये भी तो करामत है मेरे अशरफ़ की
लड़की मूरत को बनाता है, चला जाता है

याद आता है जहाँ कर्ब-ओ-बला, ऐ अज़हर !
दिल में एक दर्द जगाता है, चला जाता है


शायर:
अज़हर फ़ारूक़ी बरेलवी

ना'त-ख़्वाँ:
मुहम्मद अली फ़ैज़ी





ban ke rehmat koi aata hai, chala jaata hai
sab ko daaman me.n chhupaata hai, chala jaata hai

paanw ruk jaate hai.n sidra pe kisi ke jaa kar
aur koi aage ba.Dhaata hai, chala jaata hai

un ki aankho.n se har ik ashk Tapakne waala
naar-e-dozaKH ko bujhaata hai, chala jaata hai

ai shanshaah-e-madina ! ye mahina hajj ka
mujh ko har saal rulaata hai, chala jaata hai

kehte reh jaate the kuffaar, 'ali maula to
aata hai, sar ko u.Daata hai, chala jaata hai

saKHt pehre pe bhi 'abbaas-e-'alamdaar-e-wafa
paani chullu me.n uThaata hai, chala jaata hai

mera saabir wo wali hai ki janaaza apna
aata hai KHud hi pa.Dhaata hai, chala jaata hai

jab bhi ghabraau.n to aata hai madine se karam
mujh ko seene se lagaata hai, chala jaata hai

hukm-e-KHwaja ho to KHaadim bhi ana-saagar ko
ek kaase me.n uThaata hai, chala jaata hai

ab bhi ajmer me.n abdullah bayaabaani hai
raah bhaTko.n ko dikhaata hai, chala jaata hai

mushkil aati hai agar koi to ashraf ka karam
mujh ko mushkil se chhu.Daata hai, chala jaata hai

ek ye bhi to karaamat hai mere ashraf ki
la.Dki moorat ko banaata hai, chala jaata hai

yaad aata hai jahaa.n karb-o-bala, ai Azhar !
dil me.n ek dard jagaata hai, chala jaata hai


Poet:
Azhar Farooqi Barelvi

Naat-Khwaan:
Muhammad Ali Faizi
Ban Ke Rehmat Koi Aata Hai Chala Jata Hai Lyrics | Ban Ke Rehmat Koi Aata Hai Chala Jata Hai Lyrics in Hindi | Ban Ke Rahmat Koi Aata Hai Lyrics | Muhammad Ali Faizi Naat Lyrics | lyrics of naat | naat lyrics in hindi | islamic lyrics | hindi me naat lyrics | hindi me naat likhi hui | All Naat Lyrics in Hindi | नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई | नात शरीफ की किताब हिंदी में | आला हजरत की नात शरीफ lyrics | हिंदी नात | Lyrics in English | Lyrics in Roman 50+ Naat Lyrics | Best Place To Find All Naat Sharif | 500+ Naat Lyrics | Best Site To Find All Naat in Hindi, English | 430 Naat lyrics ideas in 2024

Comments

Most Popular

मेरे हुसैन तुझे सलाम / Mere Husain Tujhe Salaam

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

मेरा बादशाह हुसैन है | ऐसा बादशाह हुसैन है / Mera Baadshaah Husain Hai | Aisa Baadshaah Husain Hai

ऐ ज़हरा के बाबा सुनें इल्तिजा मदीना बुला लीजिए / Aye Zahra Ke Baba Sunen Iltija Madina Bula Lijiye

अल्लाह की रज़ा है मोहब्बत हुसैन की | या हुसैन इब्न-ए-अली / Allah Ki Raza Hai Mohabbat Hussain Ki | Ya Hussain Ibne Ali

कर्बला के जाँ-निसारों को सलाम / Karbala Ke Jaan-nisaron Ko Salam

हुसैन तुम को ज़माना सलाम कहता है / Husain Tum Ko Zamana Salam Kehta Hai

हुसैन आज सर को कटाने चले हैं / Husain Aaj Sar Ko Katane Chale Hain

हम हुसैन वाले हैं / Hum Hussain Wale Hain