नेमतें बाँटता जिस सम्त वो ज़ीशान गया / Nematen Bant.ta Jis Samt Wo Zeeshan Gaya

ने'मतें बाँटता जिस सम्त वो ज़ीशान गया
साथ ही मुंशी-ए-रहमत का क़लम-दान गया

ले ख़बर जल्द कि ग़ैरों की तरफ़ ध्यान गया
मेरे मौला मेरे आक़ा ! तेरे क़ुर्बान गया

आह ! वो आँख कि नाकाम-ए-तमन्ना ही रही
हाए ! वो दिल जो तेरे दर से पुर-अरमान गया

दिल है वो दिल जो तेरी याद से मा'मूर रहा
सर है वो सर जो तेरे क़दमों पे क़ुर्बान गया

उन्हें जाना, उन्हें माना, न रखा ग़ैर से काम
लिल्लाहिल-हम्द मैं दुनिया से मुसलमान गया

और तुम पर मेरे आक़ा की 'इनायत न सही
नज्दियो ! कलमा पढ़ाने का भी एहसान गया

आज ले उन की पनाह, आज मदद माँग उन से
फिर न मानेंगे क़ियामत में अगर मान गया

उफ़ रे मुन्किर ये बढ़ा जोश-ए-त'अस्सुब आख़िर
भीड़ में हाथ से कम-बख़्त के ईमान गया

जान-ओ-दिल, होश-ओ-ख़िरद सब तो मदीने पहुँचे
तुम नहीं चलते, रज़ा ! सारा तो सामान गया


शायर:
इमाम अहमद रज़ा ख़ान

ना'त-ख़्वाँ:
सय्यिद फ़सीहुद्दीन सुहरवर्दी
ओवैस रज़ा क़ादरी
ग़ुलाम नूर-ए-मुजस्सम





ne'mate.n baanT.ta jis samt wo zeeshaan gaya
saath hi munshi-e-rahmat ka qalam-daan gaya

le KHabar jald ki Gairo.n ki taraf dhyaan gaya
mere maula mere aaqa ! tere qurbaan gaya

aah ! wo aankh ki naakaam-e-tamanna hi rahi
haae ! wo dil jo tere dar se pur-armaan gaya

dil hai wo dil jo teri yaad se maa'moor raha
sar hai wo sar jo tere qadmo.n pe qurbaan gaya

unhe.n jaana, unhe.n maana, na rakha Gair se kaam
lillahil-hamd mai.n duniya se musalmaan gaya

aur tum par mere aaqa ki 'inaayat na sahi
najdiyo ! kalma pa.Dhaane ka bhi ehsaan gaya

aaj le un ki panaah, aaj madad maang un se
phir na maanenge qiyaamat me.n agar maan gaya

uf re munkir ye ba.Dha josh-e-ta'assub aaKHir
bhee.D me.n haath se kam-baKHt ke imaan gaya

jaan-o-dil, hosh-o-KHirad sab to madine pahunche
tum nahi.n chalte, Raza ! saara to saamaan gaya


Poet:
Imam Ahmad Raza Khan

Naat-Khwaan:
Syed Fasihuddin Soharwardi
Owais Raza Qadri
Ghulam Noor-e-Mujassam
Nemate Banta Jis Simt Wo Zeeshan Gaya Lyrics | Nemate Banta Jis Simt Wo Zeeshan Gaya Lyrics in Hindi | Naimatain Banta Jis Simt Wo Zeeshan Gaya Lyrics | nematein bant'ta zishan zishaan naimatein | Kalam e Raza Lyrics | ala Hazrat Naat Lyrics lyrics of naat | naat lyrics in hindi | islamic lyrics | hindi me naat lyrics | hindi me naat likhi hui | All Naat Lyrics in Hindi | नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई | नात शरीफ की किताब हिंदी में | आला हजरत की नात शरीफ lyrics | हिंदी नात | Lyrics in English | Lyrics in Roman 50+ Naat Lyrics | Best Place To Find All Naat Sharif | 500+ Naat Lyrics | Best Site To Find All Naat in Hindi, English | 430 Naat lyrics ideas in 2023

Comments

Most Popular

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

बे-ख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Be-Khud Kiye Dete Hain Andaaz-e-Hijabana

नूरी महफ़िल पे चादर तनी नूर की / Noori Mehfil Pe Chadar Tani Noor Ki

वो जिस के लिए महफ़िल-ए-कौनैन सजी है | वो मेरा नबी, मेरा नबी, मेरा नबी है / Wo Jis Ke Liye Mehfil-e-Kaunain Saji Hai | Wo Mera Nabi, Mera Nabi, Mera Nabi Hai

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

पाई शब-ए-बरात ये क़िस्मत की बात है | जागूँगा सारी रात इबादत की रात है / Paai Shab-e-Barat Ye Qismat Ki Baat Hai | Jagunga Saari Raat Ibadat Ki Raat Hai

कोई दुनिया-ए-अता में नहीं हमता तेरा | तज़मीन - वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा / Koi Duniya-e-Ata Mein Nahin Hamta Tera | Tazmeen of Waah ! Kya Jood-o-Karam Hai, Shah-e-Bat.ha ! Tera