दुनिया के ऐ मुसाफ़िर मंज़िल तेरी क़बर है / Duniya Ke Aye Musafir Manzil Teri Qabar Hai

दुनिया के ऐ मुसाफ़िर ! मंज़िल तेरी क़बर है
तय कर रहा है जो तू दो दिन का ये सफ़र है

जब से बनी है दुनिया लाखों-करोड़ों आए
बाक़ी रहा न कोई, मिट्टी में सब समाए
इस बात को न भूलो, सब का यही हशर है

दुनिया के ऐ मुसाफ़िर ! मंज़िल तेरी क़बर है
तय कर रहा है जो तू दो दिन का ये सफ़र है

आँखों से तू ने अपनी देखे कई जनाज़े
हाथों से तू ने अपने दफ़नाए कितने मुर्दे
अंजाम से तू अपने क्यूँ इतना बे-ख़बर है

दुनिया के ऐ मुसाफ़िर ! मंज़िल तेरी क़बर है
तय कर रहा है जो तू दो दिन का ये सफ़र है

ये 'आलिशान बंगले किसी काम के नहीं हैं
महलों में सोने वाले मिट्टी में सो रहे हैं
दो गज़ ज़मीं का टुकड़ा छोटा सा तेरा घर है

दुनिया के ऐ मुसाफ़िर ! मंज़िल तेरी क़बर है
तय कर रहा है जो तू दो दिन का ये सफ़र है

मख़मल पे सोने वाले मिट्टी में सो रहे हैं
शाह-ओ-गदा यहाँ पर सब एक हो रहे हैं
दोनों हुए बराबर, ये मौत का असर है

दुनिया के ऐ मुसाफ़िर ! मंज़िल तेरी क़बर है
तय कर रहा है जो तू दो दिन का ये सफ़र है

मिट्टी के पुतले ! तू ने मिट्टी में है समाना
इक दिन यहाँ तू आया, इक दिन यहाँ से जाना
रुकना नहीं यहाँ पर, जारी तेरा सफ़र है

दुनिया के ऐ मुसाफ़िर ! मंज़िल तेरी क़बर है
तय कर रहा है जो तू दो दिन का ये सफ़र है

ऐ फ़ानी 'इरफ़ाँ ! अपने मौला से दिल लगा ले
कर ले तू रब को राज़ी, कुछ नेकियाँ कमा ले
सामाँ तेरा यही है, तू साहिब-ए-सफ़र है

दुनिया के ऐ मुसाफ़िर ! मंज़िल तेरी क़बर है
तय कर रहा है जो तू दो दिन का ये सफ़र है


नशीद-ख़्वाँ:
प्रोफ़ेसर अब्दुर्रऊफ़ रूफ़ी
जुनैद जमशेद
हाफ़िज़ मुहम्मद जलाबीब क़ादरी





duniya ke ai musaafir ! manzil teri qabar hai
tai kar raha hai jo tu do din ka ye safar hai

jab se bani hai duniya laakho.n-karo.Do.n aae
baaqi raha na koi, miTTi me.n sab samaae
is baat ko na bhoolo, sab ka yahi hashar hai

duniya ke ai musaafir ! manzil teri qabar hai
tai kar raha hai jo tu do din ka ye safar hai

aankho.n se tu ne apni dekhe kai janaaze
haatho.n se tu ne apne dafnaae kitne murde
anjaam se tu apne kyu.n itna be-KHabar hai

duniya ke ai musaafir ! manzil teri qabar hai
tai kar raha hai jo tu do din ka ye safar hai

ye 'aalishaan bangle kisi kaam ke nahi.n hai.n
mehlo.n me.n sone waale miTTi me.n so rahe hai.n
do gaz zamee.n ka Tuk.Da chhoTa sa tera ghar hai

duniya ke ai musaafir ! manzil teri qabar hai
tai kar raha hai jo tu do din ka ye safar hai

maKHmal pe sone waale miTTi me.n so rahe hai.n
shaah-o-gada yahaa.n par sab ek ho rahe hai.n
dono.n hue baraabar, ye maut ka asar hai

duniya ke ai musaafir ! manzil teri qabar hai
tai kar raha hai jo tu do din ka ye safar hai

miTTi ke putle ! tu ne miTTi me.n hai samaana
ik din yahaa.n tu aaya, ik din yahaa.n se jaana
rukna nahi.n yahaa.n par, jaari tera safar hai

duniya ke ai musaafir ! manzil teri qabar hai
tai kar raha hai jo tu do din ka ye safar hai

ai Faani 'Irfaa.n ! apne maula se dil laga le
kar le tu rab ko raazi, kuchh nekiyaa.n kama le
samaa.n tera yahi hai, tu saahib-e-safar hai

duniya ke ai musaafir ! manzil teri qabar hai
tai kar raha hai jo tu do din ka ye safar hai


Nasheed-Khwaan:
Prof. Abdul Rauf Rufi
Junaid Jamshed
Hafiz Muhammad Jalabeeb Qadri
Duniya Ke Aye Musafir Manzil Teri Qabar Hai Lyrics in Hindi | Duniya Ke Ae Musafir Lyrics | Ke Ae Musafir Lyrics in Hindi | ay qabr hei hein hain | lyrics of naat | naat lyrics in hindi | islamic lyrics | hindi me naat lyrics | hindi me naat likhi hui | All Naat Lyrics in Hindi | नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई | नात शरीफ की किताब हिंदी में | आला हजरत की नात शरीफ lyrics | हिंदी नात | Lyrics in English | Lyrics in Roman 50+ Naat Lyrics | Best Place To Find All Naat Sharif | 500+ Naat Lyrics | Best Site To Find All Naat in Hindi, English | 430 Naat lyrics ideas in 2024

Comments

Most Popular

मेरे हुसैन तुझे सलाम / Mere Husain Tujhe Salaam

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

मेरा बादशाह हुसैन है | ऐसा बादशाह हुसैन है / Mera Baadshaah Husain Hai | Aisa Baadshaah Husain Hai

ऐ ज़हरा के बाबा सुनें इल्तिजा मदीना बुला लीजिए / Aye Zahra Ke Baba Sunen Iltija Madina Bula Lijiye

अल्लाह की रज़ा है मोहब्बत हुसैन की | या हुसैन इब्न-ए-अली / Allah Ki Raza Hai Mohabbat Hussain Ki | Ya Hussain Ibne Ali

कर्बला के जाँ-निसारों को सलाम / Karbala Ke Jaan-nisaron Ko Salam

हुसैन तुम को ज़माना सलाम कहता है / Husain Tum Ko Zamana Salam Kehta Hai

हम हुसैन वाले हैं / Hum Hussain Wale Hain

हुसैन आज सर को कटाने चले हैं / Husain Aaj Sar Ko Katane Chale Hain