नज़दीक आ रहा है रमज़ान का महीना / Nazdeek Aa Raha Hai Ramzan Ka Mahina

नज़दीक आ रहा है रमज़ान का महीना
साहिल से हाजियों का फिर आ लगा सफ़ीना

आक़ा ! न टूट जाए ये दिल का आबगीना
बुलवाइए मदीने, दिखलाइए मदीना

दिल रो रहे हैं जिन के आँसू छलक रहे हैं
उन 'आशिक़ों का सदक़ा, बुलवाइए मदीना

हिज्र-ओ-फ़िराक़ में दिल बेताब हो रहे हैं
'उश्शाक़ रो रहे हैं, लो चल दिया सफ़ीना

बेताब हो रहा है तयबा की हाज़री को
'आशिक़ तड़प रहा है और फट रहा है सीना

रौज़े को देखने को आँखें तरस रही हैं
दिखला दो सब्ज़-गुंबद, या सय्यिद-ए-मदीना

नज़र-ए-करम ख़ुदा-रा मेरे सियाह दिल पर
बन जाएगा ये दम भर में बे-बहा नगीना

रंगीनी-ए-जहाँ से दिल टूट जाए मेरा
या रब ! मुझे बना दे तू 'आशिक़-ए-मदीना

आँसू न थम रहे हों, दिल ख़ून उगल रहा हो
जिस वक़्त तेरे दर पर आऊँ, शह-ए-मदीना !

बस आरज़ू यही है क़दमों में जान निकले
प्यारे नबी ! हमारा मदफ़न बने मदीना

ऐ बेकसों के हमदम ! दुनिया के दूर हों ग़म
बस जाए दिल में का'बा, सीना बने मदीना

तब्लीग़ सुन्नतों की करता रहूँ हमेशा
मरना भी सुन्नतों में हो सुन्नतों में जीना

आक़ा ! मेरी हुज़ूरी की आरज़ू हो पूरी
हो जाए दूर दूरी, ऐ वाली-ए-मदीना !

उन के दियार में तू कैसे चले फिरेगा ?
'अत्तार ! तेरी जुरअत, तू जाएगा मदीना !


शायर:
मुहम्मद इल्यास अत्तार क़ादरी

ना'त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी
मुहम्मद मुश्ताक़ अत्तारी
असद रज़ा अत्तारी





nazdeek aa raha hai ramzan ka mahina
saahil se haajiyo.n ka phir aa laga safeena

aaqa ! na TooT jaae ye dil ka aabgeena
bulwaaiye madine, dikhlaaiye madina

dil ro rahe hai.n jin ke aansoo chhalak rahe hai.n
un 'aashiqo.n ka sadqa, bulwaaiye madina

hujr-o-firaaq me.n dil betaab ho rahe hai.n
'ushshaaq ro rahe hai.n, lo chal diya safeena

betaab ho raha hai tayba ki haazri ko
'aashiq ta.Dap raha hai aur phaT raha hai seena

rauze ko dekhne ko aankhe.n taras rahi hai.n
dikhla do sabz-gumbad, ya sayyid-e-madina !

nazr-e-karam KHuda-ra mere siyaah dil par
ban jaaega ye dam bhar me.n be-baha nageena

rangeeni-e-jahaa.n se dil TooT jaae mera
ya rab ! mujhe bana de tu 'aashiq-e-madina

aansoo na tham rahe ho.n, dil KHoon ugal raha ho
jis waqt tere dar par aau.n, shah-e-madina !

bas aarzoo yahi hai qadmo.n me.n jaan nikle
pyaare nabi ! hamaara madfan bane madina

ai bekaso.n ke hamdam ! duniya ke door ho.n Gam
bas jaae dil me.n kaa'ba, seena bane madina

lableeG sunnato.n ki karta rahu.n hamesha
marna bhi sunnato.n me.n ho sunnato.n me.n jeena

aaqa ! meri huzoori ki aarzoo ho poori
ho jaae door doori, ai waali-e-madina !

un ke diyaar me.n tu kaise chale phirega ?
'Attar ! teri jur.at, tu jaaega madina !


Poet:
Muhammad Ilyas Attar Qadri

Naat-Khwaan:
Owais Raza Qadri
Muhammad Mushtaq Attari
Asad Raza Attari
Nazdeek Aa Raha Hai Ramzan Ka Mahina Lyrics | Nazdeek Aa Raha Hai Ramzan Ka Mahina Lyrics in Hindi | Ramzan Naat Lyrics in Hindi |nazdeeq nazadeek nazdik he hei hey hay ramdan ramadan ramazan maheena ramzaan ramdaan ramdan lyrics of naat, naat lyrics in hindi, islamic lyrics, hindi me naat lyrics, hindi me naat likhi hui, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई, नात शरीफ की किताब हिंदी में, आला हजरत की नात शरीफ lyrics, हिंदी नात, Lyrics in English, Lyrics in Roman

Comments

Most Popular

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

ऐ ज़हरा के बाबा सुनें इल्तिजा मदीना बुला लीजिए / Aye Zahra Ke Baba Sunen Iltija Madina Bula Lijiye

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

बे-ख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Be-Khud Kiye Dete Hain Andaaz-e-Hijabana

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

कोई दुनिया-ए-अता में नहीं हमता तेरा | तज़मीन - वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा / Koi Duniya-e-Ata Mein Nahin Hamta Tera | Tazmeen of Waah ! Kya Jood-o-Karam Hai, Shah-e-Bat.ha ! Tera

कोई गुल बाक़ी रहेगा न चमन रह जाएगा / Koi Gul Baqi Rahega Na Chaman Reh Jayega

ताजदार-ए-हरम ऐ शहंशाह-ए-दीं | तुम पे हर दम करोड़ों दुरूद-ओ-सलाम / Tajdar-e-Haram Aye Shahanshah-e-Deen | Tum Pe Har Dam Karodon Durood-o-Salam