तुम्ही फ़र्श से अर्श पर जाने वाले | चमक तुझ से पाते हैं सब पाने वाले तज़मीन के साथ / Tumhi Farsh Se Arsh Par Jaane Wale | Chamak Tujh Se Pate Hain Sab Pane Wale With Tazmeen

तुम्ही फ़र्श से 'अर्श पर जाने वाले
तुम्ही ने'मतें रब से दिलवाने वाले
तेरे आगे सब हाथ फैलाने वाले
चमक तुझ से पाते हैं सब पाने वाले
मेरा दिल भी चमका दे चमकाने वाले

है बे-मिस्ल तेरा करम, जान-ए-'इज़्ज़त !
ग़ुलामों पे हर दम है तेरी 'इनायत
वो गुलशन हो सहरा हो दरिया कि पर्बत
बरसता नहीं देख कर अब्र-ए-रहमत
बदों पर भी बरसा दे बरसाने वाले

सवारी से अपनी तू जिस दम उतरना
मदीने के ज़ाइर ज़रा तू सँभलना
यहाँ था मेरे मुस्तफ़ा का गुज़रना
हरम की ज़मीं और क़दम रख के चलना
अरे सर का मौक़ा' है, ओ जाने वाले !

हैं मक्के के जल्वे भी माना के अच्छे
मगर मैं मदीने की 'अज़मत के सदक़े
उसे तो है निस्बत मेरे मुस्तफ़ा से
मदीने के ख़ित्त़े ! ख़ुदा तुझ को रखे
ग़रीबों फ़क़ीरों के ठहराने वाले

ऐ मुश्किल-कुशा कीजे मुश्किल-कुशाई
तड़प कर जो मैं ने सदा ये लगाई
तो आक़ा की रहमत ये पैग़ाम लाई
अब आई शफ़ा'अत की सा'अत अब आई
ज़रा चैन ले, मेरे घबराने वाल !

कभी ग़ौस-ओ-ख़्वाजा के नामों से उलझें
दुरूदों से उलझें, सलामों से उलझें
सहीह-उल-'अक़ीदा इमामों से उलझें
तेरा खाएँ तेरे ग़ुलामों से उलझें
हैं मुन्किर 'अजब खाने ग़ुर्राने वाले

कभी ग़ौस-ओ-ख़्वाजा के ना'रों से उलझें
कभी औलिया के मज़ारों से उलझें
ये खा कर नियाज़ें नियाज़ों से उलझें
तेरा खाएँ तेरे ग़ुलामों से उलझें
हैं मुन्किर 'अजब खाने ग़ुर्राने वाले

ये नज़्दी मुनाफ़िक़ है गंदा है वल्लाह
ग़लाज़त का बल्कि पुलंदा है वल्लाह
जहन्नम पे नाम उस का कुंदा है वल्लाह
जो मुर्दा कहे तुम को वो मुर्दा है वल्लाह
तू ज़िंदा है वल्लाह, तू ज़िंदा है वल्लाह
मेरे चश्म-ए-'आलम से छुप जाने वाले

ग़ुलाम-ए-नबी ख़ुल्द में जा बसेगा
जहन्नम में मुन्किर मुनाफ़िक़ जलेगा
जो 'आशिक़ है वो तो हमेशा कहेगा
रहेगा यूँ ही उन का चर्चा रहेगा
पड़े ख़ाक हो जाएँ जल जाने वाले

सदा गीत उन की मोहब्बत के गाना
जिगर मुन्किरों के यूँही तुम जलाना
उबैद-ए-रज़ा ! उन से धोका न खाना
रज़ा का ये पैग़ाम ना भूल जाना
रज़ा ! नफ़्स दुश्मन है दम में न आना
कहाँ तुम ने देखे हैं चन्द्राने वाले


कलाम:
इमाम अहमद रज़ा ख़ान

तज़मीन:
ओवैस रज़ा क़ादरी

ना'त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी





tumhi farsh se 'arsh par jaane waale
tumhi ne'mate.n rab se dilwaane waale
tere aage sab haath phailaane waale
chamak tujh se paate hai.n sab paane waale
mera dil bhi chamka de chamkaane waale

hai be-misl tera karam, jaan-e-'izzat !
Gulaamo.n pe har dam hai teri 'inaayat
wo gulshan ho sehra ho dariya ki parbat
barasta nahi.n dekh kar abr-e-rahmat
bado.n par bhi barsa de barsaane waale

sawaari se apni tu jis dam utarna
madine ke zaair zara tu sambhalna
yahaa.n tha mere mustafa ka guzarna
haram ki zamee.n aur qadam rakh ke chalna
are sar ka mauqa' hai, o jaane waale !

