उन का मँगता हूँ जो मँगता नहीं होने देते / Un Ka Mangta Hun Jo Mangta Nahin Hone Dete

उन का मँगता हूँ, जो मँगता नहीं होने देते
ये हवाले मुझे रुस्वा नहीं होने देते

उन का मँगता हूँ, जो मँगता नहीं होने देते

मेरे हर 'ऐब की करते हैं वो पर्दा-पोशी
मेरे जुर्मों का तमाशा नहीं होने देते

उन का मँगता हूँ, जो मँगता नहीं होने देते

अपने मँगतों की वो फ़ेहरिस्त में रखते हैं सदा
मुझ को मोहताज किसी का नहीं होने देते

उन का मँगता हूँ, जो मँगता नहीं होने देते

है ये ईमान कि आएँगे लहद में मेरी
अपने मँगतों को वो तन्हा नहीं होने देते

उन का मँगता हूँ, जो मँगता नहीं होने देते

ना'त पढ़ता हूँ तो आती है महक तयबा की
मेरे लहजे को वो मैला नहीं होने देते

उन का मँगता हूँ, जो मँगता नहीं होने देते

आप की याद से रहती है नमी आँखों में
मेरे दरियाओं को सहरा नहीं होने देते

उन का मँगता हूँ, जो मँगता नहीं होने देते

हुक्म करते हैं तो मिलते हैं ये मक़्ते, शाकिर !
आप न चाहें तो मतला' नहीं होने देते


शायर:
तन्वीरुल्लाह शाकिर

नात-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी
ग़ुलाम मुस्तफ़ा क़ादरी
क़ारी शाहिद महमूद





un ka mangta hu.n, jo mangta nahi.n hone dete
ye hawaale mujhe ruswa nahi.n hone dete

un ka mangta hu.n, jo mangta nahi.n hone dete

mere har 'aib ki karte hai.n wo parda-poshi
mere jurmo.n ka tamaasha nahi.n hone dete

un ka mangta hu.n, jo mangta nahi.n hone dete

apne mangto.n ki wo fehrist me.n rakhte hai.n sada
mujh ko mohtaaj kisi ka nahi.n hone dete

un ka mangta hu.n, jo mangta nahi.n hone dete

hai ye imaan ki aae.nge lahad me.n meri
apne mangto.n ko wo tanha nahi.n hone dete

un ka mangta hu.n, jo mangta nahi.n hone dete

naa't pa.Dhta hu.n to aati hai mahak tayba ki
mere lahje ko wo maila nahi.n hone dete

un ka mangta hu.n, jo mangta nahi.n hone dete

aap ki yaad se rahti hai nami aankho.n me.n
mere dariyao.n ko sahra nahi.n hone dete

un ka mangta hu.n, jo mangta nahi.n hone dete

hukm karte hai.n to milte hai.n ye maqte, Shaakir !
aap na chaahe.n to matla' nahi.n hone dete


Poet:
Tanveerullah Shakir

Naat-Khwaan:
Hafiz Tahir Qadri
Ghulam Mustafa Qadri
Qari Shahid Mahmood
Unka Mangta Hun Jo Mangta Nahin Hone Dete Naat Lyrics, Unka Mangta Hoon Jo Mangta Nahi Hone Dete Naat Lyrics in Hindi, Lyrics in English un ka manghta hu hoo hoo.n magta maghta lyrics of naat, naat lyrics in hindi, islamic lyrics, hindi me naat lyrics, hindi me naat likhi hui, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई, नात शरीफ की किताब हिंदी में, आला हजरत की नात शरीफ lyrics, हिंदी नात, Lyrics in English, Lyrics in Roman

Comments

Post a Comment

Most Popular

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

इमदाद कुन इमदाद कुन या ग़ौस-ए-आज़म दस्तगीर / Imdad Kun Imdad Kun Ya Ghaus-e-Azam Dastagir | Imdad Kun Imdad Kun Ya Ghous-e-Azam Dastagir

सरकार-ए-ग़ौस-ए-आज़म नज़र-ए-करम ख़ुदारा / Sarkar-e-Ghaus-e-Azam Nazar-e-Karam Khudara

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

बे-ख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Be-Khud Kiye Dete Hain Andaaz-e-Hijabana

मीराँ वलियों के इमाम / Meeran Waliyon Ke Imam

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

क़ादरी आस्ताना सलामत रहे | मुस्तफ़ा का घराना सलामत रहे / Qadri Aastana Salamat Rahe | Qadri Astana Salamat Rahe | Mustafa Ka Gharana Salamat Rahe

फ़ासलों को ख़ुदारा मिटा दो | जालियों पर निगाहें जमी हैं / Faslon Ko Khudara Mita Do | Jaliyon Par Nigahen Jami Hain