ज़िंदगी यूँ तो सब जी रहे हैं मगर इस तरह का हो जीना तो क्या बात है / Zindagi Yun To Sab Jee Rahe Hain Magar Is Tarah Ka Ho Jeena To Kya Baat Hai

ज़िंदगी यूँ तो सब जी रहे हैं मगर
इस तरह का हो जीना तो क्या बात है
दाएँ बग़दाद हो, बाएँ अजमेर हो
सामने हो मदीना तो क्या बात है

मुश्क-ओ-'अंबर की भी मुझ को हाजत नहीं
'इत्र की भी मुझे अब ज़रुरत नहीं
बा'द मरने के रुख़ पर मलो, दोस्तो !
मुस्तफ़ा का पसीना तो क्या बात है

हम चले काश ! घर से जो तयबा नगर
हो शुरू' आ'ला हज़रत के दर से सफ़र
मेरी माँ की दु'आ हो शरीक-ए-सफ़र
आए हज का महीना तो क्या बात है

या ख़ुदा ! बस यही इल्तिजा है मेरी
कू-ए-सरकार में हाज़िरी हो मेरी
फ़ज्र का वक़्त हो और जुम्मे का हो दिन
और हो हज का महीना तो क्या बात है

है तमन्ना मेरी, आरज़ू है यही
काश ! मैं देख लेता जो रू-ए-नबी
रश्क करता मुक़द्दर मेरी मौत पर
होता शहर-ए-मदीना तो क्या बात है

एक ताजुश्शरी'आ हैं रहबर मेरे
जिन का साया हमेशा है सर पर मेरे
सामने आप के मैं भी हाज़िर रहूँ
बा-अदब बा-क़रीना तो क्या बात है

इस तरह आ'ला हज़रत का परचम उठे
इस तरह आ'ला हज़रत का ना'रा लगे
जिस की हैबत से हर दुश्मन-ए-दीन का
छूट जाए पसीना तो क्या बात है

दीप रौशन हो हर दिल में ईमान का
काश ! हर कोई हाफ़िज़ हो क़ुरआन का
हर किसी का कलाम-ए-ख़ुदा से अगर
जगमगाए जो सीना तो क्या बात है

शु'ऐब ! अपनी क़िस्मत पे तू नाज़ कर
हक़ त'आला की रहमत पे तू नाज़ कर
तुझ को इस 'उम्र में ना'त-ए-सरकार का
मिल गया है ख़ज़ीना तो क्या बात है


ना'त-ख़्वाँ:
फ़हीम अख़्तर बरेलवी
शमीम रज़ा फ़ैज़ी
शुऐब रज़ा वारसी





zindagi yu.n to sab jee rahe hai.n magar
is tarah ka ho jeena to kya baat hai
daae.n baGdaad ho, baae.n ajmer ho
saamne ho madina to kya baat hai

mushk-o-'ambar ki bhi mujh ko haajat nahi.n
'itr ki bhi mujhe ab zaroorat nahi.n
baa'd marne ke ruKH par malo, dosto !
mustafa ka paseena to kya baat hai

ham chale, kaash ! ghar se jo tayba nagar
ho shuroo' aa'la hazrat ke dar se safar
meri maa.n ki du'aa ho shareek-e-safar
aae hajj ka mahina to kya baat hai

ya KHuda ! bas yahi iltija hai meri
koo-e-sarkaar me.n haaziri ho meri
fajr ka waqt ho aur jumme ka ho din
aur ho hajj ka mahina to kya baat hai

hai tamanna meri, aarzoo hai yahi
kaash ! mai.n dekh leta jo roo-e-nabi
rashk karta muqaddar meri maut par
hota shehr-e-madina to kya baat hai

ek taajushsharee'aa hai.n rahbar mere
jis ka saaya hamesha hai sar par mere
saamne aap ke mai.n bhi haazir rahu.n
baa-adab baa-qareena to kya baat hai

is tarah aa'la hazrat ka parcham uThe
is tarah aa'la hazrat ka naa'ra lage
jis ki haibat se har dushman-e-deen ka
chhooT jaae paseena to kya baat hai

deep raushan ho har dil me.n imaan ka
kaash ! har koi haafiz ho qur.aan ka
har kisi ka kalaam-e-KHuda se agar
jagmagaae jo seena to kya baat hai

ai Shu'aib ! apni qismat pe tu naaz kar
haq ta'aala ki rahmat pe tu naaz kar
tujh ko is 'umr me.n naa't-e-sarkaar ka
mil gaya hai KHazeena to kya baat hai


Naat-Khwaan:
Faheem Akhtar Barelvi
Shameem Raza Faizi
Shoaib Raza Warsi
Zindagi Yun To Sab Jee Rahe Hain Magar Lyrics | Samne Ho Madina To Kya Baat Hai Lyrics | Samne Ho Madina To Kya Baat Hai Lyrics in Hindi | yu ji hei hein | lyrics of naat | naat lyrics in hindi | islamic lyrics | hindi me naat lyrics | hindi me naat likhi hui | All Naat Lyrics in Hindi | नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई | नात शरीफ की किताब हिंदी में | आला हजरत की नात शरीफ lyrics | हिंदी नात | Lyrics in English | Lyrics in Roman 50+ Naat Lyrics | Best Place To Find All Naat Sharif | 500+ Naat Lyrics | Best Site To Find All Naat in Hindi, English | 430 Naat lyrics ideas in 2023

Comments

Most Popular

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

ऐ ज़हरा के बाबा सुनें इल्तिजा मदीना बुला लीजिए / Aye Zahra Ke Baba Sunen Iltija Madina Bula Lijiye

बेख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Bekhud Kiye Dete Hain Andaz-e-Hijabana

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

कोई दुनिया-ए-अता में नहीं हमता तेरा | तज़मीन - वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा / Koi Duniya-e-Ata Mein Nahin Hamta Tera | Tazmeen of Waah ! Kya Jood-o-Karam Hai, Shah-e-Bat.ha ! Tera

ज़िंदगी ये नहीं है किसी के लिए | वल्लाह वल्लाह / Zindagi Ye Nahin Hai Kisi Ke Liye | Wallah Wallah

जहाँ-बानी अता कर दें भरी जन्नत हिबा कर दें | मुनव्वर मेरी आँखों को मेरे शम्सुद्दुहा कर दें / Jahan-bani Ata Kar Den Bhari Jannat Hiba Kar Den | Muanawwar Meri Aankhon Ko Mere Shamsudduha Kar Den