हाजियो आओ शहंशाह का रौज़ा देखो / Hajiyo Aao Shahanshah Ka Rauza Dekho

हाजियो ! आओ, शहंशाह का रौज़ा देखो
का'बा तो देख चुके का'बे का का'बा देखो

रुक्न-ए-शामी से मिटी वहशत-ए-शाम-ए-ग़ुर्बत
अब मदीने को चलो सुब्ह-ए-दिल-आरा देखो

आब-ए-ज़मज़म तो पिया, ख़ूब बुझाईं प्यासें
आओ, जूद-ए-शह-ए-कौसर का भी दरिया देखो

ज़ेर-ए-मीज़ाब मिले ख़ूब करम के छींटे
अब्र-ए-रहमत का यहाँ ज़ोर-ए-बरसना देखो

धूम देखी है दर-ए-का'बा पे बेताबों की
उन के मुश्ताक़ों में हसरत का तड़पना देखो

मिस्ल-ए-परवाना फिरा करते थे जिस शम'अ के गिर्द
अपनी उस शम'अ को परवाना यहाँ का देखो

ख़ूब आँखों से लगाया है ग़िलाफ़-ए-का'बा
क़स्र-ए-महबूब के पर्दे का भी जल्वा देखो

वाँ मुती'ओं का जिगर ख़ौफ़ से पानी पाया
याँ सियह-कारों का दामन पे मचलना देखो

अव्वलीं ख़ाना-ए-हक़ की तो ज़ियाएँ देखीं
आख़िरीं बैत-ए-नबी का भी तजल्ला देखो

ज़ीनत-ए-का'बा में था लाख 'अरूसों का बनाव
जल्वा-फ़रमा यहाँ कौनैन का दूल्हा देखो

ऐमन-ए-तूर का था रुक्न-ए-यमानी में फ़रोग़
शो'ला-ए-तूर यहाँ अंजुमन-आरा देखो

मेहर-ए-मादर का मज़ा देती है आग़ोश-ए-हतीम
जिन पे माँ-बाप फ़िदा याँ करम उन का देखो

'अर्ज़-ए-हाजत में रहा का'बा कफ़ील-ए-इंजाह
आओ अब दाद-रसी-ए-शह-ए-तयबा देखो

धो चुका ज़ुल्मत-ए-दिल बोसा-ए-संग-ए-अस्वद
ख़ाक बोसी-ए-मदीना का भी रुत्बा देखो

कर चुकी रिफ़'अत-ए-का'बा पे नज़र परवाज़ें
टोपी अब थाम के ख़ाक-ए-दर-ए-वाला देखो

बे-नियाज़ी से वहाँ काँपती पाई ता'अत
जोश-ए-रहमत पे यहाँ नाज़ गुनह का देखो

जुम'आ-ए-मक्का था 'ईद अहल-ए-'इबादत के लिए
मुजरिमो ! आओ यहाँ 'ईद-ए-दो-शंबा देखो

मुल्तज़म से तो गले लग के निकाले अरमाँ
अदब-ओ-शौक़ का याँ बाहम उलझना देखो

ख़ूब मस'आ में ब-उम्मीद-ए-सफ़ा दौड़ लिए
रह-ए-जानाँ की सफ़ा का भी तमाशा देखो

रक़्स-ए-बिस्मिल की बहारें तो मिना में देखीं
दिल-ए-ख़ूँ-नाबा फ़शाँ का भी तड़पना देखो

गौर से सुन तो, रज़ा ! का'बे से आती है सदा
मेरी आँखों से मेरे प्यारे का रौज़ा देखो


शायर:
इमाम अहमद रज़ा ख़ान

ना'त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी
सज्जाद निज़ामी





haajiyo ! aao shahanshah ka rauza dekho
kaa'ba to dekh chuke kaa'be ka kaa'ba dekho

rukn-e-shaami se miTi wahshat-e-shaam-e-Gurbat
ab madine ko chalo sub.h-e-dil-aara dekho

aab-e-zamzam to piya, KHoob bujhaai.n pyaase.n
aao, jood-e-shah-e-kausar ka bhi dariya dekho

zer-e-meezaab mile KHoob karam ke chheenTe
abr-e-rehmat ka yahaa.n zor-e-barasna dekho

dhoom dekhi hai dar-e-kaa'ba pe betabo.n ki
un ke mushtaaqo.n me.n hasrat ka ta.Dapna dekho

misl-e-parwaana phira karte the jis sham'a ke gird
apni us sham'a ko parwaana yahaa.n ka dekho

