मुस्तफ़ा के पाले हैं हम बरेली वाले हैं / Mustafa Ke Pale Hain Hum Bareilly Wale Hain

मुस्तफ़ा के पाले हैं, हम बरेली वाले हैं
दिल से भोले-भाले हैं, हम बरेली वाले हैं

दम रज़ा का भरते हैं, हम बरेली वाले हैं
ख़्वाजा ख़्वाजा करते हैं, हम बरेली वाले हैं

ना'त-ए-मुस्तफ़ा पढ़ के, ज़िक्र-ए-औलिया कर के
छठी हम मनाते हैं, हम बरेली वाले हैं

मस्लक-ए-मु'ईनुद्दीं ही रज़ा का मस्लक है
सब को ये बताते हैं, हम बरेली वाले हैं

सुन्नियत के जितने भी दहर में सलासिल हैं
उन सभी के ना'रे हैं, हम बरेली वाले हैं

मस्लक-ए-रज़ा से हर बातिल क़ौम चिढ़ती है
हक़ पर हैं जो कहते हैं, हम बरेली वाले हैं

डगमगा नहीं सकते मिस्ल-ए-सुल्ह-ए-कुल्ली हम
मुस्तहकम 'अक़ीदे हैं, हम बरेली वाले हैं

सिद्दीक़-ओ-'उमर, 'उस्माँ, मुर्तज़ा भी हैं अपने
हर-सू बोल-बाले हैं, हम बरेली वाले हैं

ख़ादिम-ए-सहाबा हैं, हम गदा-ए-अहल-ए-बैत
ए'तिदाल वाले हैं, हम बरेली वाले हैं

ग़ौस के हैं शैदाई, अशरफ़ के हैं मतवाले
ख़्वाजा के दीवाने हैं, हम बरेली वाले हैं

दा'वा-ए-हुब्ब-ए-ख़्वाजा, राफ़िज़ी का झूटा है
ख़्वाजा बस हमारे हैं, हम बरेली वाले हैं

हामिद-ओ-रज़ा, नूरी से जुड़ा है दिल का तार
इन से दिल के रिश्ते हैं, हम बरेली वाले हैं

मक्र-ए-ताहिर पर अख़्तर ने ये उस से फ़रमाया
रस्ते देखे भाले हैं, हम बरेली वाले हैं

सुन्नियों के रहबर हैं अल्लामा-ओ-'अस्जद अब
ये दोनों भी कहते हैं, हम बरेली वाले हैं

दुनिया के किसी ख़ित्ते से त'अल्लुक़ हो लेकिन
सब यहीं पुकारे हैं, हम बरेली वाले हैं

सीम-ओ-ज़र की लालच में बेचते हैं वो ईमाँ
सौदे में ख़सारे हैं, हम बरेली वाले हैं

ज़ुल्मत के तलातुम का हम को कुछ नहीं खटका
नूर हैं, उजाले हैं, हम बरेली वाले हैं

दहशत-ए-रज़ा हम ने देखी वो मुजावर में
शुक्र-ए-हक़ बजाते हैं, हम बरेली वाले हैं

बातिलों से कह दीजे छेड़े न हमें, अय्यूब !
आ'ला हज़रत वाले हैं, हम बरेली वाले हैं


शायर:
मुहम्मद अय्यूब रज़ा अमजदी

ना'त-ख़्वाँ:
साबिर रज़ा अज़हरी सूरत
हाफ़िज़ ग़ुलाम मुस्तफ़ा क़ादरी





mustafa ke paale hai.n, ham bareilly waale hai.n
dil se bhole-bhaale hai.n, ham bareilly waale hai.n

dam raza ka bharte hai.n, ham bareilly waale hai.n
KHwaja KHwaja karte hai.n, ham bareilly waale hai.n

naa't-e-mustafa pa.Dh ke, zikr-e-auliya kar ke
chhaThi ham manaate hai.n, ham bareilly waale hai.n

maslak-e-mu'eenuddi.n hi raza ka maslak hai
sab ko ye bataate hai.n, ham bareilly waale hai.n

sunniyat ke jitne bhi dahr me.n salaasil hai.n
un sabhi ke naa're hai.n, ham bareilly waale hai.n

maslak-e-raza se har baatil qaum chi.Dhti hai
haq par hai.n jo kehte hai.n, ham bareilly waale hai.n

