बुला लो फिर मुझे ऐ शाह-ए-बहर-ओ-बर मदीने में / Bula Lo Phir Mujhe Aye Shah-e-Bahr-o-Bar Madine Mein

बुला लो फिर मुझे, ऐ शाह-ए-बहर-ओ-बर ! मदीने में
मैं फिर रोता हुवा आऊँ तेरे दर पर मदीने में

मैं पहुँचूँ कू-ए-जानाँ में गिरेबाँ-चाक, सीना-चाक
गिरा दे काश ! मुझ को शौक़ तड़पा कर मदीने में

मदीने जाने वालो ! जाओ जाओ, फ़ी-अमानिल्लाह
कभी तो अपना भी लग जाएगा बिस्तर मदीने में

सलाम-ए-शौक़ कहना, हाजियो ! मेरा भी रो रो कर
तुम्हें आए नज़र जब रौज़-ए-अनवर मदीने में

पयाम-ए-शौक़ लेते जाओ मेरा, क़ाफ़िले वालो !
सुनाना दास्तान-ए-ग़म मेरी रो कर मदीने में

मेरा ग़म भी तो देखो, मैं पड़ा हूँ दूर तयबा से
सुकूँ पाएगा बस मेरा दिल-ए-मुज़्तर मदीने में

न हो मायूस, दीवानो ! पुकारे जाओ तुम उन को
बुलाएँगे तुम्हें भी एक दिन सरवर मदीने में

बुला लो हम ग़रीबों को बुला लो, या रसूलल्लाह !
प-ए-शब्बीर-ओ-शब्बर-फ़ातिमा-हैदर मदीने में

ख़ुदाया ! वासिता देता हूँ मेरे ग़ौस-ए-आ'ज़म का
दिखा दे सब्ज़-गुंबद का हसीं मंज़र मदीने में

वसीला तुझ को बू-बक्र-ओ-'उमर, 'उस्मान-ओ-हैदर का
इलाही ! तू 'अता कर दे हमें भी घर मदीने में

मदीने जब मैं पहुँचू काश ! ऐसा कैफ़ तारी हो
कि रोते रोते गिर जाऊँ मैं ग़श खा कर मदीने में

निकाब-ए-रुख़ उलट जाए, तेरा जल्वा नज़र आए
जब आए काश ! तेरा साइल-ए-बे-पर मदीने में

जो तेरी दीद हो जाए तो मेरी 'ईद हो जाए
ग़म अपना दे मुझे 'ईदी में बुलवा कर मदीने में

मदीने जूँ ही पहुँचा अश्क जारी हो गए मेरे
दम-ए-रुख़्सत भी रोया हिचकियाँ भर कर मदीने में

मदीने की जुदाई 'आशिक़ों पर शाक़ होती है
वो रोते हैं तड़प कर, हिचकियाँ भर कर मदीने में

कहीं भी सोज़ है दुनिया के गुलज़ारों में बाग़ों में ?
फ़ज़ा पुर-कैफ़ है लो देख लो आ कर मदीने में

वहाँ इक साँस मिल जाए येही है ज़ीस्त का हासिल
वो क़िस्मत का धनी है जो गया दम भर मदीने में

मदीना जन्नतुल-फ़िरदौस से भी औला-ओ-आ'ला
रसूल-ए-पाक का है रौज़ा-ए-अनवर मदीने में

चलो चौखट पे उन की रख के सर क़ुर्बान हो जाएँ
हयात-ए-जावेदानी पाएँगे मर कर मदीने में

मदीना मेरा सीना हो, मेरा सीना मदीना हो
मदीना दिल के अंदर हो, दिल-ए-मुज़्तर मदीने में

मुझे नेकी की दा'वत के लिए रख्खो जहाँ भी काश !
मैं ख़्वाबों में पहुँचता ही रहूँ अक्सर मदीने में

न दौलत दे, न सरवत दे, मुझे बस ये स'आदत दे
तेरे क़दमों में मर जाऊँ मैं रो रो कर मदीने में

'अता कर दो, 'अता कर दो बक़ी'-ए-पाक में मदफ़न
मेरी बन जाए तुर्बत, या शह-ए-कौसर ! मदीने में

मदीना इस लिए, 'अत्तार ! जान-ओ-दिल से है प्यारा
कि रहते हैं मेरे आक़ा, मेरे सरवर मदीने में


शायर:
मुहम्मद इल्यास अत्तार क़ादरी

ना'त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी





bula lo phir mujhe, ai shaah-e-bahr-o-bar ! madine me.n
mai.n phir rota huwa aau.n tere dar par madine me.n

mai.n pahunchu.n koo-e-jaanaa.n me.n gireba.n-chaak, seena-chaak
gira de kaash ! mujh ko shauq ta.Dpa kar madine me.n

madine jaane waalo ! jaao jaao, fee-amaanillah
kabhi to apna bhi lag jaaega bistar madine me.n

salaam-e-shauq kehna, haajiyo ! mera bhi ro ro kar
tumhe.n aae nazar jab rauz-e-anwar madine me.n

payaam-e-shauq lete jaao mera, qaafile waalo !
sunaana daastaan-e-Gam meri ro kar madine me.n

mera Gam bhi to dekho, mai.n pa.Da hu.n door tayba se
sukoo.n paaega bas mera dil-e-muztar madine me.n

na ho maayoos, deewaano ! pukaare jaao tum un ko
bulaaenge tumhe.n bhi ek din sarwar madine me.n

bula lo ham Gareebo.n ko bula lo, ya rasoolallah !
pa-e-shabbir-o-shabbar-faatima-haidar madine me.n

