नहीं ख़ुश-बख़्त मोहताजान-ए-आलम में कोई हम सा / Nahin Khush-bakht Mohatajan-e-Aalam Mein Koi Hum Sa

नहीं ख़ुश-बख़्त मोहताजान-ए-'आलम में कोई हम सा
मिला तक़दीर से हाजत-रवा फ़ारूक़-ए-आ'ज़म सा

तेरा रिश्ता बना शीराज़ा-ए-जम'इय्यत-ए-ख़ातिर
पड़ा था दफ़्तर-ए-दीन-ए-किताबुल्लाह बरहम सा

मुराद आई, मुरादें मिलने की प्यारी घड़ी आई
मिला हाजत-रवा हम को दर-ए-सुल्तान-ए-'आलम सा

तेरे जूद-ओ-करम का कोई अंदाज़ा करे क्यूँकर
तेरा इक इक गदा फ़ैज़-ओ-सख़ावत में है हातिम सा

ख़ुदा-रा मेहर कर, ऐ ज़र्रा-परवर मेहर-ए-नूरानी !
सियाह-बख़्ती से है रोज़-ए-सियाह मेरा शब-ए-ग़म सा

तुम्हारे दर से झोली-भर मुरादें भर कर उट्ठेंगे
न कोई बादशाह तुम सा, न कोई बे-नवा हम सा

फ़िदा, ऐ उम्म-ए-कुलसूम ! आप की तक़दीर-ए-यावर के
'अली बाबा हुआ, दूल्हा हुआ फ़ारूक़-ए-अकरम सा

ग़ज़ब में दुश्मनों की जान है तेग़-ए-सर-अफ़ग़न से
ख़रूज-ओ-रफ़्ज़ के घर में न क्यूँ बरपा हो मातम सा

शयातीं मुज़्महिल हैं तेरे नाम-ए-पाक के डर से
निकल जाए न क्यूँ रफ़्फ़ाज़-ए-बद-अतवार का दम सा

मनाएँ 'ईद जो ज़िल-हिज्जा में तेरी शहादत की
इलाही ! रोज़-ओ-माह-ओ-सिन उन्हें गुज़रे मुहर्रम सा

हसन दर 'आलम-ए-पस्ती सर-ए-रिफ़'अत अगर दारी
बिया फ़र्क़-ए-इरादत बर दर-ए-फ़ारूक़-ए-आ'ज़म सा


शायर:
मौलाना हसन रज़ा ख़ान

ना'त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी





nahi.n KHush-baKHt mohtaajaan-e-'aalam me.n koi ham saa
mila taqdeer se haajat-rawa faarooq-e-aa'zam saa

tera rishta bana shiraaza-e-jam'iyyat-e-KHaatir
pa.Da tha daftar-e-deen-e-kitaabullah barham saa

muraad aai, muraade.n milne ki pyaari gha.Di aai
mila haajat-rawa ham ko dar-e-sultaan-e-'aalam saa

tere jood-o-karam ka koi andaaza kare kyunkar
tera ik ik gada faiz-o-saKHaawat me.n hai haatim saa

KHuda-ra mehr kar, ai zarra-parwar mehr-e-nooraani !
siyaah-baKHti se hai roz-e-siyaah mera shab-e-Gam saa

tumhaare dar se jholi-bhar muraade.n bhar kar uTThenge
na koi baadshaah tum saa, na koi be-nawa ham saa

fida, ai umm-e-kulsum ! aap ki taqdeer-e-yaawar ke
'ali baaba huaa, dulha huaa faarooq-e-akram saa

Gazab me.n dushmano.n ki jaan hai teG-e-sar-afGan se
KHarooj-o-rafz ke ghar me.n na kyu.n barpa ho maatam saa

shayaatee.n muzmahil hai.n tere naam-e-paak ke Dar se
nikal jaae na kyu.n raffaaz-e-bad-atwaar ka dam saa

manaae.n 'eid jo zil-hijja me.n teri shahaadat ki
ilaahi ! roz-o-maah-o-sin unhe.n guzre muharram saa

Hasan dar 'aalam-e-pasti sar-e-rif'at gara daari
biya farq-e-iraadat bar dar-e-faarooq-e-aa'zam saa


Poet:
Maulana Hasan Raza Khan

Naat-Khwaan:
Owais Raza Qadri
Nahi Khushbakht Mohatajan e Aalam Mein Koi Hum Sa Lyrics | Mila Taqdeer Se Hajat rawa Farooq e Azam Sa Lyrics in Hindi | Manqabat Farooq e Azam Lyrics in Hindi | khush bakht muhtajan alam me hajatrawa takdeer | lyrics of naat | naat lyrics in hindi | islamic lyrics | hindi me naat lyrics | hindi me naat likhi hui | All Naat Lyrics in Hindi | नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई | नात शरीफ की किताब हिंदी में | आला हजरत की नात शरीफ lyrics | हिंदी नात | Lyrics in English | Lyrics in Roman 50+ Naat Lyrics | Best Place To Find All Naat Sharif | 500+ Naat Lyrics | Best Site To Find All Naat in Hindi, English | 430 Naat lyrics ideas in 2024

Comments

Most Popular

मेरे हुसैन तुझे सलाम / Mere Husain Tujhe Salaam

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

मेरा बादशाह हुसैन है | ऐसा बादशाह हुसैन है / Mera Baadshaah Husain Hai | Aisa Baadshaah Husain Hai

ऐ ज़हरा के बाबा सुनें इल्तिजा मदीना बुला लीजिए / Aye Zahra Ke Baba Sunen Iltija Madina Bula Lijiye

अल्लाह की रज़ा है मोहब्बत हुसैन की | या हुसैन इब्न-ए-अली / Allah Ki Raza Hai Mohabbat Hussain Ki | Ya Hussain Ibne Ali

कर्बला के जाँ-निसारों को सलाम / Karbala Ke Jaan-nisaron Ko Salam

हुसैन तुम को ज़माना सलाम कहता है / Husain Tum Ko Zamana Salam Kehta Hai

हुसैन आज सर को कटाने चले हैं / Husain Aaj Sar Ko Katane Chale Hain

हम हुसैन वाले हैं / Hum Hussain Wale Hain