ख़ाक-ए-तयबा मेरे सीने से लगा दी जाए / Khak-e-Taiba Mere Seene Se Laga Di Jaye

ख़ाक-ए-तयबा मेरे सीने से लगा दी जाए
हाँ ! बशारत मुझे जन्नत की सुना दी जाए

महफ़िल-ए-ना'त फिर इक बार सजा दी जाए
क़ल्ब-ए-दुश्मन की जलन और बढ़ा दी जाए

होश आएगा न दुनिया की दवाओं से मुझे
ना'ल-ए-सरकार-ए-दो-'आलम की हवा दी जाए

'इश्क़ गर जुर्म है, फाँसी की सज़ा दो मुझ को
दर-ए-महबूब पे लेकिन ये सज़ा दी जाए

जिस पसीने की महक मक्के की गलियों में रची
वही ख़ुश्बू मुझे इक बार सुँघा दी जाए

इब्न-ए-ख़त्ताब को फ़ारूक़ बनाया जिस ने
वही तस्वीर मेरे दिल में बिठा दी जाए

या नबी ! मुझ को भी हासिल हो ग़ुलामी का शरफ़
मेरी ना'तों में भी तासीर-ए-रज़ा दी जाए

हश्र के रोज़ मैं आक़ा की सुनाऊँ ना'तें
रब कहे, नज़्मी को फ़िरदौस में जा दी जाए


शायर:
नज़्मी मियाँ

ना'त-ख़्वाँ:
क़ारी रियाज़ुद्दीन अशरफ़ी





KHaak-e-tayba mere seene se laga di jaae
haa.n ! bashaarat mujhe jannat ki suna di jaae

mehfil-e-naa't phir ik baar saja di jaae
qalb-e-dushman ki jalan aur ba.Dha di jaae

hosh aaega na duniya ki dawaao.n se mujhe
naa'l-e-sarkaar-e-do-'aalam ki hawa di jaae

'ishq gar jurm hai, phaansi ki saza do mujh ko
dar-e-mahboob pe lekin ye saza di jaae

jis paseene ki mahak makke ki galiyo.n me.n rachi
wahi KHushboo mujhe ik baar sungha di jaae

ya nabi ! mujh ko bhi haasil ho Gulaami ka sharaf
meri naa'to.n me.n bhi taaseer-e-raza di jaae

hashr ke roz mai.n aaqa ki sunaau.n naa'te.n
rab kahe, Nazmi ko firdaus me.n jaa di jaae


Poet:
Nazmi Miyan

Naat-Khwaan:
Qari Riyazuddin Ashrafi
Khak e Taiba Mere Seene Se Laga Di Jaye Lyrics | Khake Taiba Mere Seene Se Laga Di Jaaye Lyrics in Hindi | Khak e Tayba Mere Sine Se Laga Dee Jaaye Lyrics | Nazmi Miyan Naat Lyrics | Qari Riyazuddin naat Lyrics | lyrics of naat, naat lyrics in hindi, islamic lyrics, hindi me naat lyrics, hindi me naat likhi hui, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई, नात शरीफ की किताब हिंदी में, आला हजरत की नात शरीफ lyrics, हिंदी नात, Lyrics in English, Lyrics in Roman

Comments

Most Popular

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

मैं बंदा-ए-'आसी हूँ, ख़ता-कार हूँ, मौला ! / Main Banda-e-Aasi Hoon, Khata-Kaar Hoon, Maula !

तेरा नाम ख़्वाजा मुईनुद्दीन | तू रसूल-ए-पाक की आल है / Tera Naam Khwaja Moinuddin | Tu Rasool-e-Pak Ki Aal Hai

बे-ख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Be-Khud Kiye Dete Hain Andaaz-e-Hijabana

उन का मँगता हूँ जो मँगता नहीं होने देते / Un Ka Mangta Hun Jo Mangta Nahin Hone Dete

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

हाल-ए-दिल किस को सुनाएँ, आप के होते हुए / Haal-e-Dil Kis Ko Sunaaen Aap Ke Hote Hue

मौला अली मौला ! मौला अली मौला ! / Maula Ali Maula ! Maula Ali Maula !

छूटे न कभी तेरा दामन या ख़्वाजा मुईनुद्दीन हसन / Chhoote Na Kabhi Tera Daman Ya Khwaja Muinuddin Hasan