मुझे दर पे फिर बुलाना मदनी मदीने वाले / Mujhe Dar Pe Phir Bulana Madani Madine Wale

मुझे दर पे फिर बुलाना, मदनी मदीने वाले !
मय-ए-'इश्क़ भी पिलाना, मदनी मदीने वाले !

मेरी आँख में समाना, मदनी मदीने वाले !
बने दिल तेरा ठिकाना, मदनी मदीने वाले !

तेरी जबकि दीद होगी, जभी मेरी 'ईद होगी
मेरे ख़्वाब में तुम आना, मदनी मदीने वाले !

मुझे ग़म सता रहे हैं, मेरी जान खा रहे हैं
तुम्हीं हौसला बढ़ाना, मदनी मदीने वाले !

मेरे सब 'अज़ीज़ छूटे, मेरे यार भी तो रूठे
कहीं तुम न रूठ जाना, मदनी मदीने वाले !

मेरे सब 'अज़ीज़ छूटें, मेरे दोस्त भी गो रूठें
शहा ! तुम न रूठ जाना, मदनी मदीने वाले !

मैं अगरचे हूँ कमीना, तेरा हूँ, शह-ए-मदीना !
मुझे क़दमों से लगाना, मदनी मदीने वाले !

तेरे दर से, शाह ! बेहतर, तेरे आस्ताँ से बढ़ कर
है भला कोई ठिकाना, मदनी मदीने वाले !

तेरा तुझ से हूँ सुवाली, शहा ! फेरना न ख़ाली
मुझे अपना तू बनाना, मदनी मदीने वाले !

ये मरीज़ मर रहा है, तेरे हाथ में शिफ़ा है
ऐ तबीब ! जल्द आना, मदनी मदीने वाले !

तू है अंबिया का सरवर, तू ही दो जहाँ का यावर
तू ही रहबर-ए-ज़माना, मदनी मदीने वाले !

तू है बेकसों का यावर, ऐ मेरे ग़रीब-परवर !
है सख़ी तेरा घराना, मदनी मदीने वाले !

तू ख़ुदा के बा'द बेहतर है सभी से, मेरे सरवर !
तेरा हाशिमी घराना, मदनी मदीने वाले !

तेरी फ़र्श पर हुकूमत, तेरी 'अर्श पर हुकूमत
तू शहंशह-ए-ज़माना, मदनी मदीने वाले !

तेरा ख़ुल्क़ सब से बाला, तेरा हुस्न सब से आ'ला
फ़िदा तुझ पे सब ज़माना, मदनी मदीने वाले !

कहूँ किस से, आह ! जा कर, सुने कौन, मेरे सरवर !
मेरे दर्द का फ़साना, मदनी मदीने वाले !

ब-'अता-ए-रब्ब-ए-हाकिम, तू है रिज़्क़ का भी क़ासिम
है तेरा सब आब-ओ-दाना, मदनी मदीने वाले !

मैं ग़रीब बे-सहारा, कहाँ और है गुज़ारा
मुझे आप ही निभाना, मदनी मदीने वाले !

ये करम बड़ा करम है, तेरे हाथ में भरम है
सर-ए-हश्र बख़्शवाना, मदनी मदीने वाले !

कभी जव की मोटी रोटी तो कभी खजूर पानी
तेरा ऐसा सादा खाना, मदनी मदीने वाले !

है चटाई का बिछौना, कभी ख़ाक ही पे सोना
कभी हाथ का सिरहाना, मदनी मदीने वाले !

तेरी सादगी पे लाखों, तेरी 'आजिज़ी पे लाखों
हों सलाम 'आजिज़ाना, मदनी मदीने वाले !

मेरे शाह ! वक़्त-ए-रुख़्सत मुझे मीठा मीठा शरबत
तेरे दीद का पिलाना, मदनी मदीने वाले !

मिले नज़'अ में भी राहत, रहूँ क़ब्र में सलामत
तू 'अज़ाब से बचाना, मदनी मदीने वाले !

