गली गली सज गई शहर शहर सज गया | जो आमिना के लाल का मीलाद करेंगे / Gali Gali Saj Gai Shahar Shahar Saj Gaya | Jo Amina Ke Laal Ka Milad Karenge

गली गली सज गई, शहर शहर सज गया
आए नबी, प्यारे नबी, मेरा भी घर सज गया

मरहबा या मुस्तफ़ा ! मरहबा या मुस्तफ़ा !

मुस्तफ़ा से प्यार है, दिल से ये इक़रार है
हर कोई मीलाद-ए-नबी करने को तय्यार है

मरहबा या मुस्तफ़ा ! मरहबा या मुस्तफ़ा !

दुनिया में जहाँ भी रहें, आबाद रहेंगे
जो आमिना के लाल का मीलाद करेंगे

मीलाद करेंगे ! मीलाद करेंगे !
मीलाद करेंगे ! मीलाद करेंगे !

झंडे लगाओ ! घर को सजाओ !
कर के चराग़ाँ ख़ुशियाँ मनाओ !

'आशिक़ ने मदनी लाइटों से घर जगमगा दिया
ये जश्न ज़रूरी है सभी को बता दिया
मुन्किर ! ये तेरा बुग़्ज़ है मीलाद-ए-नबी से
जो सारा साल जलता था वो भी बुझा दिया

गली गली सज गई, शहर शहर सज गया
आए नबी, प्यारे नबी, मेरा भी घर सज गया

दुनिया में जहाँ भी रहें, आबाद रहेंगे
जो आमिना के लाल का मीलाद करेंगे

मीलाद करेंगे ! मीलाद करेंगे !
मीलाद करेंगे ! मीलाद करेंगे !

का'बे के बदरुद्दुजा ! तुम पे करोड़ों दुरूद
तयबा के शम्सुद्दुहा 1 तुम पे करोड़ों दुरूद

शाफ़े'-ए़-रोज़-ए-जज़ा ! तुम पे करोड़ों दुरूद
दाफ़े'-ए़-जुम्ला-बला ! तुम पे करोड़ों दुरूद

और कोई ग़ैब क्या तुम से निहाँ हो भला
जब न ख़ुदा ही छुपा तुम पे करोड़ों दुरूद

काम वो ले लीजिए, तुम को जो राज़ी करे
ठीक हो नाम-ए-रज़ा, तुम पे करोड़ों दुरूद

सरकार के मीलाद पे क्यूँ ए'तिराज़ है
ये बात ख़ुशी की है और तू नाराज़ है
लगता है तेरी दाल में काला ज़रूर है
मीलाद मनाने पे हमें दिल से नाज़ है

दुनिया में जहाँ भी रहें, आबाद रहेंगे
जो आमिना के लाल का मीलाद करेंगे

मीलाद करेंगे ! मीलाद करेंगे !
मीलाद करेंगे ! मीलाद करेंगे !

सरकार आए ! मरहबा !
दिलदार आए ! मरहबा !
मनठार आए ! मेरे लज-पाल आए !

क़ुरआँ के बताए हुए रस्ते पे रहेंगे
असहाब-ए-मुहम्मद के तरीक़े पे चलेंगे
मुमकिन ही नहीं ! कम हो कभी प्यार के जज़्बे
मीलाद-ए-नबी पहले से भी ज़्यादा करेंगे

दुनिया में जहाँ भी रहें, आबाद रहेंगे
जो आमिना के लाल का मीलाद करेंगे

मीलाद करेंगे ! मीलाद करेंगे !
मीलाद करेंगे ! मीलाद करेंगे !

शान-ए-रसूल-ए-पाक सुनाते ही रहेंगे
लब पर दुरूद-ए-पाक सजाते ही रहेंगे
जो मानते नहीं है, हमें उन से ग़रज़ क्या
हम लोग तो मीलाद मनाते ही रहेंगे

गली गली सज गई, शहर शहर सज गया
आए नबी, प्यारे नबी, मेरा भी घर सज गया

दुनिया में जहाँ भी रहें, आबाद रहेंगे
जो आमिना के लाल का मीलाद करेंगे

मीलाद करेंगे ! मीलाद करेंगे !
मीलाद करेंगे ! मीलाद करेंगे !

