वो जिस के लिए महफ़िल-ए-कौनैन सजी है | वो मेरा नबी, मेरा नबी, मेरा नबी है / Wo Jis Ke Liye Mehfil-e-Kaunain Saji Hai | Wo Mera Nabi, Mera Nabi, Mera Nabi Hai

वो जिस के लिए महफ़िल-ए-कौनैन सजी है
फ़िरदौस-ए-बरीं जिस के वसीले से बनी है
वो हाश्मी, मक्की, मदनी-उल-'अरबी है
वो मेरा नबी, मेरा नबी, मेरा नबी है

अल्लाह का फ़रमाँ, अलम् नश्रह़् लक स़द्रक
मंसूब है जिस से, व-रफ़'अना लक ज़िक्रक
जिस ज़ात का क़ुरआन में भी ज़िक्र-ए-जली है
वो मेरा नबी, मेरा नबी, मेरा नबी है

अहमद है, मुहम्मद है, वो ही ख़त्म-ए-रुसूल है
मख़दूम-ओ-मुरब्बी है, वो ही वाली-ए-कुल है
उस पर ही नज़र सारे ज़माने की लगी है
वो मेरा नबी, मेरा नबी, मेरा नबी है

व-श्शम्सुद्दुहा चेहरा-ए-अनवर की झलक है
वलैल सजा गेसू-ए-हज़रत की लचक है
'आलम को ज़िया जिस के वसीले से मिली है
वो मेरा नबी, मेरा नबी, मेरा नबी है

मुज़म्मिल-ओ-यासीन व मुदद्स़्स़िर-ओ-त़ाहा
क्या क्या नए अल्क़ाब से मौला ने पुकारा
क्या शान है उस की, कि जो उम्मी-लक़बी है
वो मेरा नबी, मेरा नबी, मेरा नबी है

यासीन-ओ-मुज़म्मिल-ओ-मुदद्स़्स़िर और त़ाहा
क्या क्या नए अल्क़ाब से मौला ने पुकारा
क्या शान है उस की, कि जो उम्मी-लक़बी है
वो मेरा नबी, मेरा नबी, मेरा नबी है

वो ज़ात कि जो मज़हर-ए-लौलाक-लमा है
जो साहिब-ए-रफ़रफ़ शब-ए-मे'राज हुआ है
असरा में इमामत जिसे नबियों की मिली है
वो मेरा नबी, मेरा नबी, मेरा नबी है

किस दर्जा ज़माने में थी मज़लूम ये औरत
फिर जिस की बदौलत मिली इसे 'इज़्ज़त-ओ-रिफ़'अत
वो मोहसिन-ओ-ग़म-ख़्वार हमारा ही नबी है
वो मेरा नबी, मेरा नबी, मेरा नबी है


शायर:
क़ारी एहसान मोहसिन

ना'त-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ अमानुल्लाह क़ाज़ी
ज़ोहैब अशरफ़ी
ग़ुलाम मुस्तफ़ा क़ादरी





wo jis ke liye mehfil-e-kaunain saji hai
firdaus-e-baree.n jis ke waseele se bani hai
wo haashmi, makki, madani-ul-'arabi hai
wo mera nabi, mera nabi, mera nabi hai

allah ka farmaa.n, alam nashrh laka sadrak
mansoob hai jis se, wa-rafa'ana laka zikrak
jis zaat ka qur.aan me.n bhi zikr-e-jali hai
wo mera nabi, mera nabi, mera nabi hai

ahmad hai, muhammad hai, wo hi KHatm-e-rusool hai
maKHdoom-o-murabbi hai, wo hi waali-e-kul hai
us par hi nazar saare zamaane ki lagi hai
wo mera nabi, mera nabi, mera nabi hai

wa-shshamsudduha chehra-e-anwar ki jhalak hai
walail saja gesu-e-hazrat ki lachak hai
'aalam ko ziya jis ke waseele se mili hai
wo mera nabi, mera nabi, mera nabi hai

