या नबी अब मदीने बुला लीजिए / Ya Nabi Ab Madine Bula Lijiye

या नबी ! अब मदीने बुला लीजिए
दूर रह कर नहीं अब गुज़ारा
मेरी बे-नूर आँखों को, या सय्यिदी !
सब्ज़ गुंबद का बख़्शें नज़ारा

या नबी ! अब मदीने बुला लीजिए
दूर रह कर नहीं अब गुज़ारा
या नबी ! अब मदीने बुला लीजिए

गर्दिश-ए-ज़िंदगी ने सताया मुझे
मेरे हालात ने है रुलाया मुझे
मुझ बेचारे का लिल्लाह करें, या नबी !
सदक़े हसनैन के कोई चारा

या नबी ! अब मदीने बुला लीजिए
दूर रह कर नहीं अब गुज़ारा
या नबी ! अब मदीने बुला लीजिए

हालत-ए-बेबसी में कहाँ जाऊँ मैं
दाग़ सीने के किस को ये दिखलाऊँ मैं
नोच लेंगे ग़मों के थपेड़े मुझे
आप का जो मिला न सहारा

या नबी ! अब मदीने बुला लीजिए
दूर रह कर नहीं अब गुज़ारा
या नबी ! अब मदीने बुला लीजिए

वासिता सय्यिदा का 'अता कीजिए
टूटने से ख़ुदा-रा बचा लीजिए
हो के 'इमरान 'आजिज़ गदा आप का
कैसे फिरता रहे मारा मारा

या नबी ! अब मदीने बुला लीजिए
दूर रह कर नहीं अब गुज़ारा
मेरी बे-नूर आँखों को, या सय्यिदी !
सब्ज़ गुंबद का बख़्शें नज़ारा

या नबी ! अब मदीने बुला लीजिए
दूर रह कर नहीं अब गुज़ारा
या नबी ! अब मदीने बुला लीजिए


शायर:
हकीम इमरान आजिज़

ना'त-ख़्वाँ:
अली रज़ा नूरी





ya nabi ! ab madine bula lijiye
door reh kar nahi.n ab guzaara
meri be-noor aankho.n ko, ya sayyidi !
sabz gumbad ka baKHshe.n nazaara

ya nabi ! ab madine bula lijiye
door reh kar nahi.n ab guzaara
ya nabi ! ab madine bula lijiye

gardish-e-zindagi ne sataaya mujhe
mere haalaat ne hai rulaaya mujhe
mujh bechaare ka lillah kare.n, ya nabi !
sadqe hasnain ke koi chaara

ya nabi ! ab madine bula lijiye
door reh kar nahi.n ab guzaara
ya nabi ! ab madine bula lijiye

haalat-e-bebasi me.n kahaa.n jaau.n mai.n
daaG seene ke kis ko ye dikhlaau.n mai.n
noch lenge Gamo.n ke thape.De mujhe
aap ka jo mila na sahaara

ya nabi ! ab madine bula lijiye
door reh kar nahi.n ab guzaara
ya nabi ! ab madine bula lijiye

waasita sayyida ka 'ata kijiye
TooTne se KHuda-ra bacha lijiye
ho ke 'Imran 'Aajiz gada aap ka
kaise phirta rahe maara maara

ya nabi ! ab madine bula lijiye
door reh kar nahi.n ab guzaara
meri be-noor aankho.n ko, ya sayyidi !
sabz gumbad ka baKHshe.n nazaara

ya nabi ! ab madine bula lijiye
door reh kar nahi.n ab guzaara
ya nabi ! ab madine bula lijiye


Poet:
Hakim Imran Aajiz

Naat-Khwaan:
Ali Raza Noori
Ya Nabi Ab Madine Bula Lijiye Lyrics | Ya Nabi Ab Madine Bula Lijiye Lyrics in Hindi | Ya Nabi Ab Madine Bula Lijiye Lyrics in English lyrics of naat | naat lyrics in hindi | islamic lyrics | hindi me naat lyrics | hindi me naat likhi hui | All Naat Lyrics in Hindi | नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई | नात शरीफ की किताब हिंदी में | आला हजरत की नात शरीफ lyrics | हिंदी नात | Lyrics in English | Lyrics in Roman 50+ Naat Lyrics | Best Place To Find All Naat Sharif | 500+ Naat Lyrics | Best Site To Find All Naat in Hindi, English | 430 Naat lyrics ideas in 2024

Comments

Most Popular

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

ऐ ज़हरा के बाबा सुनें इल्तिजा मदीना बुला लीजिए / Aye Zahra Ke Baba Sunen Iltija Madina Bula Lijiye

बेख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Bekhud Kiye Dete Hain Andaz-e-Hijabana

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

कोई दुनिया-ए-अता में नहीं हमता तेरा | तज़मीन - वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा / Koi Duniya-e-Ata Mein Nahin Hamta Tera | Tazmeen of Waah ! Kya Jood-o-Karam Hai, Shah-e-Bat.ha ! Tera

बुला लो फिर मुझे ऐ शाह-ए-बहर-ओ-बर मदीने में / Bula Lo Phir Mujhe Aye Shah-e-Bahr-o-Bar Madine Mein

ऐ सबा मुस्तफ़ा से कह देना ग़म के मारे सलाम कहते हैं / Aye Saba Mustafa Se Keh Dena Gham Ke Mare Salam Kehte Hain (All Versions)