KHudaya ! waasita deta hu.n mere Gaus-e-aa'zam ka
dikha de sabz-gumbad ka hasee.n manzar madine me.n

waseela tujh ko bu-bakr-o-'umar, 'usmaan-o-haidar ka
ilaahi ! tu 'ata kar de hame.n bhi ghar madine me.n

madine jab mai.n pahunchu.n kaash ! aisa kaif taari ho
ki rote rote gir jaau.n mai.n Gash khaa kar madine me.n

nikaab-e-ruKH ulaT jaae, tera jalwa nazar aae
jab aae kaash ! tera saail-e-be-par madine me.n

jo teri deed ho jaae to meri 'eid ho jaae
Gam apna de mujhe 'eidi me.n bulwa kar madine me.n

madine joo.n hi pahuncha ashk jaari ho gae mere
dam-e-ruKHsat bhi roya hichkiya.n bhar kar madine me.n

madine ki judaai 'aashiqo.n par shaaq hoti hai
wo rote hai.n ta.Dap kar, hichkiya.n bhar kar madine me.n

kahi.n bhi soz hai duniya ke gulzaaro.n me.n baaGo.n me.n ?
faza pur-kaif hai lo dekh lo aa kar madine me.n

wahaa.n ik saans mil jaae yehi hai zeest ka haasil
wo qismat ka dhani hai jo gaya dam bhar madine me.n

madina jannatul-firdaus se bhi aula-o-aa'la
rasool-e-paak ka hai rauza-e-anwar madine me.n

chalo chaukhaT pe un ki rakh ke sar qurbaan ho jaae.n
hayaat-e-jaawedaani paaenge mar kar madine me.n

madina mera seena ho, mera seena madina ho
madina dil ke andar ho, dil-e-muztar madine me.n

mujhe neki ki da'wat ke liye rakhkho jahaa.n bhi kaash !
mai.n KHwaabo.n me.n pahunchta hi rahu.n aksar madine me.n

na daulat de, na sarwat de, mujhe bas ye sa'aadat de
tere qadmo.n me.n mar jaau.n mai.n ro ro kar madine me.n

'ata kar do, 'ata kar do baqee'-e-paak me.n madfan
meri ban jaae turbat, ya shah-e-kausar ! madine me.n

madina is liye, 'Attar ! jaan-o-dil se hai pyaara
ki rehte hai.n mere aaqa, mere sarwar madine me.n


Poet:
Muhammad Ilyas Attar Qadri

Naat-Khwaan:
Owais Raza Qadri
Bulalo Phir Mujhe Aye Shah e Behrobar Madine Mein Lyrics in Hindi | Bulalo Phir Mujhe Aye Shah e Bahrobar Madine Mein Lyrics in Hindi | Bulalo Phir Mujhe Lyrics | fir muje muzhe shahe behr o bar bahr behro bahro me | main phir rota huwa aaun tere dar par madine me Lyrics | lyrics of naat, naat lyrics in hindi, islamic lyrics, hindi me naat lyrics, hindi me naat likhi hui, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई | नात शरीफ की किताब हिंदी में | आला हजरत की नात शरीफ lyrics, हिंदी नात, Lyrics in English, Lyrics in Roman 50+ Naat Lyrics | Best Place To Find All Naat Sharif | 500+ Naat Lyrics | Best Site To Find All Naat in Hindi, English | 430 Naat lyrics ideas in 2023

Comments

Most Popular

मेरे हुसैन तुझे सलाम / Mere Husain Tujhe Salaam

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

मेरा बादशाह हुसैन है | ऐसा बादशाह हुसैन है / Mera Baadshaah Husain Hai | Aisa Baadshaah Husain Hai

ऐ ज़हरा के बाबा सुनें इल्तिजा मदीना बुला लीजिए / Aye Zahra Ke Baba Sunen Iltija Madina Bula Lijiye

अल्लाह की रज़ा है मोहब्बत हुसैन की | या हुसैन इब्न-ए-अली / Allah Ki Raza Hai Mohabbat Hussain Ki | Ya Hussain Ibne Ali

कर्बला के जाँ-निसारों को सलाम / Karbala Ke Jaan-nisaron Ko Salam

हुसैन तुम को ज़माना सलाम कहता है / Husain Tum Ko Zamana Salam Kehta Hai

हुसैन आज सर को कटाने चले हैं / Husain Aaj Sar Ko Katane Chale Hain

हम हुसैन वाले हैं / Hum Hussain Wale Hain