muzammil-o-yaasin wa muddassir-o-taaha
kya kya naye alqaab se maula ne pukaara
kya shaan hai us ki, ki jo ummi-laqabi hai
wo mera nabi, mera nabi, mera nabi hai

muzammil-o-yaasin-o-muddassir aur taaha
kya kya naye alqaab se maula ne pukaara
kya shaan hai us ki, ki jo ummi-laqabi hai
wo mera nabi, mera nabi, mera nabi hai

wo zaat ki jo maz.har-e-laulaak-lamaa hai
jo saahib-e-rafraf shab-e-me'raaj huaa hai
asra me.n imaamat jise nabiyo.n ki mili hai
wo mera nabi, mera nabi, mera nabi hai

kis darja zamaane me.n thi mazloom ye aurat
phir jis ki badaulat mili ise 'izzat-o-rif'at
wo mohsin-o-Gam-KHwaar hamaara hi nabi hai
wo mera nabi, mera nabi, mera nabi hai


Poet:
Qari Ehsan Mohsin

Naat-Khwaan:
Hafiz Amanullah Qazi
Zohaib Ashrafi
Ghulam Mustafa Qadri
Wo Jiske Liye Mehfil e Konain Saji Hai Lyrics Wo Mera Nabi Mera Nabi Mera Nabi Hai Lyrics, Wo Jis Ke Liye Mehfil e Konain Saji Hai Lyrics in Hindi Wo Jiske Liye Mehfil e Konain Saji Hai Lyrics in Hindi, wo jis ke liye mehfil e kawnayn saji hai lyrics Wo Mera Nabi Mera Nabi Mera Nabi Hai Lyrics in Hindi,wo jis ke lie mahefil e kawnain saji he, mehfile, lie mahefile,mahafile,mahfil,kaunain,konayn,konen,kawnayn,konayn, lyrics of naat, naat lyrics in hindi, islamic lyrics, hindi me naat lyrics, hindi me naat likhi hui, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई, नात शरीफ की किताब हिंदी में, आला हजरत की नात शरीफ lyrics, हिंदी नात lyrics of naat, naat lyrics in hindi, islamic lyrics, hindi me naat lyrics, hindi me naat likhi hui, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई, नात शरीफ की किताब हिंदी में, आला हजरत की नात शरीफ lyrics, हिंदी नात, Lyrics in English, Lyrics in Roman

Comments

  1. Subbahallah ❤️❤️❤️❤️😘😘😘❤️❤️❤️❤️

    ReplyDelete
  2. Mashallah Se Dil Ko Chhu liya Hamare

    ReplyDelete
  3. Mashallah ❤️❤️❤️❤️❤️

    ReplyDelete
  4. Mashallah ❤️❤️❤️❤️❤️

    ReplyDelete
    Replies
    1. M mashallah Qari Sahab aapane Dil Ko chhu liya 200 se jyada dafa Sun chuka hun is naat Ko lekin fir bhi Dil nahin manta mashallah kya khoob Qari sahab

      Delete

Post a Comment

Most Popular

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

बे-ख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Be-Khud Kiye Dete Hain Andaaz-e-Hijabana

कोई दुनिया-ए-अता में नहीं हमता तेरा | तज़मीन - वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा / Koi Duniya-e-Ata Mein Nahin Hamta Tera | Tazmeen of Waah ! Kya Jood-o-Karam Hai, Shah-e-Bat.ha ! Tera

नूरी महफ़िल पे चादर तनी नूर की / Noori Mehfil Pe Chadar Tani Noor Ki

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

पाई शब-ए-बरात ये क़िस्मत की बात है | जागूँगा सारी रात इबादत की रात है / Paai Shab-e-Barat Ye Qismat Ki Baat Hai | Jagunga Saari Raat Ibadat Ki Raat Hai