पुर-नूर है ज़माना सुब्ह-ए-शब-ए-विलादत
पर्दा उठा है किस का सुब्ह-ए-शब-ए-विलादत

आई नई हुकूमत, सिक्का नया चलेगा
'आलम ने रंग बदला सुब्ह-ए-शब-ए-विलादत

दिल जगमगा रहे हैं, क़िस्मत चमक उठी है
फैला नया उजाला सुब्ह-ए-शब-ए-विलादत

ये बिगड़े हुए लोग सुधर क्यूँ नहीं जाते
'उश्शाक़ समंदर में उतर क्यूँ नहीं जाते
गुस्ताख़ों की करते हैं यहाँ जो भी हिमायत
सरकार के ग़द्दार हैं ये मर क्यूँ नहीं जाते

दुनिया में जहाँ भी रहें, आबाद रहेंगे
जो आमिना के लाल का मीलाद करेंगे

मीलाद करेंगे ! मीलाद करेंगे !
मीलाद करेंगे ! मीलाद करेंगे !

सरकार आए ! मरहबा !
दिलदार आए ! मरहबा !
मनठार आए ! मेरे लज-पाल आए !

ख़ुद अपने ही हाथों से यूँ तक़दीर जगा लो
हालात सँवर जाएँगे, झंडों को उठा लो
ईमान है और ख़ैर है मीलाद, उजागर !
क्यूँ बैठे हो, सरकार का मीलाद मना लो

गली गली सज गई, शहर शहर सज गया
आए नबी, प्यारे नबी, मेरा भी घर सज गया

मरहबा या मुस्तफ़ा ! मरहबा या मुस्तफ़ा !

मुस्तफ़ा से प्यार है, दिल से ये इक़रार है
हर कोई मीलाद-ए-नबी करने को तय्यार है

मरहबा या मुस्तफ़ा ! मरहबा या मुस्तफ़ा !

दुनिया में जहाँ भी रहें, आबाद रहेंगे
जो आमिना के लाल का मीलाद करेंगे

मीलाद करेंगे ! मीलाद करेंगे !
मीलाद करेंगे ! मीलाद करेंगे !


शायर:
अल्लामा निसार अली उजागर

ना'त-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी
हाफ़िज़ अहसन क़ादरी





gali gali saj gai, shahar shahar saj gaya
aae nabi, pyaare nabi, mera bhi ghar saj gaya

marhaba ya mustafa ! marhaba ya mustafa !

mustafa se pyaar hai, dil se ye iqraar hai
har koi milaad-e-nabi karne ko tayyaar hai

marhaba ya mustafa ! marhaba ya mustafa !

duniya me.n jahaa.n bhi rahe.n, aabaad rahenge
jo aamina ke laal ka milaad karenge

milaad karenge ! milaad karenge !
milaad karenge ! milaad karenge !

jhande lagaao ! ghar ko sajaao !
kar ke charaaGaa.n KHushiyaa.n manaao !

'aashiq ne madani lighto.n se ghar jagmaga diya
ye jashn zaroori hai sabhi ko bata diya
munkir ! ye tera buGz hai milaad-e-nabi se
jo saara saal jalta tha wo bhi bujha diya

gali gali saj gai, shahar shahar saj gaya
aae nabi, pyaare nabi, mera bhi ghar saj gaya

duniya me.n jahaa.n bhi rahe.n, aabaad rahenge
jo aamina ke laal ka milaad karenge

milaad karenge ! milaad karenge !
milaad karenge ! milaad karenge !

kaa'be ke badrudduja ! tum pe karo.Do.n durood
tayba ke shamsudduha ! tum pe karo.Do.n durood

shaafe'-e-roz-e-jaza ! tum pe karo.Do.n durood
daafe'-e-jumla-bala ! tum pe karo.Do.n durood

aur koi Gaib kya tum se nihaa.n ho bhala
jab na KHuda hi chhupa tum pe karo.Do.n durood

kaam wo le lijiye, tum ko jo raazi kare
Theek ho naam-e-raza, tum pe karo.Do.n durood

sarkaar ke milaad pe kyu.n e'tiraaz hai
ye baat KHushi ki hai aur tu naaraaz hai
lagta hai teri daal me.n kaala zaroor hai
milaad manaane pe hame.n dil se naaz hai

duniya me.n jahaa.n bhi rahe.n, aabaad rahenge
jo aamina ke laal ka milaad karenge

milaad karenge ! milaad karenge !
milaad karenge ! milaad karenge !

sarkaar aae ! marhaba !
dildaar aae ! marhaba !
manThaar aae ! mere laj-paal aae !

qur.aa.n ke bataae hue raste pe rahenge
as.haab-e-muhammad ke tareeqe pe chalenge
mumkin hi nahi.n ! kam ho kabhi pyaar ke jazbe
milaad-e-nabi pehle se bhi zyaada karenge

duniya me.n jahaa.n bhi rahe.n, aabaad rahenge
jo aamina ke laal ka milaad karenge

milaad karenge ! milaad karenge !
milaad karenge ! milaad karenge !