घुप अँधेरी क़ब्र में जब मुझे छोड़ कर चलें सब
मेरी क़ब्र जगमगाना, मदनी मदीने वाले !

पस-ए-मर्ग सब्ज़-गुंबद की, हुज़ूर ! ठंडी ठंडी
मुझे छाँव में सुलाना, मदनी मदीने वाले !

ऐ शफ़ी'-ए-रोज़-ए-महशर ! है गुनह का बोझ सर पर
मैं फँसा मुझे बचाना, मदनी मदीने वाले !

मेरे वालिदैन महशर में गो भूल जाएँ, सरवर !
मुझे तुम न भूल जाना, मदनी मदीने वाले !

शहा ! तिश्नगी बड़ी है, यहाँ धूप भी कड़ी है
शह-ए-हौज़-ए-कौसर ! आना, मदनी मदीने वाले !

मुझे आफ़तों ने घेरा, है मुसीबतों का डेरा
या नबी ! मदद को आना, मदनी मदीने वाले !

तेरे दर की हाज़िरी को जो तड़प रहे हैं उन को
शहा ! जल्द तू बुलाना, मदनी मदीने वाले !

कोई इस तरफ़ भी फेरा, हो ग़मों का दूर अँधेरा
ऐ सरापा नूर ! आना, मदनी मदीने वाले !

कोई पाए बख़्त-वर गर, है शरफ़ शही से बढ़ कर
तेरे ना'ल-ए-पाक उठाना, मदनी मदीने वाले !

मेरा सीना हो मदीना, मेरे दिल का आबगीना
भी मदीना ही बनाना, मदनी मदीने वाले !

ऐ हबीब-ए-रब्ब-ए-बारी ! है गुनह का बोझ भारी
तुम्हीं हश्र में छुड़ाना, मदनी मदीने वाले !

मेरी 'आदतें हों बेहतर, बनूँ सुन्नतों का पैकर
मुझे मुत्तक़ी बनाना, मदनी मदीने वाले !

शहा ! ऐसा जज़्बा पाऊँ, कि मैं ख़ूब सीख जाऊँ
तेरी सुन्नतें सिखाना, मदनी मदीने वाले !

तेरे नाम पर हो क़ुर्बां मेरी जान, जान-ए-जानाँ !
हो नसीब सर कटाना, मदनी मदीने वाले !

तेरी सुन्नतों पे चल कर, मेरी रूह जब निकल कर
चले, तू गले लगाना, मदनी मदीने वाले !

हैं मुबल्लिग़, आक़ा ! जितने, करो दूर उन से फ़ितने
बूरी मौत से बचाना, मदनी मदीने वाले !

मेरे ग़ौस का वसीला, रहे शाद सब क़बीला
इन्हें ख़ुल्द में बसाना, मदनी मदीने वाले !

मेरे जिस क़दर हैं अहबाब, उन्हें कर दे शाह बेताब
मिले 'इश्क़ का ख़ज़ाना, मदनी मदीने वाले !

मेरी आने वाली नस्लें तेरे 'इश्क़ ही में मचलें
उन्हें नेक तूम बनाना, मदनी मदीने वाले !

मेरी आने वाली नस्लें तेरे 'इश्क़ ही में मचलें
उन्हें नेक तुम बनाना, मदनी मदीने वाले !

मिले सुन्नतों का जज़्बा, मेरे भाई छोड़ें, मौला !
सभी दाढ़ियाँ मुंडाना, मदनी मदीने वाले !

मेरी काश ! सारी बहनें, रहें मदनी बुर्क़'ओं में
हो करम शह-ए-ज़माना, मदनी मदीने वाले !

दो जहान के ख़ज़ाने दिए हाथ में ख़ुदा ने
तेरा काम है लुटाना, मदनी मदीने वाले !

तेरा ग़म ही चाहे 'अत्तार, इसी में रहे गिरिफ़्तार
ग़म-ए-माल से बचाना, मदनी मदीने वाले !


