मुझे बख़्श दे बे-सबब या इलाही / Mujhe Bakhsh De Be Sabab Ya Ilahi

मुझे बख़्श दे बे-सबब, या इलाही !
न करना कभी भी ग़ज़ब, या इलाही !

गुनाहों ने, हाए ! कहीं का न छोड़ा
मैं कब तक फिरूँ ख़्वार अब, या इलाही !

बड़ा हज पे आने को जी चाहता है
बुलावा अब आएगा कब, या इलाही !

मैं मक्के में आऊँ, मदीने में आऊँ
बना कोई ऐसा सबब, या इलाही !

मैं देखूँ मदीने का गुलशन, दिखा दे
तू दश्त-ओ-जिबाल-ए-'अरब, या इलाही !

करम ऐसा कर दे, मदीने में आ कर
गुज़ारूँ मैं फिर रोज़-ओ-शब, या इलाही !

जो माँगा वो दे मुझ को, वो भी 'अता कर
नहीं कर सका जो तलब, या इलाही !

सभी एक हो जाएँ ईमान वाले
पए शाह-ए-'आली-नसब, या इलाही !

ख़ुदाया ! बुरे ख़ातिमे से बचा ले
गुनहगार है जाँ ब-लब, या इलाही !

नज़र में मुहम्मद के जल्वे बसे हों
चलूँ इस जहाँ से मैं जब, या इलाही !

पस-ए-मर्ग हो रोज़-ए-रौशन की मानिंद
मेरी क़ब्र की तीरा-शब, या इलाही !

गुनाहों से 'अत्तार को दे मु'आफ़ी
करम हो, न करना ग़ज़ब, या इलाही !


शायर:
मुहम्मद इल्यास अत्तार क़ादरी

ना'त-ख़्वाँ:
महमूद अत्तारी





mujhe baKHsh de be-sabab, ya ilaahi !
na karna kabhi bhi Gazab, ya ilaahi !

gunaaho.n ne, haae ! kahi.n ka na chho.Da
mai.n kab tak phiru.n KHwaar ab, ya ilaahi !

ba.Da haj pe jaane ko jee chaahta hai
bulaawa ab aaega kab, ya ilaahi !

mai.n makke mai.n aau.n, madine me.n aau.n
bana koi aisa sabab, ya ilaahi !

mai.n dekhu.n madine ka gulshan, dikha de
tu dasht-o-jibaal-e-'arab, ya ilaahi !

karam aisa kar de, madine me.n aa kar
guzaaru.n mai.n phir roz-o-shab, ya ilaahi !

jo maanga wo de mujh ko, wo bhi 'ata kar
nahi.n kar saka jo talab, ya ilaahi !

sabhi ek ho jaae.n imaan waale
pae shaah-e-'aali-nasab, ya ilaahi !

KHudaya ! bure KHaatime se bacha le
gunahgaar hai jaa.n ba-lab, ya ilaahi !

nazar me.n muhammad ke jalwe base ho.n
chalu.n is jahaa.n se mai.n jab, ya ilaahi !

pas-e-marg ho roz-e-raushan ki maanind
meri qabr ki teera-shab, ya ilaahi !

gunaaho.n se 'Attar ko de mu'aafi
karam ho, na karna Gazab, ya ilaahi !


Poet:
Muhammad Ilyas Attar Qadri

Naat-Khwaan:
Mehmood Attari
Mujhe Bakhsh De Be Sabab Ya Ilahi Lyrics | Mujhe Bakhsh De Be Sabab Ya Ilahi Lyrics in Hindi | Mujhe Baksh De Besabab Lyrics | Munajat Lyrics in Hindi | Mujhay Bakhsh Day Be Sabab Ya Ilahi | New Munajat 2023 | Mehmood Attari | muje muze muzhe baqsh baqs baks lyrics of naat, naat lyrics in hindi, islamic lyrics, hindi me naat lyrics, hindi me naat likhi hui, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई, नात शरीफ की किताब हिंदी में, आला हजरत की नात शरीफ lyrics, हिंदी नात, Lyrics in English, Lyrics in Roman

Comments

Most Popular

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

ऐ ज़हरा के बाबा सुनें इल्तिजा मदीना बुला लीजिए / Aye Zahra Ke Baba Sunen Iltija Madina Bula Lijiye

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

बे-ख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Be-Khud Kiye Dete Hain Andaaz-e-Hijabana

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

कोई दुनिया-ए-अता में नहीं हमता तेरा | तज़मीन - वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा / Koi Duniya-e-Ata Mein Nahin Hamta Tera | Tazmeen of Waah ! Kya Jood-o-Karam Hai, Shah-e-Bat.ha ! Tera

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

कोई गुल बाक़ी रहेगा न चमन रह जाएगा / Koi Gul Baqi Rahega Na Chaman Reh Jayega

ताजदार-ए-हरम ऐ शहंशाह-ए-दीं | तुम पे हर दम करोड़ों दुरूद-ओ-सलाम / Tajdar-e-Haram Aye Shahanshah-e-Deen | Tum Pe Har Dam Karodon Durood-o-Salam