Dagmaga nahi.n sakte misl-e-sulh-e-kulli ham
mustahkam 'aqeede hai.n, ham bareilly waale hai.n

siddiq-o-'umar, 'usmaa.n, murtaza bhi hai.n apne
har-soo bol-baale hai.n, ham bareilly waale hai.n

KHaadim-e-sahaaba hai.n, ham gada-e-ahl-e-bait
e'tidaal waale hai.n, ham bareilly waale hai.n

Gaus ke hai.n shaidaai, ashraf ke hai.n matwaale
KHwaja ke deewane hai.n, ham bareilly waale hai.n

daa'wa-e-hubb-e-KHwaja, raafizi ka jhooTa hai
KHwaja bas hamaare hai.n, ham bareilly waale hai.n

haamid-o-raza, noori se ju.Da hai dil ka taar
in se dil ke rishte hai.n, ham bareilly waale hai.n

makr-e-taahir par aKHtar ne ye us se farmaaya
raste dekhe bhaale hai.n, ham bareilly waale hai.n

sunniyo.n ke rahbar hai.n allama-o-'asjad ab
ye dono.n bhi kehte hai.n, ham bareilly waale hai.n

duniya ke kisi KHitte se ta'alluq ho lekin
sab yahi.n pukaare hai.n, ham bareilly waale hai.n

seem-o-zar ki laalach me.n bechte hai.n wo imaa.n
saude me.n KHasaare hai.n, ham bareilly waale hai.n

zulmat ke talaatum ka ham ko kuchh nahi.n khaTka
noor hai.n, ujaale hai.n, ham bareilly waale hai.n

dahshat-e-raza ham ne dekhi wo mujaawar me.n
shukr-e-haq bajaate hai.n, ham bareilly waale hai.n

baatilo.n se keh deeje chhe.De na hame.n, Ayyub !
aa'la hazrat waale hai.n, ham bareilly waale hai.n


Poet:
Muhammad Ayyub Raza Amjadi

Naat-Khwaan:
Sabir Raza Azhari Surat
Hafiz Ghulam Mustafa Qadri
Mustafa Ke Pale Hain Hum Bareilly Wale Hain Lyrics in Hindi | Hum Bareilly Wale Hain Lyrics in English | Mustafa Ke Paale Hain Hum Bareilly Wale Hain Lyrics | hai hei hein bareli lyrics of naat | naat lyrics in hindi | islamic lyrics | hindi me naat lyrics | hindi me naat likhi hui | All Naat Lyrics in Hindi | नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई | नात शरीफ की किताब हिंदी में | आला हजरत की नात शरीफ lyrics | हिंदी नात | Lyrics in English | Lyrics in Roman 50+ Naat Lyrics | Best Place To Find All Naat Sharif | 500+ Naat Lyrics | Best Site To Find All Naat in Hindi, English | 430 Naat lyrics ideas in 2023

Comments

Most Popular

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

ऐ ज़हरा के बाबा सुनें इल्तिजा मदीना बुला लीजिए / Aye Zahra Ke Baba Sunen Iltija Madina Bula Lijiye

बेख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Bekhud Kiye Dete Hain Andaz-e-Hijabana

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

कोई दुनिया-ए-अता में नहीं हमता तेरा | तज़मीन - वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा / Koi Duniya-e-Ata Mein Nahin Hamta Tera | Tazmeen of Waah ! Kya Jood-o-Karam Hai, Shah-e-Bat.ha ! Tera

बुला लो फिर मुझे ऐ शाह-ए-बहर-ओ-बर मदीने में / Bula Lo Phir Mujhe Aye Shah-e-Bahr-o-Bar Madine Mein

ऐ सबा मुस्तफ़ा से कह देना ग़म के मारे सलाम कहते हैं / Aye Saba Mustafa Se Keh Dena Gham Ke Mare Salam Kehte Hain (All Versions)