फ़ासलों को ख़ुदारा मिटा दो | जालियों पर निगाहें जमी हैं / Faslon Ko Khudara Mita Do | Jaliyon Par Nigahen Jami Hain

फ़ासलों को ख़ुदा-रा ! मिटा दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं
अपना जल्वा इसी में दिखा दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

फ़ासलों को ख़ुदा-रा ! मिटा दो
रुख़ से पर्दा अब अपने हटा दो
अपना जल्वा इसी में दिखा दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

फ़ासलों को ख़ुदा-रा ! मिटा दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

एक मुजरिम सियाह-कार हूँ मैं
हर ख़ता का सज़ा-वार हूँ मैं
मेरे चारों तरफ़ है अँधेरा
रौशनी का तलबग़ार हूँ मैं
इक दिया ही समझ कर जला दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

फ़ासलों को ख़ुदा-रा ! मिटा दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

वज्द में आएगा सारा 'आलम
हम पुकारेंगे, या ग़ौस-ए-आ'ज़म
वो निकल आएँगे जालियों से
और क़दमों में गिर जाएँगे हम
फिर कहेंगे कि बिगड़ी बना दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

फ़ासलों को ख़ुदा-रा ! मिटा दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

ग़ौस-उल-आ'ज़म हो, ग़ौस-उल-वरा हो
नूर हो नूर-ए-सल्ले-'अला हो
क्या बयाँ आप का मर्तबा हो !
दस्त-गीर और मुश्किल-कुशा हो
आज दीदार अपना करा दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

फ़ासलों को ख़ुदा-रा ! मिटा दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

सुन रहे हैं वो फ़रियाद मेरी
ख़ाक होगी न बर्बाद मेरी
मैं कहीं भी मरुँ, शाह-ए-जीलाँ !
रूह पहुँचेगी बग़दाद मेरी
मुझ को परवाज़ के पर लगा दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

फ़ासलों को ख़ुदा-रा ! मिटा दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

हर वली आप के ज़ेर-ए-पा है
हर अदा मुस्तफ़ा की अदा है
आपने दीन ज़िंदा किया है
डूबतों को सहारा दिया है
मेरी कश्ती किनारे लगा दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

फ़ासलों को ख़ुदा-रा ! मिटा दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

फ़िक्र देखो, ख़यालात देखो
ये 'अक़ीदत ये जज़्बात देखो
मैं हूँ क्या ! मेरी औक़ात देखो
सामने किस की है ज़ात देखो
अदीब ! अपने सर को झुका लो
जालियों पर निगाहें जमी हैं

फ़ासलों को ख़ुदा-रा ! मिटा दो
जालियों पर निगाहें जमी हैं


शायर:
अदीब रायपुरी

ना'त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी





faaslo.n ko KHuda-raa ! miTa do
jaaliyo.n par nigaahe.n jami hai.n
apna jalwa isi me.n dikha do
jaaliyo.n par nigaahe.n jami hai.n

faaslo.n ko KHuda-raa ! miTa do
ruKH se parda ab apne haTa do
apna jalwa isi me.n dikha do
jaaliyo.n par nigaahe.n jami hai.n

faaslo.n ko KHuda-raa ! miTa do
jaaliyo.n par nigaahe.n jami hai.n

ek mujrim siyaah-kaar hu.n mai.n
har KHata ka sazaa-waar hu.n mai.n
mere chaaro.n taraf hai andhera
raushni ka talabGaar hu.n mai.n
ik diya hi samajh kar jala do
jaaliyo.n par nigaahe.n jami hai.n

faaslo.n ko KHuda-raa ! miTa do
jaaliyo.n par nigaahe.n jami hai.n

wajd me.n aaega saara 'aalam
ham pukaarenge, ya Gaus-e-aa'zam
wo nikal aaenge jaaliyo.n se
aur qadmo.n me.n gir jaaenge ham
phir kahenge ki big.Di bana do
jaaliyo.n par nigaahe.n jami hai.n

faaslo.n ko KHuda-raa ! miTa do
jaaliyo.n par nigaahe.n jami hai.n

Gaus-ul-aa'zam ho, Gaus-ul-wara ho
noor ho noor-e-salle-'ala ho
kya bayaa.n aap ka martaba ho !
dast-geer aur mushkil-kusha ho
aaj deedaar apna kara do
jaaliyo.n par nigaahe.n jami hai.n

faaslo.n ko KHuda-raa ! miTa do
jaaliyo.n par nigaahe.n jami hai.n

sun rahe hai.n wo fariyaad meri
KHaak hogi na barbaad meri
mai.n kahi.n bhi maroo.n, shaah-e-jeelaa.n !
rooh pahunchegi baGdaad meri
mujh ko parwaaz ke par laga do
jaaliyo.n par nigaahe.n jami hai.n

faaslo.n ko KHuda-raa ! miTa do
jaaliyo.n par nigaahe.n jami hai.n

har wali aap ke zer-e-paa hai
har ada mustafa ki ada hai
aapne deen zinda kiya hai
Doobto.n ko sahaara diya hai
meri kashti kinaare laga do
jaaliyo.n par nigaahe.n jami hai.n

faaslo.n ko KHuda-raa ! miTa do
jaaliyo.n par nigaahe.n jami hai.n

fikr dekho, KHayaalaat dekho
ye 'aqeedat ye jazbaat dekho
mai.n hu.n kya ! meri auqaat dekho
saamne kis ki hai zaat dekho
ai Adeeb ! apne sar ko jhuka lo
jaaliyo.n par nigaahe.n jami hai.n

faaslo.n ko KHuda-raa ! miTa do
jaaliyo.n par nigaahe.n jami hai.n


Poet:
Adeeb Raipuri

Naat-Khwaan:
Owais Raza Qadri
Hafiz Tahir Qadri
Faslon Ko Khudara Mita Do Lyrics, Jaliyon Par Nigahe Jami Hai Lyrics, Jaliyon Par Nigahen Jami Hai Lyrics in Hindi, Rukh Se Parda Ab Apne Hata Do Lyrics | faslo faaslo faaslon khudaraa khudaaraa khudaara mitado jaliyo jaaliyo jaaliyon pe nigaahe nigaahen khudara khuda ra pe zami hei hain hein lyrics of naat, naat lyrics in hindi, islamic lyrics, hindi me naat lyrics, hindi me naat likhi hui, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई, नात शरीफ की किताब हिंदी में, आला हजरत की नात शरीफ lyrics, हिंदी नात, Lyrics in English, Lyrics in Roman

Comments

Most Popular

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

मैं बंदा-ए-'आसी हूँ, ख़ता-कार हूँ, मौला ! / Main Banda-e-Aasi Hoon, Khata-Kaar Hoon, Maula !

तेरा नाम ख़्वाजा मुईनुद्दीन | तू रसूल-ए-पाक की आल है / Tera Naam Khwaja Moinuddin | Tu Rasool-e-Pak Ki Aal Hai

बे-ख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Be-Khud Kiye Dete Hain Andaaz-e-Hijabana

उन का मँगता हूँ जो मँगता नहीं होने देते / Un Ka Mangta Hun Jo Mangta Nahin Hone Dete

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

हाल-ए-दिल किस को सुनाएँ, आप के होते हुए / Haal-e-Dil Kis Ko Sunaaen Aap Ke Hote Hue

मौला अली मौला ! मौला अली मौला ! / Maula Ali Maula ! Maula Ali Maula !

छूटे न कभी तेरा दामन या ख़्वाजा मुईनुद्दीन हसन / Chhoote Na Kabhi Tera Daman Ya Khwaja Muinuddin Hasan