शायर:
मुहम्मद इल्यास अत्तार क़ादरी

ना'त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी
अश्फ़ाक़ अत्तारी





mujhe dar pe phir bulaana, madani madine waale !
mai-e-'ishq bhi pilaana, madani madine waale !

meri aankh me.n samaana, madani madine waale !
bane dil tera Thikaana, madani madine waale !

teri jabki deed hogi, jabhi meri 'eid hogi
mere KHwaab me.n tum aana, madani madine waale !

mujhe Gam sata rahe hai.n, meri jaan khaa rahe hai.n
tumhi.n hausla ba.Dhaana, madani madine waale !

mere sab 'azeez chhooTe, mere yaar bhi to rooThe
kahi.n tum na rooTh jaana, madani madine waale !

mere sab 'azeez chhooTe.n, mere dost bhi go rooThe.n
shaha, tum na rooTh jaana, madani madine waale !

mai.n agarche hu.n kameena, tera hu.n, shah-e-madina !
mujhe qadmo.n se lagaana, madani madine waale !

tere dar se, shaah ! behtar, tere aastaa.n se ba.Dh kar
hai bhala koi Thikaana, madani madine waale !

tera tujh se hu.n suwaali, shaha ! pherna na KHaali
mujhe apna tu banaana, madani madine waale !

ye mareez mar raha hai, tere haath me.n shifa hai
ai tabeeb ! jald aana, madani madine waale !

tu hai ambiya ka sarwar, tu hai do jahaa.n ka yaawar
tu hi rahbar-e-zamaana, madani madine waale !

tu hai bekaso.n ka yaawar, ai mere Gareeb-parwar !
hai saKHi tera gharaana, madani madine waale !

tu KHuda ke baa'd behtar hai sabhi se, mere sarwar !
tera haashimi gharaana, madani madine waale !

teri farsh par hukoomat, teri 'arsh par hukoomat
tu shahanshah-e-zamaana, madani madine waale !

tera KHulq sab se baala, tera husn sab se aa'la
fida tujh pe sab zamaana, madani madine waale !

kahu.n kis se, aah ! jaa kar, sune kaun, mere sarwar !
mere dard ka fasaana, madani madine waale !

ba-'ata-e-rabb-e-haakim, tu hai rizq ka bhi qaasim
hai tera sab aab-o-daana, madani madine waale !

mai.n Gareeb be-sahaara, kahaa.n aur hai guzaara
mujhe aap hi nibhaana, madani madine waale !

kabhi jaw ki moTi roTi ti kabhi khajoor paani
tera aisa saada khaana, madani madine waale !

hai chaTaai ka bichhauna, kabhi KHaak hi pe sona
kabhi haath ka sirhaana, madani madine waale !

teri saadgi pe laakho.n, teri 'aajizi pe laakho.n
ho.n salaam 'aajizaana, madani madine waale !

mere shaah ! waqt-e-ruKHsat mujhe meeTha meeTha sharbat
tere deed ka pilaana, madani madine waale !

mile naz'a me.n bhi raahat, rahu.n qabr me.n salaamat
tu 'azaab se bachaana, madani madine waale !

ghup andheri qabr me.n jab mujhe chho.D kar chale.n sab
meri qabr jagmagaana, madani madine waale !

pas-e-marg sabz-gumbad ki, huzoor ! Thandi Thandi
mujhe chhaanw me.n sulaana, madani madine waale !

ai shafi'-e-roz-e-mehshar ! hai gunah ka bojh sar par
mai.n phansa mujhe bachaana, madani madine waale !

shaha ! tishnagi ba.Di hai, yahaa.n dhoop bhi ka.Di hai
shah-e-hauz-e-kausar ! aana, madani madine waale !

mujhe aafto.n ne ghera, hai museebato.n ka Dera
ya nabi ! madad ko aana, madani madine waale !

tere dar ki haaziri ko jo ta.Dap rahe hai.n un ko
shaha ! jald tu bulaana, madani madine waale !

koi is taraf bhi phera, ho Gamo.n ka door andhera
ai saraapa noor ! aana, madani madine waale !

koi paae baKHt-war gar, hai sharaf shahi se ba.Dh kar
tere naa'l-e-paak uThaana, madani madine waale !

