मस्लक-ए-आला-हज़रत सलामत रहे | या ख़ुदा चर्ख़-ए-इस्लाम पर ता-अबद / Maslak-e-Ala-Hazrat Salamat Rahe | Ya Khuda Charkh-e-Islam Par Ta-Abad

मस्लक-ए-आ'ला-हज़रत सलामत रहे
मस्लक-ए-आ'ला-हज़रत सलामत रहे

या ख़ुदा ! चर्ख़-ए-इस्लाम पर ता-अबद
मेरा ताज-ए-शरी'अत सलामत रहे

मस्लक-ए-आ'ला-हज़रत सलामत रहे
मस्लक-ए-आ'ला-हज़रत सलामत रहे

ऐ बरेली ! मेरा बाग़-ए-जन्नत है तू
या'नी जल्वा-गह-ए-आ'ला-हज़रत है तू
बिल-यक़ीं मर्कज़-ए-अहल-ए-सुन्नत है तू
ये तेरी मर्कज़िय्यत सलामत रहे

मस्लक-ए-आ'ला-हज़रत सलामत रहे
मस्लक-ए-आ'ला-हज़रत सलामत रहे

ना'रा फ़ैज़-ए-रज़ा का लगाता रहूँ
दुश्मनों के दिलों को जलाता रहूँ
और कलाम-ए-रज़ा मैं सुनाता रहूँ
फ़ैज़-ए-अहमद-रज़ा ता-क़यामत रहे

मस्लक-ए-आ'ला-हज़रत सलामत रहे
मस्लक-ए-आ'ला-हज़रत सलामत रहे

ऐ मुसलमान ! तू क्यूँ परेशान है
रहबरी को तेरी कंज़-उल-ईमान है
हर क़दम पर ये तेरा निगहबान है
चश्मा-ए-'इल्म-ओ-हिकमत सलामत रहे

मस्लक-ए-आ'ला-हज़रत सलामत रहे
मस्लक-ए-आ'ला-हज़रत सलामत रहे

रोज़-ए-महशर अगर मुझ से पूछे ख़ुदा
बोल आल-ए-रसूल तू लाया है क्या
'अर्ज़ कर दूँगा लाया हूँ अहमद रज़ा
या ख़ुदा ! ये अमानत सलामत रहे

मस्लक-ए-आ'ला-हज़रत सलामत रहे
मस्लक-ए-आ'ला-हज़रत सलामत रहे

लाख जलते रहें दुश्मनान-ए-रज़ा
कम न होंगे कभी मदह-ख़्वान-ए-रज़ा
कह रहे हैं सभी 'आशिक़ान-ए-रज़ा
फ़ैज़-ए-अहमद-रज़ा ता-क़यामत रहे

मस्लक-ए-आ'ला-हज़रत सलामत रहे
मस्लक-ए-आ'ला-हज़रत सलामत रहे


ना'त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी
मुहम्मद हस्सान रज़ा क़ादरी
जवेरिआ सलीम





maslak-e-aa'la-hazrat salaamat rahe
maslak-e-aa'la-hazrat salaamat rahe

ya KHuda ! charKH-e-islaam par taa-abad
mera taaj-e-sharee'at salamat rahe

maslak-e-aa'la-hazrat salaamat rahe
maslak-e-aa'la-hazrat salaamat rahe

ai bareli ! mera baaG-e-jannat hai tu
yaa'ni jalwa-gah-e-aa'la-hazrat hai tu
bil-yaqee.n markaz-e-ahl-e-sunnat hai tu
ye teri markaziyyat salaamat rahe

maslak-e-aa'la-hazrat salaamat rahe
maslak-e-aa'la-hazrat salaamat rahe

naa'ra faiz-e-raza ka lagaata rahu.n
dushmano.n ke dilo.n ko jalaata rahu.n
aur kalaam-e-raza mai.n sunaata rahu.n
faiz-e-ahmad-raza taa-qayaamat rahe

maslak-e-aa'la-hazrat salaamat rahe
maslak-e-aa'la-hazrat salaamat rahe

ai musalmaan ! tu kyu.n pareshaan hai
rahbari ko teri kanz-ul-imaan hai
har qadam par ye tera nigahbaan hai
chashma-e-'ilm-o-hikmat salaamat rahe

maslak-e-aa'la-hazrat salaamat rahe
maslak-e-aa'la-hazrat salaamat rahe

roz-e-mahshar agar mujh se poochhe KHuda
bol aal-e-rasool tu laaya hai kya
'arz kar doonga laaya hu.n ahmad raza
ya KHuda ! ye amaanat salaamat rahe

maslak-e-aa'la-hazrat salaamat rahe
maslak-e-aa'la-hazrat salaamat rahe

laakh jalte rahe.n dushmanaan-e-raza
kam na honge kabhi mad.h-KHwaan-e-raza
keh rahe hai.n sabhi 'aashiqaan-e-raza
faiz-e-ahmad-raza taa-qayaamat rahe

maslak-e-aa'la-hazrat salaamat rahe
maslak-e-aa'la-hazrat salaamat rahe


Naat-Khwaan:

Owais Raza Qadri
Muhammad Hassan Raza Qadri
Jaweria Saleem
Maslake Alahazrat Salamat Rahe Lyrics in Hindi, Maslak e Alahazrat Salamat Rahe Lyrics in English, Ya Khuda Charkhe Islam Par Lyrics in Hindi mera tajushariya salamat rahe naat lyrics maslak a'la aa'la aala aalahazrat a'lahazrat aa'lahazrat ta abad lyrics of naat, naat lyrics in hindi, islamic lyrics, hindi me naat lyrics, hindi me naat likhi hui, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई, नात शरीफ की किताब हिंदी में, आला हजरत की नात शरीफ lyrics, हिंदी नात, Lyrics in English, Lyrics in Roman

Comments

लोकप्रिय कलाम

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

मेरी उल्फ़त मदीने से यूँ ही नहीं मेरे आक़ा का रौज़ा मदीने में है / Meri Ulfat Madine Se Yun Hi Nahin Mere Aaqa Ka Rauza Madine Mein Hai

जश्न-ए-आमद-ए-रसूल, अल्लाह ही अल्लाह ! / Jashn-e-Aamad-e-Rasool, Allah Hi Allah !

हाल-ए-दिल किस को सुनाएँ, आप के होते हुए / Haal-e-Dil Kis Ko Sunaaen Aap Ke Hote Hue

अब तो बस एक ही धुन है के मदीना देखूं / Ab To Bas Ek Hi Dhun Hai Ke Madina Dekhun

बे-ख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Be-Khud Kiye Dete Hain Andaaz-e-Hijabana

गली गली सज गई शहर शहर सज गया | जो आमिना के लाल का मीलाद करेंगे / Gali Gali Saj Gai Shahar Shahar Saj Gaya | Jo Amina Ke Laal Ka Milad Karenge

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

उन का मँगता हूँ जो मँगता नहीं होने देते / Un Ka Mangta Hun Jo Mangta Nahin Hone Dete

नूर वाला आया है / Noor Wala Aaya Hai