मैं बंदा-ए-आसी हूँ ख़ता-कार हूँ मौला / Main Banda-e-Aasi Hoon Khata-kar Hoon Maula

बे-नवाओं की नवा सुनता है
इल्तिजा सब की ख़ुदा सुनता है
हम कि बंदे हैं सना करते हैं
वो कि ख़ालिक़ है सदा सुनता है

मैं बंदा-ए-'आसी हूँ, ख़ता-कार हूँ, मौला !
लेकिन तेरी रहमत का तलबगार हूँ, मौला !

मैं बंदा-ए-'आसी हूँ, ख़ता-कार हूँ, मौला !

वाबस्ता है उम्मीद मेरी तेरे करम से
तेरा हूँ, फ़क़त तेरा परस्तार हूँ, मौला !

मैं बंदा-ए-'आसी हूँ, ख़ता-कार हूँ, मौला !

इक तेरा इशारा हो और आसान हो मुश्किल
इक लहर उठे और मैं उस पार हूँ, मौला !

मैं बंदा-ए-'आसी हूँ, ख़ता-कार हूँ, मौला !

इक तेरा इशारा हो और आसान हो मंज़िल
इक लहर उठे और मैं उस पार हूँ, मौला !

मैं बंदा-ए-'आसी हूँ, ख़ता-कार हूँ, मौला !

जिन से मैं गुज़र जाऊँ, वो दर खोल दे मुझ में
ख़ुद अपने ही रस्ते की मैं दीवार हूँ, मौला !

मैं बंदा-ए-'आसी हूँ, ख़ता-कार हूँ, मौला !

बाहर के उजाले मुझे क्या राह सुझाएँ !
अंदर के अँधेरों में गिरफ़्तार हूँ, मौला !

मैं बंदा-ए-'आसी हूँ, ख़ता-कार हूँ, मौला !

फिर तू मेरे ईमाँ को तवानाई 'अता कर
बरसों नहीं सदियों से मैं बीमार हूँ, मौला !

मैं बंदा-ए-'आसी हूँ, ख़ता-कार हूँ, मौला !

ना'त-ख़्वाँ:
ख़ालिद हसनैन ख़ालिद
सय्यिद हस्सानुल्लाह हुसैनी



माना कि गुनाहों में गिरफ़्तार हूँ, मौला !
पर तेरी 'अताओं का तलबगार हूँ, मौला !

तू मेरी ख़ताओं को 'अताओं में बदल दे
बिन तेरी 'अताओं के मैं लाचार हूँ, मौला !

भटका हुआ राही हूँ, सही राह दिखा दे
रंगीनी-ए-दुनिया से मैं बेज़ार हूँ, मौला !

इस रात के सदक़े में ख़ता माफ़ हो मेरी
मैं अपनी ख़ताओं पे शरमसार हूँ, मौला !

पहचान, जुनैद ! उन की सना हश्र में होगी
निस्बत के बिना उन की मैं बेकार हूँ, मौला !


शायर:
जुनैद क़ासमी

ना'त-ख़्वाँ:
सय्यिद हस्सानुल्लाह हुसैनी





be-nawaao.n ki nawaa sunta hai
iltija sab ki KHuda sunta hai
ham ki bande hai.n sanaa karte hai.n
wo ki KHaaliq hai sadaa sunta hai

mai.n banda-e-'aasi hu.n, KHata-kaar hu.n, maula !
lekin teri rahmat ka talabgaar hu.n, maula !

mai.n banda-e-'aasi hu.n, KHata-kaar hu.n, maula !

waabsta hai ummeed meri tere karam se
tera hu.n, faqat tera parastaar hu.n, maula !

mai.n banda-e-'aasi hu.n, KHata-kaar hu.n, maula !

ik tera ishaara ho aur aasaan ho mushkil
ik lahar uThe aur mai.n us paar hu.n, maula !

mai.n banda-e-'aasi hu.n, KHata-kaar hu.n, maula !

ik tera ishaara ho aur aasaan ho manzil
ik lahar uThe aur mai.n us paar hu.n, maula !

mai.n banda-e-'aasi hu.n, KHata-kaar hu.n, maula !

jin se mai.n guzar jaau.n, wo dar khol de mujh me.n
KHud apne hi raste ki mai.n deewaar hu.n, maula !

mai.n banda-e-'aasi hu.n, KHata-kaar hu.n, maula !

baahar ke ujaale mujhe kya raah sujhaae.n !
andar ke andhero.n me.n giraftaar hu.n, maula !

mai.n banda-e-'aasi hu.n, KHata-kaar hu.n, maula !

phir tu mere imaa.n ko tawaanaai 'ata kar
barso.n nahi.n sadiyo.n se mai.n beemaar hu.n, maula !

mai.n banda-e-'aasi hu.n, KHata-kaar hu.n, maula !

Naat-Khwaan:
Khalid Hasnain Khalid
Syed Hassan Ullah Hussaini



maana ki gunaaho.n me.n giraftaar hu.n, maula !
par teri 'ataao.n ka talabgaar hu.n, maula !

tu meri KHataao.n ko 'ataao.n me.n badal de
bin teri 'ataao.n ke mai.n laachaar hu.n, maula !

bhaTka huaa raahi hu.n, sahi raah dikha de
rangeeni-e-duniya se mai.n bezaar hu.n, maula !

is raat ke sadqe me.n KHata maaf ho meri
mai.n apni KHataao.n pe sharamsaar hu.n, maula !

pehchaan, Junaid ! un ki sana hashr me.n hogi
nisbat ke bina un ki mai.n bekaar hu.n, maula !


Poet:
Junaid Qasmi

Naat-Khwaan:
Syed Hassan Ullah Hussaini
Main Banda e Aasi Hoon Lyrics in Hindi, Main Banda e Aasi Hun Lyrics, Main Banda e Aasi Hoon Khatakar Hoon Maula Lyrics in Hindi, Khalid Hasnain Khalid Naats me mein mei mai hu hoo khatakaar moula mawla moala mowla asi hu hon lyrics of naat, naat lyrics in hindi, islamic lyrics, hindi me naat lyrics, hindi me naat likhi hui, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई, नात शरीफ की किताब हिंदी में, आला हजरत की नात शरीफ lyrics, हिंदी नात, Lyrics in English, Lyrics in Roman

Comments

Post a Comment

Most Popular

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

ऐ ज़हरा के बाबा सुनें इल्तिजा मदीना बुला लीजिए / Aye Zahra Ke Baba Sunen Iltija Madina Bula Lijiye

बेख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Bekhud Kiye Dete Hain Andaz-e-Hijabana

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

कोई दुनिया-ए-अता में नहीं हमता तेरा | तज़मीन - वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा / Koi Duniya-e-Ata Mein Nahin Hamta Tera | Tazmeen of Waah ! Kya Jood-o-Karam Hai, Shah-e-Bat.ha ! Tera

बुला लो फिर मुझे ऐ शाह-ए-बहर-ओ-बर मदीने में / Bula Lo Phir Mujhe Aye Shah-e-Bahr-o-Bar Madine Mein

ऐ सबा मुस्तफ़ा से कह देना ग़म के मारे सलाम कहते हैं / Aye Saba Mustafa Se Keh Dena Gham Ke Mare Salam Kehte Hain (All Versions)