उन की चौखट हो तो कासा भी पड़ा सजता है / Un Ki Chaukhat Ho To Kasa Bhi Pada Sajta Hai | Un Ki Chokhat Ho To Kasa Bhi Para Sajta Hai

उन की चौखट हो तो कासा भी पड़ा सजता है
दर बड़ा हो तो सवाली भी खड़ा सजता है

ऐसा आक़ा हो तो लाज़िम है ग़ुलामी पे ग़ुरूर
ऐसी निस्बत हो तो फिर बोल बड़ा सजता है

ताज-ए-शाही के मुक़द्दर में ये ज़ेबाई कहाँ
जिस क़दर उन की ग़ुलामी का कड़ा सजता है

ये ग़ुलामी कहीं कमतर नहीं होने देती
उन का नौकर हो तो शाहों में खड़ा सजता है

कान में हुर्र के मुक़द्दर ने ये सरगोशी की
तू नगीना है, अँगूठी में जड़ा सजता है

सरवर-ए-दीं के मुसल्ले पे ख़ुदा जानता है
मुर्तज़ा पीछे हो, सिद्दीक़ खड़ा सजता है

सरवर-ए-दीं के मुसल्ले पे ख़ुदा जानता है
आगे असहाब के सिद्दीक़ खड़ा सजता है

जब 'अता करने पे बैठें हों 'अली-ओ-सय्यिदा
फिर तो जन्नत के लिए कोई अड़ा सजता है

मौला शब्बर से ख़ुदा जाने सख़ी महदी तक
गुलशन-ए-ज़हरा का हर फूल बड़ा सजता है

मुझ से कहते हैं यही अहल-ए-मोहब्बत, सरवर !
ना'त का नग़्मा तेरे लब पे बड़ा सजता है


शायर:
सरवर हुसैन नक़्शबंदी

ना'त-ख़्वाँ:
सरवर हुसैन नक़्शबंदी
मुहम्मद आ'ज़म क़ादरी
क़ारी शाहिद महमूद क़ादरी
असद रज़ा अत्तारी
सय्यिद हस्सानुल्लाह हुसैनी





un ki chaukhaT ho to kaasa bhi pa.Da sajta hai
dar ba.Da ho to sawaali bhi kha.Da sajta hai

aisa aaqa ho to laazim hai Gulaami pe Guroor
aisi nisbat ho to phir bol ba.Da sajta hai

taaj-e-shaahi ke muqaddar me.n ye zebaai kahaa.n
jis qadar un ki Gulaami ka ka.Da sajta hai

ye Gulaami kahi.n kamtar nahi.n hone deti
un ka naukar ho to shaaho.n me.n kha.Da sajta hai

kaan me.n hurr ke muqaddar ne ye sargoshi ki
tu nageena hai, angoothi me.n ja.Da sajta hai

sarwar-e-dee.n ke musalle pe KHuda jaanta hai
murtaza peechhe ho, siddiq kha.Da sajta hai

sarwar-e-dee.n ke musalle pe KHuda jaanta hai
aage as.haab ke siddiq kha.Da sajta hai

jab 'ata karne pe baiThe.n ho.n 'ali-o-sayyida
phir to jannat ke liye koi a.Da sajta hai

maula shabbar se KHuda jaane saKHi mahdi tak
gulshan-e-zahra ka har phool ba.Da sajta hai

mujh se kehte hai.n yahi ahl-e-mohabbat, Sarwar !
naa't ka naGma tere lab pe ba.Da sajta hai


Poet:
Sarwar Hussain Naqshbandi

Naat-Khwaan:
Sarwar Hussain Naqshbandi
Muhammad Azam Qadri
Qari Shahid Mahmood Qadri
Asad Raza Attari
Syed Hassan Ullah Hussaini
Un Ki Chokhat Ho To Kasa Bhi Para Sajta Hai Lyrics | Unki Chokhat Ho To Kasa Bhi Para Sajta Hai Lyrics in HIndi | Dar Bara Ho To Sawali Bhi Khara Sajta Hai Lyrics in Hindi | sajata hay hey hei hein hain hy suwali khada bada pada New Manqabat Ghaus e Azam |manqabat ghous pak | manqabat e ghous e azam lyrics in Hindi lyrics of naat, naat lyrics in hindi, islamic lyrics, hindi me naat lyrics, hindi me naat likhi hui, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई, नात शरीफ की किताब हिंदी में, आला हजरत की नात शरीफ lyrics, हिंदी नात, Lyrics in English, Lyrics in Roman

Comments

Most Popular

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

मैं बंदा-ए-'आसी हूँ, ख़ता-कार हूँ, मौला ! / Main Banda-e-Aasi Hoon, Khata-Kaar Hoon, Maula !

तेरा नाम ख़्वाजा मुईनुद्दीन | तू रसूल-ए-पाक की आल है / Tera Naam Khwaja Moinuddin | Tu Rasool-e-Pak Ki Aal Hai

बे-ख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Be-Khud Kiye Dete Hain Andaaz-e-Hijabana

उन का मँगता हूँ जो मँगता नहीं होने देते / Un Ka Mangta Hun Jo Mangta Nahin Hone Dete

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

हाल-ए-दिल किस को सुनाएँ, आप के होते हुए / Haal-e-Dil Kis Ko Sunaaen Aap Ke Hote Hue

मौला अली मौला ! मौला अली मौला ! / Maula Ali Maula ! Maula Ali Maula !

छूटे न कभी तेरा दामन या ख़्वाजा मुईनुद्दीन हसन / Chhoote Na Kabhi Tera Daman Ya Khwaja Muinuddin Hasan