सोहबत अल्लाह वालों की / Sohbat Allah Walon Ki

अपना रंग दिखा जाती है सोहबत अल्लाह वालों की
अल्लाह से मिलवा जाती है सोहबत अल्लाह वालों की

ज़ुल्म-ओ-सितम हो, दर्द हो, ग़म हो या कोई हो रंज-ओ-अलम
तार-ए-त'अल्लुक़ रब से जोड़ो, कर देगा वो नज़र-ए-करम
तार से तार मिला जाती है सोहबत अल्लाह वालों की
अल्लाह से मिलवा जाती है सोहबत अल्लाह वालों की

अपना रंग दिखा जाती है सोहबत अल्लाह वालों की
अल्लाह से मिलवा जाती है सोहबत अल्लाह वालों की

ज़िक्र-ए-हक़ की, फ़िक्र-ए-हक़ की सच्ची लगन मिल जाती है
क़ल्ब को अल्लाह अल्लाह अल्लाह अल्लाह की धुन मिल जाती है
मा'सियत छुड़वा जाती है सोहबत अल्लाह वालों की
अल्लाह से मिलवा जाती है सोहबत अल्लाह वालों की

अपना रंग दिखा जाती है सोहबत अल्लाह वालों की
अल्लाह से मिलवा जाती है सोहबत अल्लाह वालों की

अल्लाह वालों की सोहबत में जो इंसान आ जाते हैं
रुत्बे आ'ला, बाला, बर-तर अल्लाह से पा जाते हैं
बिगड़े हाल बना जाती है सोहबत अल्लाह वालों की
अल्लाह से मिलवा जाती है सोहबत अल्लाह वालों की

अपना रंग दिखा जाती है सोहबत अल्लाह वालों की
अल्लाह से मिलवा जाती है सोहबत अल्लाह वालों की

वज्द में डूबा रहता है दिल, आँसू बहते रहते हैं
रब के प्यार में, प्यार के तार में रब रब कहते रहते हैं
सच्चा 'इश्क़ दिला जाती है सोहबत अल्लाह वालों की
अल्लाह से मिलवा जाती है सोहबत अल्लाह वालों की

अपना रंग दिखा जाती है सोहबत अल्लाह वालों की
अल्लाह से मिलवा जाती है सोहबत अल्लाह वालों की

हक़ के सफ़ीर हैं ये, बद्र-ए-मुनीर हैं ये
रौशन-दिमाग़ हैं ये, रौशन-ज़मीर हैं ये
इन की वफ़ाएँ प्यारी, इन की अदाएँ प्यारी
इन की सदाएँ प्यारी, इन की दु'आएँ प्यारी

हैं ख़ुश-नसीब लोग वो, जिन को नसीब हो
सोहबत अल्लाह वालों की, सोहबत अल्लाह वालों की

अपना रंग दिखा जाती है सोहबत अल्लाह वालों की
अल्लाह से मिलवा जाती है सोहबत अल्लाह वालों की

ज़िंदगी क्या है ? ज़िंदगी का मतलब सच सच समझ आ जाता है
तब जब कोई ज़ानू-ए-तलम्मुज़, अरशद ! आन टिकाता है
ज़िंदगी बंदगी बना जाती है सोहबत अल्लाह वालों की
अल्लाह से मिलवा जाती है सोहबत अल्लाह वालों की

अपना रंग दिखा जाती है सोहबत अल्लाह वालों की
अल्लाह से मिलवा जाती है सोहबत अल्लाह वालों की


शायर:
मुफ़्ती सईद अरशद अल-हुसैनी

ना'त-ख़्वाँ:
मुफ़्ती सईद अरशद अल-हुसैनी
अब्दुल बासित हस्सानी
मुहम्मद हुज़ैफ़ा मलिक





apna rang dikha jaati hai sohbat allah waalo.n ki
allah se milwa jaati hai sohbat allah waalo.n ki

zulm-o-sitam ho, dard ho, Gam ho ya koi ho ranj-o-alam
taar-e-ta'alluq rab se jo.Do, kar dega wo nazar-e-karam
taar se taar mila jaati hai sohbat allah waalo.n ki
allah se milwa jaati hai sohbat allah waalo.n ki

apna rang dikha jaati hai sohbat allah waalo.n ki
allah se milwa jaati hai sohbat allah waalo.n ki