mera seena ho madina, mere dil ka aabgeena
bhi madina hi banaana, madani madine waale !

ai habeeb-e-rabb-e-baari ! hai gunah ka bojh bhaari
tumhi.n hashr me.n chhu.Daana, madani madine waale !

meri 'aadate.n ho.n behtar, banu.n sunnato.n ka paikar
mujhe muttaqi banaana, madani madine waale !

shaha ! aisa jazba paau.n, ki mai.n KHoob seekh jaau.n
teri sunnate.n sikhaana, madani madine waale !

tere naam par ho qurbaa.n meri jaan, jaan-e-jaanaa.n !
ho naseeb sar kaTaana, madani madine waale !

teri sunnato.n pe chal kar, meri rooh jab nikal kar
chale, tu gale lagaana, madani madine waale !

hai.n muballig, aaqa ! jitne, karo door un se fitne
boori maut se bachaana, madani madine waale !

mere Gaus ka waseela, rahe shaad sab qabeela
inhe.n KHuld me.n basaana, madani madine waale !

mere jis qadar hai.n ahbaab, unhe.n kar de shaah betaab
mile 'ishq ka KHazaana, madani madine waale !

meri aane waali nasle.n tere 'ishq hi me.n machle.n
unhe.n nek tum banaana, madani madine waale !

meri aane waali nasle.n tere 'ishq hi me.n machle.n
unhe.n nek tu banaana, madani madine waale !

mile sunnato.n ka jazba, mere bhaai chho.De.n, maula !
sabhi daa.Dhiyaa.n munDaana, madani madine waale !

meri kaash ! saari behne.n, rahe.n madni burqa'o.n me.n
ho karam shah-e-zamaana, madani madine waale !

do jahaan ke KHazaane diye haath me.n KHuda ne
tera kaam hai luTaana, madani madine waale !

tera Gam hi chaahe 'Attar, isi me.n rahe giriftaar
Gam-e-maal se bachaana, madani madine waale !


Poet:
Muhammad Ilyas Attar Qadri

Naat-Khwaan:
Owais Raza Qadri
Hafiz Tahir Qadri
Ashfaq Attari
Mujhe Dar Pe Phir Bulana Lyrics | Mujhe Dar Pe Phir Bulana Madani Madine Wale Lyrics | Mujhe Dar Pe Phir Bulana Madani Madine Wale Lyrics in Hindi | fir par muje madni lyrics of naat | naat lyrics in hindi | islamic lyrics | hindi me naat lyrics | hindi me naat likhi hui | All Naat Lyrics in Hindi | नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई | नात शरीफ की किताब हिंदी में | आला हजरत की नात शरीफ lyrics | हिंदी नात | Lyrics in English | Lyrics in Roman 50+ Naat Lyrics | Best Place To Find All Naat Sharif | 500+ Naat Lyrics | Best Site To Find All Naat in Hindi, English | 430 Naat lyrics ideas in 2023

Comments

Most Popular

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

बे-ख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Be-Khud Kiye Dete Hain Andaaz-e-Hijabana

कोई दुनिया-ए-अता में नहीं हमता तेरा | तज़मीन - वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा / Koi Duniya-e-Ata Mein Nahin Hamta Tera | Tazmeen of Waah ! Kya Jood-o-Karam Hai, Shah-e-Bat.ha ! Tera

वो जिस के लिए महफ़िल-ए-कौनैन सजी है | वो मेरा नबी, मेरा नबी, मेरा नबी है / Wo Jis Ke Liye Mehfil-e-Kaunain Saji Hai | Wo Mera Nabi, Mera Nabi, Mera Nabi Hai

नूरी महफ़िल पे चादर तनी नूर की / Noori Mehfil Pe Chadar Tani Noor Ki

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

पाई शब-ए-बरात ये क़िस्मत की बात है | जागूँगा सारी रात इबादत की रात है / Paai Shab-e-Barat Ye Qismat Ki Baat Hai | Jagunga Saari Raat Ibadat Ki Raat Hai