जल्वा है नूर है कि सरापा रज़ा का है | वादी रज़ा की कोह-ए-हिमाला रज़ा का है / Jalwa Hai Noor Hai Ki Sarapa Raza Ka Hai | Wadi Raza Ki Koh-e-Himala Raza Ka Hai

जल्वा है, नूर है कि सरापा रज़ा का है
तस्वीर-ए-सुन्नियत है कि चेहरा रज़ा का है

वादी रज़ा की, कोह-ए-हिमाला रज़ा का है
जिस सम्त देखिये वो 'इलाक़ा रज़ा का है

जो उस ने लिख दिया है, सनद है वो दीन में
अहल-ए-क़लम की आबरू नुक़्ता रज़ा का है

किस की मजाल है जो नज़र भी मिला सके
दरबार-ए-मुस्तफ़ा में ठिकाना रज़ा का है

अगलों ने तो लिखा है बहुत 'इल्म-ए-दीन पर
जो कुछ है इस सदी में वो तन्हा रज़ा का है

दरिया फ़साहतों के रवाँ शा'इरी में हैं
ये सहल-ए-मुमतना' है कि लहज़ा रज़ा का है

दस्तार आ रही है ज़मीं पर जो सर उठे
कितना बुलंद आज फरेरा रज़ा का है

छूता है आसमान को मीनार 'अज़्म का
या'नी अटल पहाड़ इरादा रज़ा का है

अल्फ़ाज़ बह रहे हैं दलीलों की धार पर
चलता हुवा क़लम है कि धारा रज़ा का है

इस दौर-ए-पुर-फ़ितन में, नज़र ! ख़ुश-'अक़ीदगी
सरकार का करम है, वसीला रज़ा का है


शायर:
प्रोफ़ेसर जमील नज़र

ना'त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी
हाफ़िज़ ग़ुलाम मुस्तफ़ा क़ादरी





jalwa hai, noor hai ki saraapa raza ka hai
tasweer-e-sunniyat hai ki chehra raza ka hai

waadi raza ki, koh-e-himaala raza ka hai
jis samt dekhiye wo 'ilaaqa raza ka hai

jo us ne likh diya hai, sanad hai wo deen me.n
ahl-e-qalam ki aabroo nuqta raza ka hai

kis ki majaal hai jo nazar bhi mila sake
darbaar-e-mustafa me.n Thikaana raza ka hai

aglo.n ne to likha hai bahut 'ilm-e-deen par
jo kuchh hai is sadi me.n wo tanha raza ka hai

dariya fasaahato.n ke rawaa.n shaa'iri me.n hai.n
ye sahl-e-mumtana' hai ki lehza raza ka hai

dastaar aa rahi hai zamee.n par jo sar uThe
kitna buland aaj pharera raza ka hai

chhoota hai aasmaan ko minaar 'azm ka
yaa'ni aTal pahaa.D iraada raza ka hai

alfaaz beh rahe hai.n daleelo.n ki dhaar par
chalta huwa qalam hai ki dhaara raza ka hai

is daur-e-pur-fitan me.n, Nazar ! KHush-'aqeedgi
sarkaar ka karam hai, waseela raza ka hai


Poet:
Professor Jameel Nazar

Naat-Khwaan:
Owais Raza Qadri
Hafiz Ghulam Mustafa Qadri
Wadi Raza Ki Kohe Himala Lyrics, Wadi Raza Ki Koh e Himala Raza Ka Hai Lyrics in Hindi, Jalwa Hai Noor Hai Ke Sarapa Raza Ka Hai Lyrics in Hindi vadi vaadi waadi himaala himaalaa himaalya jalva nur hy hei lyrics of naat, naat lyrics in hindi, islamic lyrics, hindi me naat lyrics, hindi me naat likhi hui, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई, नात शरीफ की किताब हिंदी में, आला हजरत की नात शरीफ lyrics, हिंदी नात, Lyrics in English, Lyrics in Roman

Comments

लोकप्रिय कलाम

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

मेरी उल्फ़त मदीने से यूँ ही नहीं मेरे आक़ा का रौज़ा मदीने में है / Meri Ulfat Madine Se Yun Hi Nahin Mere Aaqa Ka Rauza Madine Mein Hai

जश्न-ए-आमद-ए-रसूल, अल्लाह ही अल्लाह ! / Jashn-e-Aamad-e-Rasool, Allah Hi Allah !

हाल-ए-दिल किस को सुनाएँ, आप के होते हुए / Haal-e-Dil Kis Ko Sunaaen Aap Ke Hote Hue

अब तो बस एक ही धुन है के मदीना देखूं / Ab To Bas Ek Hi Dhun Hai Ke Madina Dekhun

बे-ख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Be-Khud Kiye Dete Hain Andaaz-e-Hijabana

गली गली सज गई शहर शहर सज गया | जो आमिना के लाल का मीलाद करेंगे / Gali Gali Saj Gai Shahar Shahar Saj Gaya | Jo Amina Ke Laal Ka Milad Karenge

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

उन का मँगता हूँ जो मँगता नहीं होने देते / Un Ka Mangta Hun Jo Mangta Nahin Hone Dete

नूर वाला आया है / Noor Wala Aaya Hai