कोई दुनिया-ए-अता में नहीं हमता तेरा | तज़मीन - वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा / Koi Duniya-e-Ata Mein Nahin Hamta Tera | Tazmeen of Waah ! Kya Jood-o-Karam Hai, Shah-e-Bat.ha ! Tera

कोई दुनिया-ए-'अता में नहीं हमता तेरा
हो जो हातिम को मुयस्सर ये नज़ारा तेरा
कह उठे देख के बख़्शिश में ये रुत्बा तेरा
वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा
नहीं सुनता ही नहीं माँगने वाला तेरा

कुछ बशर होने के नाते तुझे ख़ुद सा जानें !
और कुछ महज़ पयामी ही ख़ुदा का जानें !
इन की औक़ात ही क्या है कि ये इतना जानें !
फ़र्श वाले तेरी शौकत का 'उलू क्या जानें !
ख़ुसरवा ! अ़र्श पे उड़ता है फरेरा तेरा

मुझ से ना-चीज़ पे है तेरी 'इनायत कितनी
तू ने हर गाम पे की मेरी हिमायत कितनी
क्या बताऊँ ! तेरी रहमत में है वुस'अत कितनी
एक मैं क्या ! मेरे 'इस्याँ की हक़ीक़त कितनी !
मुझ से सो लाख को काफ़ी है इशारा तेरा

नज़र-ए-'उश्शाक़-ए-नबी है ये मेरा हर्फ़-ए-ग़रीब
मिम्बर-ए-वा'ज़ पे लड़ते रहें आपस में ख़तीब
ये अक़ीदा रहे अल्लाह करे मुझ को नसीब
मैं तो मालिक ही कहूँगा कि हो मालिक के हबीब
या’नी महबूब-ओ-मुहिब में नहीं मेरा तेरा

कई पुश्तों से ग़ुलामी का ये रिश्ता है बहाल
यहीं तिफ़्ली-ओ-जवानी के बिताए मह-ओ-साल
अब बुढ़ापे में, ख़ुदारा ! हमें यूँ दर से न टाल
तेरे टुकड़ों पे पले ग़ैर की ठोकर पे न डाल
झिड़कियाँ खाएँ कहाँ छोड़ के सदक़ा तेरा

तुझ से हर-चंद वो हैं क़द्र-ओ-फ़ज़ाइल में रफ़ी'अ
कर, नसीर ! आज मगर फ़िक्र-ए-रज़ा की तौसी'अ
पास है उस के शफ़ा'अत का वसीला भी वक़ी'अ
तेरी सरकार में लाता है रज़ा उस को शफ़ी'अ
जो मेरा ग़ौस है और लाडला बेटा तेरा


कलाम:
इमाम अहमद रज़ा ख़ान

तज़मीन :
पीर नसीरुद्दीन नसीर

ना'त-ख़्वाँ:
सरवर हुसैन नक़्शबंदी - ज़ोहैब अशरफ़ी





koi duniya-e-'ata me.n nahi.n hamta tera
ho jo haatim ko muyassar ye nazaara tera
kah uThe dekh ke baKHshish me.n ye rutba tera
waah ! kya jood-o-karam hai, shah-e-bat.ha ! tera
nahi.n sunta hi nahi.n maangne waala tera

kuchh bashar hone ke naate tujhe KHud sa jaane.n
aur kuchh mahaz payaami hi KHuda ka jaane.n
in ki auqaat hi kya hai ki ye itna jaane.n
farsh waale teri shaukat ka 'uloo kya jaane.n
KHusrawaa ! arsh pe u.Dta hai farera tera

mujh se naa-cheez pe hai teri 'inaayat kitni
tu ne har gaam pe ki meri himaayat kitni
kya bataau.n ! teri rahmat me.n hai wus'at kitni
ek mai.n kya ! mere 'isyaa.n ki haqeeqat kitni
mujh se so laakh ko kaafi hai ishaara tera

nazr-e-'ushshaaq-e-nabi hai ye mera harf-e-Gareeb
mimbar-e-waa'z pe la.Dte rahe.n aapas me.n KHateeb
ye aqeeda rahe allah kare mujh ko naseeb
mai.n to maalik hi kahunga ki ho maalik ke habeeb
yaa'ni mahboob-o-muhib me.n nahi.n mera tera

kai pushto.n se Gulaami ka ye rishta hai bahaal
yahi.n tifli-o-jawaani ke bitaae mah-o-saal
ab bu.Dhaape me.n, KHudaara! hame.n yu.n dar se na Taal
tere Tuk.Do.n pe pale Gair ki Thokar pe na Daal
jhi.Dkiyaa.n khaae.n kahaa.n chho.D ke sadqa tera

tujh se har-chand wo hai.n qadr-o-fazaail me.n rafee'a
kar, Naseer ! aaj magar fikr-e-raza ki tausee'a
paas hai us ke shafaa'at ka waseela bhi waqee'a
teri sarkaar me.n laata hai Raza us ko shafee'a
jo mera Gaus hai aur laaDla beTa tera


Kalam:
Imam Ahmad Raza Khan

Tazmeen:
Peer Naseeruddin Naseer

Naat-Khwaan:
Sarwar Hussain Naqshbandi
Zohaib Ashrafi
Koi Duniya e Ata Me Nahi Hamta Tera Lyrics in Hindi, Wah Kya Joodo Karam Tazmeen Lyrics in Hindi, Tazmeen Naat Lyrics in Hindi, Pir Naseer Tazmeen,wah kya judo karam hai shahe batha tera lyrics in hindi,wah kya jood o karam hai shahe batha tera lyrics in hindi, bat-haa, Shah e bathaa, duniyae dunya e ataa men main nahin hamata tera dunia ataa mein nahin hamata naheen jud o he hei hain hein lyrics of naat, naat lyrics in hindi, islamic lyrics, hindi me naat lyrics, hindi me naat likhi hui, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई, नात शरीफ की किताब हिंदी में, आला हजरत की नात शरीफ lyrics, हिंदी नात, Lyrics in English, Lyrics in Roman

Comments

Post a Comment

Most Popular

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

बे-ख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Be-Khud Kiye Dete Hain Andaaz-e-Hijabana

वो जिस के लिए महफ़िल-ए-कौनैन सजी है | वो मेरा नबी, मेरा नबी, मेरा नबी है / Wo Jis Ke Liye Mehfil-e-Kaunain Saji Hai | Wo Mera Nabi, Mera Nabi, Mera Nabi Hai

नूरी महफ़िल पे चादर तनी नूर की / Noori Mehfil Pe Chadar Tani Noor Ki

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

पाई शब-ए-बरात ये क़िस्मत की बात है | जागूँगा सारी रात इबादत की रात है / Paai Shab-e-Barat Ye Qismat Ki Baat Hai | Jagunga Saari Raat Ibadat Ki Raat Hai