zikr-e-haq ki, fikr-e-haq ki sachchi lagan mil jaati hai
qalb ko allah allah allah allah ki dhun mil jaati hai
maa'siyat chhu.Dwa jaati hai sohbat allah waalo.n ki
allah se milwa jaati hai sohbat allah waalo.n ki

apna rang dikha jaati hai sohbat allah waalo.n ki
allah se milwa jaati hai sohbat allah waalo.n ki

allah waalo.n ki sohbat me.n jo insaan aa jaate hai.n
rutbe aa'la, baala, bar-tar allah se paa jaate hai.n
big.De haal bana jaati hai sohbat allah waalo.n ki
allah se milwa jaati hai sohbat allah waalo.n ki

apna rang dikha jaati hai sohbat allah waalo.n ki
allah se milwa jaati hai sohbat allah waalo.n ki

wajd me.n Dooba rehta hai dil, aansoo behte rehte hai.n
rab ke pyaar me.n, pyaar ke taar me.n rab rab kehte rehte hai.n
sachcha 'ishq dila jaati hai sohbat allah waalo.n ki
allah se milwa jaati hai sohbat allah waalo.n ki

apna rang dikha jaati hai sohbat allah waalo.n ki
allah se milwa jaati hai sohbat allah waalo.n ki

haq ke safeer hai.n ye, badr-e-muneer hai.n ye
raushan-dimaaG hai.n ye, raushan-zameer hai.n ye
in ki wafaae.n pyaari, in ki adaae.n pyaari
in ki sadaae.n pyaari, in ki du'aae.n pyaari

hai.n KHush-naseeb log wo, jin ko naseeb ho
sohbat allah waalo.n ki, sohbat allah waalo.n ki

apna rang dikha jaati hai sohbat allah waalo.n ki
allah se milwa jaati hai sohbat allah waalo.n ki

zindagi kya hai ? zindagi ka matlab sach sach samajh aa jaata hai
tab jab koi zaanu-e-talammuz, Arshad ! aan Tikaata hai
zindagi bandagi bana jaati hai sohbat allah waalo.n ki
allah se milwa jaati hai sohbat allah waalo.n ki

apna rang dikha jaati hai sohbat allah waalo.n ki
allah se milwa jaati hai sohbat allah waalo.n ki


Poet:
Mufti Saeed Arshad Al Hussaini

Naat-Khwaan:
Mufti Saeed Arshad Al Hussaini
Abdul Basit Hassani
Muhammad Huzaifa Malik
Allah Se Milwa Jati Hai Sohbat Allah Walon Ki Lyrics | Apna Rang Dikha Jati Hai Sohbat Allah Walon Ki Lyrics | Sohbat Allah Walon Ki Lyrics in Hindi | milva hy hay hei hein hain sohabat sahobat walo rung | lyrics of naat, naat lyrics in hindi, islamic lyrics, hindi me naat lyrics, hindi me naat likhi hui, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई, नात शरीफ की किताब हिंदी में, आला हजरत की नात शरीफ lyrics, हिंदी नात, Lyrics in English, Lyrics in Roman

Comments

Most Popular

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

मैं बंदा-ए-'आसी हूँ, ख़ता-कार हूँ, मौला ! / Main Banda-e-Aasi Hoon, Khata-Kaar Hoon, Maula !

तेरा नाम ख़्वाजा मुईनुद्दीन | तू रसूल-ए-पाक की आल है / Tera Naam Khwaja Moinuddin | Tu Rasool-e-Pak Ki Aal Hai

बे-ख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Be-Khud Kiye Dete Hain Andaaz-e-Hijabana

उन का मँगता हूँ जो मँगता नहीं होने देते / Un Ka Mangta Hun Jo Mangta Nahin Hone Dete

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

हाल-ए-दिल किस को सुनाएँ, आप के होते हुए / Haal-e-Dil Kis Ko Sunaaen Aap Ke Hote Hue

मौला अली मौला ! मौला अली मौला ! / Maula Ali Maula ! Maula Ali Maula !

छूटे न कभी तेरा दामन या ख़्वाजा मुईनुद्दीन हसन / Chhoote Na Kabhi Tera Daman Ya Khwaja Muinuddin Hasan