shaan-e-rasool-e-paak sunaate hi rahenge
lab par durood-e-paak sajaate hi rahenge
jo maante nahi.n hai, hame.n un se Garz kya
ham log to milaad manaate hi rahenge

gali gali saj gai, shahar shahar saj gaya
aae nabi, pyaare nabi, mera bhi ghar saj gaya

duniya me.n jahaa.n bhi rahe.n, aabaad rahenge
jo aamina ke laal ka milaad karenge

milaad karenge ! milaad karenge !
milaad karenge ! milaad karenge !

pur-noor hai zamaana sub.h-e-shab-e-wilaadat
parda uTha hai kis ka sub.h-e-shab-e-wilaadat

aai nai hukoomat, sikka naya chalega
'aalam ne rang badla sub.h-e-shab-e-wilaadat

dil jagmaga rahe hai.n, qismat chamak uThi hai
phaila naya ujaala sub.h-e-shab-e-wilaadat

ye big.De hue log sudhar kyu.n nahi.n jaate
'ushshaaq samandar me.n utar kyu.n nahi.n jaate
gustaaKHo.n ki karte hai.n yahaa.n jo bhi himaayat
sarkaar ke gaddaar hai.n ye mar kyu.n nahi.n jaate

duniya me.n jahaa.n bhi rahe.n, aabaad rahenge
jo aamina ke laal ka milaad karenge

milaad karenge ! milaad karenge !
milaad karenge ! milaad karenge !

sarkaar aae ! marhaba !
dildaar aae ! marhaba !
manThaar aae ! mere laj-paal aae !

KHud apne hi haatho.n se yu.n taqdeer jaga lo
haalaat sanwar jaaenge, jhando.n ko uTha lo
imaan hai aur KHair hai milaad, Ujaagar !
kyu.n baiThe ho, sarkaar ka milaad mana lo

gali gali saj gai, shahar shahar saj gaya
aae nabi, pyaare nabi, mera bhi ghar saj gaya

marhaba ya mustafa ! marhaba ya mustafa !

mustafa se pyaar hai, dil se ye iqraar hai
har koi milaad-e-nabi karne ko tayyaar hai

marhaba ya mustafa ! marhaba ya mustafa !

duniya me.n jahaa.n bhi rahe.n, aabaad rahenge
jo aamina ke laal ka milaad karenge

milaad karenge ! milaad karenge !
milaad karenge ! milaad karenge !


Poet:
Allama Nisar Ali Ujagar

Naat-Khwaan:
Hafiz Tahir Qadri
Hafiz Ahsan Qadri
Gali Gali Saj Gayi Naat Lyrics in Hindi, Duniya Mein Jahan Bhi Rahe Aabad Rahenge Naat Lyrics, Jo Amina Ke Laal Ka Milad Karenge Lyrics in Hindi, saz gay sahar sehar shehar shaher shehar aaye nabi pyare nabi me abad rahege aamina aamena amena aamna amna lal meelaad meelad karege lyrics of naat, naat lyrics in hindi, islamic lyrics, hindi me naat lyrics, hindi me naat likhi hui, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई, नात शरीफ की किताब हिंदी में, आला हजरत की नात शरीफ lyrics, हिंदी नात, Lyrics in English, Lyrics in Roman

Comments

Most Popular

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

इमदाद कुन इमदाद कुन या ग़ौस-ए-आज़म दस्तगीर / Imdad Kun Imdad Kun Ya Ghaus-e-Azam Dastagir | Imdad Kun Imdad Kun Ya Ghous-e-Azam Dastagir

सरकार-ए-ग़ौस-ए-आज़म नज़र-ए-करम ख़ुदारा / Sarkar-e-Ghaus-e-Azam Nazar-e-Karam Khudara

उन का मँगता हूँ जो मँगता नहीं होने देते / Un Ka Mangta Hun Jo Mangta Nahin Hone Dete

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

बे-ख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Be-Khud Kiye Dete Hain Andaaz-e-Hijabana

मीराँ वलियों के इमाम / Meeran Waliyon Ke Imam

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

क़ादरी आस्ताना सलामत रहे | मुस्तफ़ा का घराना सलामत रहे / Qadri Aastana Salamat Rahe | Qadri Astana Salamat Rahe | Mustafa Ka Gharana Salamat Rahe

फ़ासलों को ख़ुदारा मिटा दो | जालियों पर निगाहें जमी हैं / Faslon Ko Khudara Mita Do | Jaliyon Par Nigahen Jami Hain