मेरी उल्फ़त मदीने से यूँ ही नहीं मेरे आक़ा का रौज़ा मदीने में है / Meri Ulfat Madine Se Yun Hi Nahin Mere Aaqa Ka Rauza Madine Mein Hai

मेरी उल्फ़त मदीने से यूँ ही नहीं, मेरे आक़ा का रौज़ा मदीने में है
मैं मदीने की जानिब न कैसे खिंचूँ, मेरा दीन और दुनिया मदीने में है

मेरी उल्फ़त मदीने से यूँ ही नहीं, मेरे आक़ा का रौज़ा मदीने में है

'अर्श-ए-आ'ज़म से जिस की बड़ी शान है, रौज़ा-ए-मुस्तफ़ा जिस की पहचान है
जिस का हम-पल्ला कोई मुहल्ला नहीं, एक ऐसा मुहल्ला मदीने में है

मेरी उल्फ़त मदीने से यूँ ही नहीं, मेरे आक़ा का रौज़ा मदीने में है

फिर मुझे मौत का कोई ख़तरा न हो, मौत क्या ज़िंदगी की भी परवा न हो
काश ! सरकार इक बार मुझ से कहें, अब तेरा जीना-मरना मदीने में है

मेरी उल्फ़त मदीने से यूँ ही नहीं, मेरे आक़ा का रौज़ा मदीने में है

सरवर-ए-दो-जहाँ से दु'आ है मेरी, हाँ ! ब-दो-चश्म-ए-तर इल्तिजा है मेरी
उन की फ़ेहरिस्त में मेरा भी नाम हो, जिन का रोज़ आना-जाना मदीने में है

मेरी उल्फ़त मदीने से यूँ ही नहीं, मेरे आक़ा का रौज़ा मदीने में है

जब नज़र सू-ए-तयबा रवाना हुई, साथ दिल भी गया, साथ जाँ भी गई
मैं, मुनीर ! अब रहूँगा यहाँ किस लिए ? मेरा सारा असासा मदीने में है


शायर:
मुनीर क़सूरी

ना'त-ख़्वाँ:
अल्लामा हाफ़िज़ बिलाल क़ादरी
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी
ज़ोहैब अशरफ़ी





meri ulfat madine se yu.n hi nahi.n
mere aaqa ka rauza madine me.n hai
mai.n madine ki jaanib na kaise khinchoo.n
mera deen aur duniya madine me.n hai

meri ulfat madine se yu.n hi nahi.n
mere aaqa ka rauza madine me.n hai

'arsh-e-aa'zam se jis ki ba.Di shaan hai
rauza-e-mustafa jis ki pehchaan hai
jis ka ham-palla koi muhalla nahi.n
ek aisa muhalla madine me.n hai

meri ulfat madine se yu.n hi nahi.n
mere aaqa ka rauza madine me.n hai

phir mujhe maut ka koi KHatra na ho
maut kya zindagi ki bhi parwa na ho
kaash ! sarkaar ik baar mujh se kahe.n
ab tera jeena-marna madine me.n hai

meri ulfat madine se yu.n hi nahi.n
mere aaqa ka rauza madine me.n hai

sarwar-e-do-jahaa.n se du'aa hai meri
haa.n ! ba-do-chashm-e-tar iltija hai meri
un ki fehrist me.n mera bhi naam ho
jin ka roz aana-jaana madine me.n hai

meri ulfat madine se yu.n hi nahi.n
mere aaqa ka rauza madine me.n hai

jab nazar soo-e-tayba rawaana hui
saath dil bhi gaya, saath jaa.n bhi gai
mai.n, Muneer ! ab rahoonga yahaa.n kis liye ?
mera saara asaasa madine me.n hai


Poet:
Muneer Qasoori

Naat-Khwaan:
Allama Hafiz Bilal Qadri
Hafiz Tahir Qadri
Zohaib Ashrafi
Meri Ulfat Madine Se Yunhi Nahi Lyrics, Meri Ulfat Madine Se Yun Hi Nahi Lyrics in Hindi, Mere Aaqa Ka Roza Madine Mein Hai Lyrics, Meri Ulfat Lyrics madeene yonhi yon hi yuhi yu hi aqa me hei he hein hain lyrics of naat, naat lyrics in hindi, islamic lyrics, hindi me naat lyrics, hindi me naat likhi hui, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई, नात शरीफ की किताब हिंदी में, आला हजरत की नात शरीफ lyrics, हिंदी नात, Lyrics in English, Lyrics in Roman

Comments

Post a Comment

Most Popular

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

इमदाद कुन इमदाद कुन या ग़ौस-ए-आज़म दस्तगीर / Imdad Kun Imdad Kun Ya Ghaus-e-Azam Dastagir | Imdad Kun Imdad Kun Ya Ghous-e-Azam Dastagir

सरकार-ए-ग़ौस-ए-आज़म नज़र-ए-करम ख़ुदारा / Sarkar-e-Ghaus-e-Azam Nazar-e-Karam Khudara

उन का मँगता हूँ जो मँगता नहीं होने देते / Un Ka Mangta Hun Jo Mangta Nahin Hone Dete

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

बे-ख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Be-Khud Kiye Dete Hain Andaaz-e-Hijabana

मीराँ वलियों के इमाम / Meeran Waliyon Ke Imam

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

क़ादरी आस्ताना सलामत रहे | मुस्तफ़ा का घराना सलामत रहे / Qadri Aastana Salamat Rahe | Qadri Astana Salamat Rahe | Mustafa Ka Gharana Salamat Rahe

फ़ासलों को ख़ुदारा मिटा दो | जालियों पर निगाहें जमी हैं / Faslon Ko Khudara Mita Do | Jaliyon Par Nigahen Jami Hain