सर-ता-ब-क़दम है तन-ए-सुल्तान-ए-ज़मन फूल / Sar-Ta-Ba-Qadam Hai Tan-e-Sultan-e-Zaman Phool

सर-ता-ब-क़दम है तन-ए-सुल्तान-ए-ज़मन फूल
लब फूल दहन फूल ज़क़न फूल बदन फूल

सदक़े में तेरे बाग़ तो क्या लाए हैं बन फूल
इस ग़ुंचा-ए-दिल को भी तो ईमा हो कि बन फूल

तिनका भी हमारे तो हिलाए नहीं हिलता
तुम चाहो तो हो जाए अभी कोह-ए-मिहन फूल

वल्लाह जो मिल जाए मेरे गुल का पसीना
माँगे न कभी 'इत्र, न फिर चाहे दुल्हन फूल

दिल-बस्ता-ओ-ख़ूँ-गश्ता, न ख़ुश्बू न लताफ़त
क्यूँ ग़ुंचा कहूँ ? है मेरे आक़ा का दहन फूल

शब याद थी किन दाँतों की शबनम कि दम-ए-सुब्ह
शोख़ान-ए-बहारी के जड़ाऊ हैं करन-फूल

दंदान-ओ-लब-ओ-ज़ुल्फ़-ओ-रुख़-ए-शह के फ़िदाई
हैं दुर्र-ए-'अदन, ला'ल-ए-यमन, मुश्क-ए-ख़ुतन, फूल

बू हो कि निहाँ हो गए ताब-ए-रुख़-ए-शह में
लो बन गए हैं अब तो हसीनों का दहन फूल

हों बार-ए-गुनह से न ख़जिल दोश-ए-'अज़ीज़ाँ
लिल्लाह मेरी ना'श कर, ऐ जान-ए-चमन फूल

दिल अपना भी शैदाई है उस नाख़ुन-ए-पा का
इतना भी मह-ए-नौ पे न ऐ चर्ख़-ए-कुहन ! फूल

दिल खोल के ख़ूँ रो ले ग़म-ए-'आरिज़-ए-शह में
निकले तो कहीं हसरत-ए-ख़ूँ-नाबा शुदन फूल

क्या ग़ाज़ा मला गर्द-ए-मदीना का जो है आज
निखरे हुए जोबन में क़ियामत की फबन फूल

गर्मी ये क़ियामत है कि काँटे हैं ज़बाँ पर
बुलबुल को भी ऐ साक़ी-ए-सहबा-ओ-लबन फूल

है कौन कि गिर्या करे या फ़ातिहा को आए
बेकस के उठाए तेरी रहमत के भरन फूल

दिल ग़म तुझे घेरे हैं ख़ुदा तुझ को वो चमकाए
सूरज तेरे ख़िरमन को बने तेरी किरन फूल

क्या बात, रज़ा ! उस चमनिस्तान-ए-करम की
ज़हरा है कली जिस में, हुसैन और हसन फूल


शायर:
इमाम अहमद रज़ा ख़ान

ना'त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी
हाफ़िज़ फ़ैसल नूरी





sar-ta-ba-qadam hai tan-e-sultaan-e-zaman phool
lab phool dahan phool zaqan phool badan phool

sadqe me.n tere baaG to kya laae hai.n ban phool
is Guncha-e-dil ko bhi to ima ho ki ban phool

tinka bhi hamaare to hilaae nahi.n hilta
tum chaaho to ho jaae abhi koh-e-mihan phool

wallah jo mil jaae mere gul ka paseena
maange na kabhi 'itr, na phir chaahe dulhan phool

dil-basta-o-KHoo.n-gashta, na KHushboo na lataafat
kyu.n Guncha kahu.n ? hai mere aaqa ka dahan phool

shab yaad thi kin daanto.n ki shabnam ki dam-e-sub.h
shoKHaan-e-bahaari ke ja.Daau hai.n karan-phool

dandaan-o-lab-o-zulf-o-ruKH-e-shah ke fidaai
hai.n durr-e-'adan, laa'l-e-yaman, mushk-e-KHutan, phool

bu ho ki nihaa.n ho gae taab-e-ruKH-e-shah me.n
lo ban gae hai.n ab to haseeno.n ka dahan phool

ho.n baar-e-gunah se na KHajil dosh-e-'azeezaa.n
lillah meri naa'sh kar, ai jaan-e-chaman phool

dil apna bhi shaidaai hai us naaKHun-e-paa ka
itna bhi mah-e-nau pe na ai charKH-e-kuhan ! phool

dil khol ke KHoo.n ro le Gam-e-'aariz-e-shah me.n
nikle to kahi.n hasrat-e-KHoo.n-naaba shudan phool

kya Gaaza mala gard-e-madina ka jo hai aaj
nikhre hue joban me.n qiyaamat ki phaban phool

garmi ye qiyaamat hai ki kaanTe hai.n zabaa.n par
bulbul ko bhi ai saaqi-e-sahba-o-laban phool

hai kaun ki girya kare ya faatiha ko aae
bekas ke uThaae teri rahmat ke bharan phool

dil Gam tujhe ghere hai.n KHuda tujh ko wo chamkaae
sooraj tere KHirman ko bane teri kiran phool

kya baat, Raza ! us chamanistaan-e-karam ki
zahra hai kali jis me.n, husain aur hasan phool


Poet:
Imam Ahmad Raza Khan

Naat-Khwaan:
Owais Raza Qadri
Hafiz Faisal Noori
Sar Ta Ba Qadam Hai Tane Sultane Zaman Phool Lyrics | Sar Ta Ba Qadam Hai Tan e Sultan e Zaman Phool Lyrics in Hindi | Sar Ta Ba Qadam Lyrics | fool hei hain hein lyrics of naat | naat lyrics in hindi | islamic lyrics | hindi me naat lyrics | hindi me naat likhi hui | All Naat Lyrics in Hindi | नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई | नात शरीफ की किताब हिंदी में | आला हजरत की नात शरीफ lyrics | हिंदी नात | Lyrics in English | Lyrics in Roman 50+ Naat Lyrics | Best Place To Find All Naat Sharif | 500+ Naat Lyrics | Best Site To Find All Naat in Hindi, English | 430 Naat lyrics ideas in 2024

Comments

Post a Comment

Most Popular

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

ऐ ज़हरा के बाबा सुनें इल्तिजा मदीना बुला लीजिए / Aye Zahra Ke Baba Sunen Iltija Madina Bula Lijiye

बेख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Bekhud Kiye Dete Hain Andaz-e-Hijabana

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

कोई दुनिया-ए-अता में नहीं हमता तेरा | तज़मीन - वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा / Koi Duniya-e-Ata Mein Nahin Hamta Tera | Tazmeen of Waah ! Kya Jood-o-Karam Hai, Shah-e-Bat.ha ! Tera

ज़िंदगी ये नहीं है किसी के लिए | वल्लाह वल्लाह / Zindagi Ye Nahin Hai Kisi Ke Liye | Wallah Wallah

जहाँ-बानी अता कर दें भरी जन्नत हिबा कर दें | मुनव्वर मेरी आँखों को मेरे शम्सुद्दुहा कर दें / Jahan-bani Ata Kar Den Bhari Jannat Hiba Kar Den | Muanawwar Meri Aankhon Ko Mere Shamsudduha Kar Den