कोई गुल बाक़ी रहेगा न चमन रह जाएगा / Koi Gul Baqi Rahega Na Chaman Reh Jayega

कोई गुल बाक़ी रहेगा न चमन रह जाएगा
पर रसूलुल्लाह का दीन-ए-हसन रह जाएगा

कोई गुल बाक़ी रहेगा नय चमन रह जाएगा
पर रसूलुल्लाह का दीन-ए-हसन रह जाएगा

हम-सफ़ीरो बाग़ में है कोई दम का चहचहा
बुलबुलें उड़ जाएँगी, सूना चमन रह जाएगा

अतलस-ओ-कमख़्वाब की पोशाक पर नाज़ाँ न हो
इस तन-ए-बे-जान पर ख़ाकी कफ़न रह जाएगा

नाम-ए-शाहान-ए-जहाँ मिट जाएँगे लेकिन यहाँ
हश्र तक नाम-ओ-निशान-ए-पंजतन रह जाएगा

जो पढ़ेगा साहिब-ए-लौलाक के ऊपर दुरूद
आग से महफ़ूज़ उस का तन-बदन रह जाएगा

सब फ़ना हो जाएँगे, काफ़ी ! व लेकिन हश्र तक
ना'त-ए-हज़रत का ज़ुबानों पर सुख़न रह जाएगा


शायर:
किफ़ायत अली काफ़ी मुरादाबादी

ना'त-ख़्वाँ:
महमूद अत्तारी





koi gul baaqi rahega na chaman reh jaaega
par rasoolullah ka deen-e-hasan reh jaaega

koi gul baaqi rahega nay chaman reh jaaega
par rasoolullah ka deen-e-hasan reh jaaega

ham-safeero baaG me.n hai koi dam ka chehchaha
bulbule.n u.D jaaengi, soona chaman reh jaaega

atlas-o-kamKHwaab ki poshaak par naazaa.n na ho
is tan-e-be-jaan par KHaaki kafan reh jaaega

naam-e-shaahaan-e-jahaa.n miT jaaenge lekin yahaa.n
hashr tak naam-o-nishaan-e-panjtan reh jaaega

jo pa.Dhega saahib-e-laulaak ke upar durood
aag se mehfooz us ka tan-badan reh jaaega

sab fana ho jaaenge, Kaafi ! wa lekin hashr tak
naa't-e-hazrat ka zubaano.n par suKHaan rekh jaaega


Poet:
Kifayat Ali Kafi Muradabadi

Naat-Khwaan:
Mehmood Attari
Koi Gul Baqi Rahega Na Chaman Reh Jayega Lyrics | Koi Gul Baqi Rahega Na Chaman Reh Jayega Lyrics in Hindi | Koi Gul Baqi Rahega Lyrics in English | baki baaki ghul ny nay nai rahe rah jaye ga lyrics of naat, naat lyrics in hindi, islamic lyrics, hindi me naat lyrics, hindi me naat likhi hui, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई, नात शरीफ की किताब हिंदी में, आला हजरत की नात शरीफ lyrics, हिंदी नात, Lyrics in English, Lyrics in Roman

Comments

Post a Comment

Most Popular

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

ऐ ज़हरा के बाबा सुनें इल्तिजा मदीना बुला लीजिए / Aye Zahra Ke Baba Sunen Iltija Madina Bula Lijiye

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

बे-ख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Be-Khud Kiye Dete Hain Andaaz-e-Hijabana

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

कोई दुनिया-ए-अता में नहीं हमता तेरा | तज़मीन - वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा / Koi Duniya-e-Ata Mein Nahin Hamta Tera | Tazmeen of Waah ! Kya Jood-o-Karam Hai, Shah-e-Bat.ha ! Tera

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

ताजदार-ए-हरम ऐ शहंशाह-ए-दीं | तुम पे हर दम करोड़ों दुरूद-ओ-सलाम / Tajdar-e-Haram Aye Shahanshah-e-Deen | Tum Pe Har Dam Karodon Durood-o-Salam