ताजदार-ए-हरम ऐ शहंशाह-ए-दीं | तुम पे हर दम करोड़ों दुरूद-ओ-सलाम / Tajdar-e-Haram Aye Shahanshah-e-Deen | Tum Pe Har Dam Karodon Durood-o-Salam

ताजदार-ए-हरम, ऐ शहंशाह-ए-दीं !
तुम पे हर दम करोड़ों दुरूद-ओ-सलाम
हो करम मुझ पे, या सय्यिदल-मुरसलीं !
तुम पे हर दम करोड़ों दुरूद-ओ-सलाम

दूर रह कर न दम टूट जाए कहीं
काश ! तयबा में, ऐ मेरे माह-ए-मुबीं !
दफ़्न होने को मिल जाए दो गज़ ज़मीं
तुम पे हर दम करोड़ों दुरूद-ओ-सलाम

कोई हुस्न-ए-'अमल पास मेरे नहीं
फँस न जाऊँ क़ियामत में मौला कहीं
ऐ शफ़ी'-ए़-उमम ! लाज रखना तुम्हीं
तुम पे हर दम करोड़ों दुरूद-ओ-सलाम

दोनों 'आलम में कोई भी तुम सा नहीं
सब हसीनों से बढ़ कर के तुम हो हसीं
क़ासिम-ए-रिज़्क़-ए-रब्ब-उल-'उला हो तुम्हीं
तुम पे हर दम करोड़ों दुरूद-ओ-सलाम

फ़िक्र-ए-उम्मत में रातों को रोते रहे
'आसियों के गुनाहों को धोते रहे
तुम पे क़ुर्बान जाऊँ, मेरे मह-ज़बीं !
तुम पे हर दम करोड़ों दुरूद-ओ-सलाम

फूल रहमत के हर दम लुटाते रहे
याँ ग़रीबों की बिगड़ी बनाते रहे
हौज़-ए-कौसर पे मत भूल जाना कहीं
तुम पे हर दम करोड़ों दुरूद-ओ-सलाम

ज़ुल्म, कुफ़्फ़ार के हँस के सहते रहे
फिर भी हर आन हक़ बात कहते रहे
कितनी मेहनत से की तुम ने तब्लीग़-ए-दीं
तुम पे हर दम करोड़ों दुरूद-ओ-सलाम

मौत के वक़्त कर दो निगाह-ए-करम
काश ! इस शान से ये निकल जाए दम
संग-ए-दर पर तुम्हारे हो मेरी जबीं
तुम पे हर दम करोड़ों दुरूद-ओ-सलाम

अब मदीने में हम को बुला लीजिए
और सीना मदीना बना दीजिए
अज़-प-ए-ग़ौस-ए-आ'ज़म, इमाम-ए-मुबीं !
तुम पे हर दम करोड़ों दुरूद-ओ-सलाम

'इश्क़ से तेरे मा'मूर सीना रहे
लब पे हर दम मदीना-मदीना रहे
बस मैं दीवाना बन जाऊँ, सुल्तान-ए-दीं !
तुम पे हर दम करोड़ों दुरूद-ओ-सलाम

दूर हो जाएँ दुनिया के रंज-ओ-अलम
हो 'अता अपना ग़म, दीजिए चश्म-ए-नम
माल-ओ-दौलत की कसरत का तालिब नहीं
तुम पे हर दम करोड़ों दुरूद-ओ-सलाम

अब बुला लो मदीने में 'अत्तार को
अपने क़दमों में रख लो गुनहगार को
कोई इस के सिवा आरज़ू ही नहीं
तुम पे हर दम करोड़ों दुरूद-ओ-सलाम


