सोज़-ए-दिल चाहिए चश्म-ए-नम चाहिए और शौक़-ए-तलब मोतबर चाहिए / Soz-e-Dil Chahiye Chashm-e-Nam Chahiye Aur Shauq-e-Talab Motabar Chahiye

सोज़-ए-दिल चाहिए, चश्म-ए-नम चाहिए और शौक़-ए-तलब मो'तबर चाहिए
हों मुयस्सर मदीने की गलियाँ अगर, आँख काफ़ी नहीं है नज़र चाहिए

उन की महफ़िल के आदाब कुछ और हैं, लब-कुशाई की जुरअत मुनासिब नहीं
उन की सरकार में इल्तिजा के लिए, जुंबिश-ए-लब नहीं, चश्म-ए-तर चाहिए

अपनी रूदाद-ए-ग़म मैं सुनाऊँ किसे ? मेरे दुख को कोई और समझेगा क्या
जिस की ख़ाक-ए-क़दम भी है ख़ाक-ए-शिफ़ा, मेरे ज़ख़्मों को वो चारा-गर चाहिए

रौनक़ें ज़िंदगी की बहुत देख लीं, अब मैं आँखों का अपनी करूँगा भी क्या
अब न कुछ दीदनी है न कुछ गुफ़्तनी, मुझ को आक़ा की बस इक नज़र चाहिए

मैं गदा-ए-दर-ए-शाह-ए-कौनैन हूँ, शीश-महलों की मुझ को तमन्ना नहीं
हो मुयस्सर ज़मीं पर कि ज़ेर-ए-ज़मीं मुझ को तयबा में इक अपना घर चाहिए

इन नए रास्तों की नई रौशनी, हम को रास आई है और न रास आएगी
हम को खोई हुई रौशनी चाहिए, हम को आईन-ए-ख़ैर-उल-बशर चाहिए

गोशा गोशा मदीने का पुर-नूर है, सारा माहौल जल्वों से मा'मूर है
शर्त ये है कि ज़र्फ़-ए-नज़र चाहिए, देखने को कोई दीदा-वर चाहिए

मिदहत-ए-शाह-ए-कौन-ओ-मकाँ के लिए, सिर्फ़ लफ़्ज़-ओ-बयाँ का सहारा न लो
फ़न्न-ए-शे'री है, इक़बाल ! अपनी जगह, ना'त कहने को ख़ून-ए-जिगर चाहिए


शायर:
इक़बाल अज़ीम

ना'त-ख़्वाँ:
महमूद-उल-हसन अशरफ़ी
अल्लामा हाफ़िज़ बिलाल क़ादरी





soz-e-dil chaahiye, chashm-e-nam chaahiye
aur shauq-e-talab mo'tabar chaahiye
ho.n muyassar madine ki galiya.n agar
aankh kaafi nahi.n hai nazar chaahiye

un ki mehfil ke aadaab kuchh aur hai.n
lab-kushaai ki jur.at munaasib nahi.n
un ki sarkaar me.n iltija ke liye
jumbish-e-lab nahi.n, chashm-e-tar chaahiye

apni roodaad-e-Gam mai.n sunaau.n kise ?
mere dukh ko koi aur samjhega kya
jis ki KHaak-e-qadam bhi hai KHaak-e-shifa
mere zaKHmo.n ko wo chaara-gar chaahiye

raunaqe.n zindagi ki bahut dekh li.n
ab mai.n aakho.n ka apni karunga bhi kya
ab na kuchh deedni hai na kuchh guftani
mujh ko aaqa ki bas ik nazar chaahiye

mai.n gada-e-dar-e-shaah-e-kaunain hu.n
sheesh-mehlo.n ki mujh ko tamanna nahi.n
ho muyassar zamee.n par ki zer-e-zamee.n
mujh ko tayba me.n ik apna ghar chaahiye

in nae raasto.n ki nai raushni
ham ko raas aai hai aur na raas aaegi
ham ko khoi hui raushani chaahiye
ham ko aain-e-KHair-ul-bashar chaahiye

gosha gosha madine ka pur-noor hai
saara maahaul jalwo.n se maa'moor hai
shart ye hai ki zarf-e-nazar chaahiye
dekhne ko koi deeda-war chaahiye

mid.hat-e-shaah-e-kaun-o-makaa.n ke liye
sirf lafz-o-baya.n ka sahaara na lo
fann-e-she'ri hai, Iqbal ! apni jagah
naa't kehne ko KHoon-e-jigar chaahiye


Poet:
Iqbal Azeem

Naat-Khwaan:
Mahmood Ul Hassan Ashrafi
Allama Hafiz Bilal Qadri
Soze Dil Chahiye Chashme Nam Chahiye Lyrics | Soz e Dil Chahiye Chashm e Nam Chahiye Lyrics in Hindi | Soze Dil Chahiye Lyrics in Hindi | Iqbal Azeem Naat Lyrics | chahie shuq shuqe talab motabar lyrics of naat | naat lyrics in hindi | islamic lyrics | hindi me naat lyrics | hindi me naat likhi hui | All Naat Lyrics in Hindi | नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई | नात शरीफ की किताब हिंदी में | आला हजरत की नात शरीफ lyrics | हिंदी नात | Lyrics in English | Lyrics in Roman 50+ Naat Lyrics | Best Place To Find All Naat Sharif | 500+ Naat Lyrics | Best Site To Find All Naat in Hindi, English | 430 Naat lyrics ideas in 2023

Comments

Most Popular

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

ऐ ज़हरा के बाबा सुनें इल्तिजा मदीना बुला लीजिए / Aye Zahra Ke Baba Sunen Iltija Madina Bula Lijiye

बेख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Bekhud Kiye Dete Hain Andaz-e-Hijabana

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

कोई दुनिया-ए-अता में नहीं हमता तेरा | तज़मीन - वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा / Koi Duniya-e-Ata Mein Nahin Hamta Tera | Tazmeen of Waah ! Kya Jood-o-Karam Hai, Shah-e-Bat.ha ! Tera

ज़िंदगी ये नहीं है किसी के लिए | वल्लाह वल्लाह / Zindagi Ye Nahin Hai Kisi Ke Liye | Wallah Wallah

जहाँ-बानी अता कर दें भरी जन्नत हिबा कर दें | मुनव्वर मेरी आँखों को मेरे शम्सुद्दुहा कर दें / Jahan-bani Ata Kar Den Bhari Jannat Hiba Kar Den | Muanawwar Meri Aankhon Ko Mere Shamsudduha Kar Den