hai.n makke ke jalwe bhi maana ke achchhe
magar mai.n madine ki 'azmat ke sadqe
use to hai nisbat mere mustafa se
madine ke KHitte ! KHuda tujh ko rakhe
Gareebo.n faqeero.n ke Thahraane waale

ai mushkil-kusha keeje mushkil-kushaai
ta.Dap kar jo mai.n ne sada ye lagaai
to aaqa ki rehmat ye paiGaam laai
ab aai shafaa'at ki saa'at ab aai
zara chain le, mere ghabraane waale !

kabhi Gaus-o-KHwaja ke naamo.n se uljhe.n
duroodo.n se uljhe.n, salaamo.n se uljhe.n
saheeh-ul-'aqeeda imaamon se uljhe.n
tera khaae.n tere Gulaamo.n se uljhe.n
hai.n munkir 'ajab khaane Gurraane waale

kabhi Gaus-o-KHwaja ke naaro.n se uljhe.n
kabhi auliya ke mazaaro.n se uljhe.n
ye khaa kar niyaaze.n niyaazo.n se uljhe.n
tera khaae.n tere Gulaamo.n se uljhe.n
hai.n munkir 'ajab khaane Gurraane waale

ye nazdi munaafiq hai ganda hai wallah
Galaazat ka balki pulanda hai wallah
jahannam pe naam us ka kunda hai wallah
jo murda kahe tum ko wo murda hai wallah
tu zinda hai wallah, tu zinda hai wallah
mere chashm-e-'aalam se chhup jaane waale

Gulaam-e-nabi KHuld me.n jaa basega
jahannam me.n munkir munaafiq jalega
jo 'aashiq hai wo to hamesha kahega
rahega yu.n hi un ka charcha rahega
pa.De KHaak ho jaae.n jal jaane waale

sada geet un ki mohabbat ke gaana
jigar munkiro.n se yunhi tum jalaana
Ubaid-e-Raza ! un se dhoka na khaana
raza ka ye paiGaam na bhool jaana
Raza ! nafs dushman hai dam me.n na aana
kaha.n tum ne dekhe hai.n chandraane waale


Kalam:
Imam Ahmad Raza Khan

Tazmeen:
Owais Raza Qadri

Naat-Khwaan:
Owais Raza Qadri
Tumhi Farsh Se Arsh Par Jaane Wale Lyrics | Tumhi Farsh Se Arsh Par Jaane Wale Lyrics in Hindi | Chamak Tujhse Pate Hain Tazmeen Ke Saath | Tazmeen Lyrics | pe jane lyrics of naat | naat lyrics in hindi | islamic lyrics | hindi me naat lyrics | hindi me naat likhi hui | All Naat Lyrics in Hindi | नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई | नात शरीफ की किताब हिंदी में | आला हजरत की नात शरीफ lyrics | हिंदी नात | Lyrics in English | Lyrics in Roman 50+ Naat Lyrics | Best Place To Find All Naat Sharif | 500+ Naat Lyrics | Best Site To Find All Naat in Hindi, English | 430 Naat lyrics ideas in 2023

Comments

Most Popular

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

ऐ ज़हरा के बाबा सुनें इल्तिजा मदीना बुला लीजिए / Aye Zahra Ke Baba Sunen Iltija Madina Bula Lijiye

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

बेख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Bekhud Kiye Dete Hain Andaz-e-Hijabana

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

कोई दुनिया-ए-अता में नहीं हमता तेरा | तज़मीन - वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा / Koi Duniya-e-Ata Mein Nahin Hamta Tera | Tazmeen of Waah ! Kya Jood-o-Karam Hai, Shah-e-Bat.ha ! Tera

बुला लो फिर मुझे ऐ शाह-ए-बहर-ओ-बर मदीने में / Bula Lo Phir Mujhe Aye Shah-e-Bahr-o-Bar Madine Mein

ऐ सबा मुस्तफ़ा से कह देना ग़म के मारे सलाम कहते हैं / Aye Saba Mustafa Se Keh Dena Gham Ke Mare Salam Kehte Hain (All Versions)