शायर:
मुहम्मद इल्यास अत्तार क़ादरी

ना'त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी





taajdaar-e-haram, ai shahanshah-e-dee.n !
tum pe har dam karo.Do.n durood-o-salaam
ho karam mujh pe, ya sayyid-al-mursalee.n !
tum pe har dam karo.Do.n durood-o-salaam

door rah kar na dam TooT jaae kahi.n
kaash ! tayba me.n, ai mere maah-e-mubee.n !
dafn hone ko mil jaae do gaz zamee.n
tum pe har dam karo.Do.n durood-o-salaam

koi husn-e-'amal paas mere nahi.n
phans na jaau.n qiyaamat me.n maula kahi.n
ai shafi'-e-umam ! laaj rakhna tumhi.n
tum pe har dam karo.Do.n durood-o-salaam

dono.n 'aalam me.n koi bhi tum saa nahi.n
sab haseeno.n se ba.Dh kar ke tum ho hasee.n
qaasim-e-rizq-e-rabb-ul-'ula ho tumhi.n
tum pe har dam karo.Do.n durood-o-salaam

fikr-e-ummat me.n raato.n ko rote rahe
'aasiyo.n ke gunaaho.n ko dhote rahe
tum pe qurbaan jaau.n, mere mah-zabee.n !
tum pe har dam karo.Do.n durood-o-salaam

phool rahmat ke har dam luTaate rahe
yaa.n Gareebo.n ki big.Di banaate rahe
hauz-e-kausar pe mat bhool jaana kahi.n
tum pe har dam karo.Do.n durood-o-salaam

zulm, kuffaar ke hans ke sehte rahe
phir bhi har aan haq baat kehte rahe
kitni mehnat se ki tum ne tableeG-e-dee.n
tum pe har dam karo.Do.n durood-o-salaam

maut ke waqt kar do nigaah-e-karam
kaash ! is shaan se ye nikal jaae dam
sang-e-dar par tumhaareho meri jabee.n
tum pe har dam karo.Do.n durood-o-salaam

ab madine me.n ham ko bula lijiye
aur seena madina bana dijiye
az-pa-e-Gaus-e-aa'zam, imaam-e-mubee.n !
tum pe har dam karo.Do.n durood-o-salaam

'ishq se tere maa'moor seena rahe
lab pe har dam madina-madina rahe
bas mai.n deewaana ban jaau.n, sultaan-e-dee.n !
tum pe har dam karo.Do.n durood-o-salaam

door ho jaae.n duniya ke ranj-o-alam
ho 'ata apna Gam, dijiye chashm-e-nam
maal-o-daulat ki kasrat ka taalib nahi.n
tum pe har dam karo.Do.n durood-o-salaam

ab bula lo madine me.n 'Attar ko
pane qadmo.n me.n rakh lo gunahgaar ko
koi is ke siwa aarzoo hi nahi.n
tum pe har dam karo.Do.n durood-o-salaam


Poet:
Muhammad Ilyas Attar Qadri

Naat-Khwaan:
Owais Raza Qadri
Tajdar e Haram Aye Shahenshah e Deen Lyrics | Tajdar e Haram Ae Shahenshah e Deen Lyrics in Hindi | Tum Pe Har Dam Karoron Durood o Salam Lyrics Hindi | tajdare haram salam lyrics in hindi |taajdar tajdaar ae ai ay din di dee tumpe karoro karodo durud lyrics of naat, naat lyrics in hindi, islamic lyrics, hindi me naat lyrics, hindi me naat likhi hui, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई, नात शरीफ की किताब हिंदी में, आला हजरत की नात शरीफ lyrics, हिंदी नात, Lyrics in English, Lyrics in Roman

Comments

Post a Comment

Most Popular

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

ऐ ज़हरा के बाबा सुनें इल्तिजा मदीना बुला लीजिए / Aye Zahra Ke Baba Sunen Iltija Madina Bula Lijiye

बेख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Bekhud Kiye Dete Hain Andaz-e-Hijabana

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

कोई दुनिया-ए-अता में नहीं हमता तेरा | तज़मीन - वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा / Koi Duniya-e-Ata Mein Nahin Hamta Tera | Tazmeen of Waah ! Kya Jood-o-Karam Hai, Shah-e-Bat.ha ! Tera

ज़िंदगी ये नहीं है किसी के लिए | वल्लाह वल्लाह / Zindagi Ye Nahin Hai Kisi Ke Liye | Wallah Wallah

जहाँ-बानी अता कर दें भरी जन्नत हिबा कर दें | मुनव्वर मेरी आँखों को मेरे शम्सुद्दुहा कर दें / Jahan-bani Ata Kar Den Bhari Jannat Hiba Kar Den | Muanawwar Meri Aankhon Ko Mere Shamsudduha Kar Den