दुश्मन-ए-आला-हज़रत से मत प्यार कर | जो रज़ा का नहीं वो हमारा नहीं / Dushman-e-Ala-Hazrat Se Mat Pyar Kar | Jo Raza Ka Nahin Wo Hamara Nahin

दुश्मन-ए-आ'ला-हज़रत से मत प्यार कर
जो रज़ा का नहीं, वो हमारा नहीं
उस पे मत डालना दोस्ती की नज़र
जो रज़ा का नहीं, वो हमारा नहीं

दुश्मन-ए-आ'ला-हज़रत से मत प्यार कर
जो रज़ा का नहीं, वो हमारा नहीं

आ'ला हज़रत से जलना ये चिड़ना तेरा
हश्र में यूँ हुवा तो करेगा तू क्या
देख कर तुझ को कह दें जो ख़ैर-उल-बशर
जो रज़ा का नहीं, वो हमारा नहीं

दुश्मन-ए-आ'ला-हज़रत से मत प्यार कर
जो रज़ा का नहीं, वो हमारा नहीं

बात हक़ है तो डरने की क्या बात है
हक़-त'आला की रहमत तेरे साथ है
हर जगह, हर क़दम पर ये ए'लान कर
जो रज़ा का नहीं, वो हमारा नहीं

दुश्मन-ए-आ'ला-हज़रत से मत प्यार कर
जो रज़ा का नहीं, वो हमारा नहीं

क्यूँ कहूँ तुम से कुछ, क्यूँ सुनूँ तुम से कुछ
तुम 'अक़ीदे से कुछ, मैं 'अक़ीदे से कुछ
बहस की क्या ज़रुरत है अल-मुख़्तसर
जो रज़ा का नहीं, वो हमारा नहीं

दुश्मन-ए-आ'ला-हज़रत से मत प्यार कर
जो रज़ा का नहीं, वो हमारा नहीं

जो रज़ा का नहीं, वो नबी का नहीं
जो नबी का नहीं, वो ख़ुदा का नहीं
बात ये कह रहा हूँ बहुत सोच कर
जो रज़ा का नहीं, वो हमारा नहीं

दुश्मन-ए-आ'ला-हज़रत से मत प्यार कर
जो रज़ा का नहीं, वो हमारा नहीं

जिस को अहमद रज़ा की ग़ुलामी मिली
हर क़दम पे उसे नेक-नामी मिली
तू भी, फ़रहान ! खुल के ये ए'लान कर
जो रज़ा का नहीं, वो हमारा नहीं

दुश्मन-ए-आ'ला-हज़रत से मत प्यार कर
जो रज़ा का नहीं, वो हमारा नहीं


शायर:
फ़रहान बरकाती

ना'त-ख़्वाँ:
फ़रहान बरकाती





dushman-e-aa'la-hazrat se mat pyaar kar
jo raza ka nahi.n, wo hamaara nahi.n
us pe mat Daalna dosti ki nazar
jo raza ka nahi.n, wo hamaara nahi.n

dushman-e-aa'la-hazrat se mat pyaar kar
jo raza ka nahi.n, wo hamaara nahi.n

aa'la hazrat se jalna ye chi.Dna tera
hashr me.n yu.n huwa to karega tu kya
dekh kar tujh ko keh de.n jo KHair-ul-bashar
jo raza ka nahi.n, wo hamaara nahi.n

dushman-e-aa'la-hazrat se mat pyaar kar
jo raza ka nahi.n, wo hamaara nahi.n

baat haq hai to Darne ki kya baat hai
haq-ta'aala ki rehmat tere saath hai
har jagah, har qadam par ye e'laan kar
jo raza ka nahi.n, wo hamaara nahi.n

dushman-e-aa'la-hazrat se mat pyaar kar
jo raza ka nahi.n, wo hamaara nahi.n

kyu.n kahu.n tum se kuchh, kyu.n sunu.n tum se kuchh
tum 'aqeede se kuchh, mai.n 'aqeede se kuchh
bahs ki kya zaroorat hai al-muKHtsar
jo raza ka nahi.n, wo hamaara nahi.n

dushman-e-aa'la-hazrat se mat pyaar kar
jo raza ka nahi.n, wo hamaara nahi.n

jo raza ka nahi.n, wo nabi ka nahi.n
jo nabi ka nahi.n, wo KHuda ka nahi.n
baat ye keh raha hu.n bahut soch kar
jo raza ka nahi.n, wo hamaara nahi.n

dushman-e-aa'la-hazrat se mat pyaar kar
jo raza ka nahi.n, wo hamaara nahi.n

jis ko ahmad raza ki Gulaami mili
har qadam pe use nek-naami mili
tu bhi, Farhaan ! khul ke ye e'laan kar
jo raza ka nahi.n, wo hamaara nahi.n

dushman-e-aa'la-hazrat se mat pyaar kar
jo raza ka nahi.n, wo hamaara nahi.n


Poet:
Farhan Barkati

Naat-Khwaan:
Farhan Barkati
Dushman e Ala Hazrat Se Mat Pyar Kar Lyrics in Hindi, Dushmane Alahazrat Se Mat Pyar Kar Lyrics, Jo Raza Ka Nahi Wo Hamara Nahi Lyrics, Farhan Barkati a'la aa'la aala pyaar vo hamaara lyrics of naat, naat lyrics in hindi, islamic lyrics, hindi me naat lyrics, hindi me naat likhi hui, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई, नात शरीफ की किताब हिंदी में, आला हजरत की नात शरीफ lyrics, हिंदी नात, Lyrics in English, Lyrics in Roman

Comments

लोकप्रिय कलाम

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

मेरी उल्फ़त मदीने से यूँ ही नहीं मेरे आक़ा का रौज़ा मदीने में है / Meri Ulfat Madine Se Yun Hi Nahin Mere Aaqa Ka Rauza Madine Mein Hai

जश्न-ए-आमद-ए-रसूल, अल्लाह ही अल्लाह ! / Jashn-e-Aamad-e-Rasool, Allah Hi Allah !

हाल-ए-दिल किस को सुनाएँ, आप के होते हुए / Haal-e-Dil Kis Ko Sunaaen Aap Ke Hote Hue

अब तो बस एक ही धुन है के मदीना देखूं / Ab To Bas Ek Hi Dhun Hai Ke Madina Dekhun

बे-ख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Be-Khud Kiye Dete Hain Andaaz-e-Hijabana

गली गली सज गई शहर शहर सज गया | जो आमिना के लाल का मीलाद करेंगे / Gali Gali Saj Gai Shahar Shahar Saj Gaya | Jo Amina Ke Laal Ka Milad Karenge

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

उन का मँगता हूँ जो मँगता नहीं होने देते / Un Ka Mangta Hun Jo Mangta Nahin Hone Dete

नूर वाला आया है / Noor Wala Aaya Hai