दर-ए-नबी पर ये उम्र बीते | ये रिफ़अत-ए-ज़िक्र-ए-मुस्तफ़ा है / Dar-e-Nabi Par Ye Umr Beete | Ye Rifat-e-Zikr-e-Mustafa Hai

दर-ए-नबी पर ये 'उम्र बीते, हो हम पे लुत्फ़-ए-दवाम ऐसा
मदीने वाले कहें मक़ामी हो उन के दर पर क़याम ऐसा

ये रिफ़'अत-ए-ज़िक्र-ए-मुस्तफ़ा है, नहीं किसी का मक़ाम ऐसा
जो बा'द ज़िक्र-ए-ख़ुदा है अफ़ज़ल, है ज़िक्र-ए-ख़ैर-उल-अनाम ऐसा

जो ग़म-ज़दों को गले लगा ले, बुरों को दामन में जो छुपा ले
है दूसरा कौन इस जहाँ में सिवा-ए-ख़ैर-उल-अनाम ऐसा

बिलाल तुझ पर निसार जाऊँ कि ख़ुद नबी ने तुझे ख़रीदा
नसीब हो तो नसीब ऐसा, ग़ुलाम हो तो ग़ुलाम ऐसा

नमाज़ अक़्सा में जब पढ़ाई तो अंबिया और रुसुल ये बोले
नमाज़ हो तो नमाज़ ऐसी, इमाम हो तो इमाम ऐसा

लबों पे नाम-ए-नबी जब आया, गुरेज़-पा हादिसों को पाया
जो टाल देता है मुश्किलों को, मेरे नबी का है नाम ऐसा

मुझ ही को देखो वो बे-तलब ही नवाज़ते जा रहे हैं पैहम
न कोई मेरा 'अमल है ऐसा, न कोई मेरा है काम ऐसा

हुसैन क़ुरआँ के हैं वो क़ारी, जो नोक-ए-नेज़ा पे भी ये बोले
सिवा ख़ुदा के न सर झुकाना, दिया जहाँ को पयाम ऐसा

हैं जितने 'अक़्ल-ओ-ख़िरद के दा'वे, सब उन की गर्द-ए-सफ़र में गुम हैं
कोई भी अब तक समझ न पाया, है मुस्तफ़ा का मक़ाम ऐसा

मैं, ख़ालिद ! अपने नबी पे क़ुर्बां, है जिन का ख़ुल्क़-ए-'अज़ीम क़ुरआँ
है रौशनी जिस की दो जहाँ में, कहीं है माह-ए-तमाम ऐसा


शायर:
ख़ालिद मेहमूद नक़्शबन्दी

ना'त-ख़्वाँ:
यूसुफ़ मेमन
ओवैस रज़ा क़ादरी
हाफ़िज़ निसार अहमद मार्फ़ानी
ग़ुलाम मुस्तफ़ा क़ादरी
मीलाद रज़ा क़ादरी
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी





dar-e-nabi par ye 'umr beete, ho ham pe lutf-e-dawaam aisa
madine waale kahe.n maqaami ho un ke dar par qayaam aisa

ye rif'at-e-zikr-e-mustafa hai, nahi.n kisi ka maqaam aisa
jo baa'd zikr-e-KHuda hai afzal, hai zikr-e-KHair-ul-anaam aisa

jo Gam-zado.n ko gale laga le, buro.n ko daaman me.n jo chhupa le
hai doosra kaun is jahaa.n me.n siwa-e-KHair-ul-anaam aisa

bilaal tujh par nisaar jaau.n ki KHud nabi ne tujhe KHareeda
naseeb ho to naseeb aisa, Gulaam ho to Gulaam aisa

namaaz aqsa me.n jab pa.Dhaai to ambiya aur rusul ye bole
namaaz ho to namaaz aisi, imaam ho to imaam aisa

labo.n pe naam-e-nabi jab aaya, gurez-paa haadiso.n ko paaya
jo Taal deta hai mushkilo.n ko, mere nabi ka hai naam aisa

mujh hi ko dekho wo be-talab hi nawaazte jaa rahe hai.n paiham
na koi mera 'amal hai aisa, na koi mera hai kaam aisa

husain qur.aa.n ke hai.n wo qaari, jo nok-e-neza pe bhi ye bole
siwa KHuda ke na sar jhukaana, diya jahaa.n ko payaam aisa

hai.n jitne 'aql-o-KHirad ke daa'we, sab un ki gard-e-safar me.n gum hai.n
koi bhi ab tak samajh na paaya, hai mustafa ka maqaam aisa

mai.n KHalid ! apne nabi pe qurbaa.n, hai jin ka KHulq-e-'azeem qur.aa.n
hai raushni jis ki do jahaa.n me.n, kahi.n hai maah-e-tamaam aisa


Poet:
Khalid Mahmood Naqshbandi

Naat-Khwaan:
Yusuf Memon
Owais Raza Qadri
Hafiz Nisar Ahmad Marfani
Ghulam Mustafa Qadri
Milad Raza Qadri
Hafiz Tahir Qadri
Dar e Nabi Par Ye Umr Beetay Lyrics in Hindi | Ye Rifat e Zikr e Mustafa Hai Lyrics in Hindi | Dare Nabi Par Ye Umr Beetay Ho Hum Pe Lutf e Dawam Aisa Lyrics | pe yeh umar beete rifate zikre nahi kisi ka maqam aysa lyrics of naat | naat lyrics in hindi | islamic lyrics | hindi me naat lyrics | hindi me naat likhi hui | All Naat Lyrics in Hindi | नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई | नात शरीफ की किताब हिंदी में | आला हजरत की नात शरीफ lyrics | हिंदी नात | Lyrics in English | Lyrics in Roman 50+ Naat Lyrics | Best Place To Find All Naat Sharif | 500+ Naat Lyrics | Best Site To Find All Naat in Hindi, English | 430 Naat lyrics ideas in 2023

Comments

Most Popular

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

बे-ख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Be-Khud Kiye Dete Hain Andaaz-e-Hijabana

कोई दुनिया-ए-अता में नहीं हमता तेरा | तज़मीन - वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा / Koi Duniya-e-Ata Mein Nahin Hamta Tera | Tazmeen of Waah ! Kya Jood-o-Karam Hai, Shah-e-Bat.ha ! Tera

वो जिस के लिए महफ़िल-ए-कौनैन सजी है | वो मेरा नबी, मेरा नबी, मेरा नबी है / Wo Jis Ke Liye Mehfil-e-Kaunain Saji Hai | Wo Mera Nabi, Mera Nabi, Mera Nabi Hai

ऐ ज़हरा के बाबा सुनें इल्तिजा मदीना बुला लीजिए / Aye Zahra Ke Baba Sunen Iltija Madina Bula Lijiye

कोई गुल बाक़ी रहेगा न चमन रह जाएगा / Koi Gul Baqi Rahega Na Chaman Reh Jayega