KHoob aankho.n se lagaaya hai Gilaaf-e-kaa'ba
qasr-e-mahboob ke parde ka bhi jalwa dekho

waa.n mutee'o.n ka jigar KHauf se paani paaya
yaa.n siyah-kaaro.n ka daaman pe machalna dekho

awwali.n KHaana-e-haq ki to ziyaae.n dekhi.n
aaKHiri.n bait-e-nabi ka bhi tajalla dekho

zeenat-e-kaa'ba me.n tha laakh 'arooso.n ka banaaw
jalwa-farma yahaa.n kaunain ka dulha dekho

aiman-e-toor ka tha rukn-e-yamaani me.n faroG
sho'la-e-toor yahaa.n anjuman-aara dekho

mehr-e-maadar ka maza deti hai aaGosh-e-hateem
jin pe maa.n-baap fida yaa.n karam un ka dekho

'arz-e-haajat me.n raha kaa'ba kafeel-e-injaah
aao ab daad-rasi-e-shah-e-tayba dekho

dho chuka zulmat-e-dil bosa-e-sang-e-aswad
KHaak bosi-e-madina ka bhi rutba dekho

kar chuki rif'at-e-kaa'ba pe nazar parwaaze.n
Topi ab thaam ke KHaak-e-dar-e-waala dekho

be-niyaazi se wahaa.n kaanpti paai taa'at
josh-e-rehmat pe yahaa.n naaz gunah ka dekho

jum'aa-e-makka tha 'eid ahl-e-'ibaadat ke liye
mujrimo ! aao yahaa.n eid-e-do-shamba dekho

multazam se to gale lag ke nikaale armaa.n
adab-o-shauq ka yaa.n baaham ulajhna dekho

KHoob mas'aa me.n ba-ummeed-e-safa dau.D liye
rah-e-jaanaa.n ki safa ka bhi tamaasha dekho

raqs-e-bismil ki bahaare.n to mina me.n dekhi.n
dil-e-KHoo.n-naaba fashaa.n ka bhi ta.Dapna dekho

Gaur se sun to, Raza ! kaa'be se aati hai sada
meri aankho.n se mere pyaare ka rauza dekho


Poet:
Imam Ahmed Raza Khan

Naat-Khwaan:
Owais Raza Qadri
Sajjad Nizami
Hajio Aao Shahenshah Ka Roza Dekho Lyrics | Hajio Aao Shahenshah Ka Roza Dekho Lyrics in Hindi | Kaba To Dekh Chuke Kabe Ka Kaba Dekho Lyrics in Hindi | Sajjad Nizami Naat Lyrics | Hajiyo rouza lyrics of naat | naat lyrics in hindi | islamic lyrics | hindi me naat lyrics | hindi me naat likhi hui | All Naat Lyrics in Hindi | नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई | नात शरीफ की किताब हिंदी में | आला हजरत की नात शरीफ lyrics | हिंदी नात | Lyrics in English | Lyrics in Roman 50+ Naat Lyrics | Best Place To Find All Naat Sharif | 500+ Naat Lyrics | Best Site To Find All Naat in Hindi, English | 430 Naat lyrics ideas in 2023

Comments

Most Popular

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

बे-ख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Be-Khud Kiye Dete Hain Andaaz-e-Hijabana

कोई दुनिया-ए-अता में नहीं हमता तेरा | तज़मीन - वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा / Koi Duniya-e-Ata Mein Nahin Hamta Tera | Tazmeen of Waah ! Kya Jood-o-Karam Hai, Shah-e-Bat.ha ! Tera

वो जिस के लिए महफ़िल-ए-कौनैन सजी है | वो मेरा नबी, मेरा नबी, मेरा नबी है / Wo Jis Ke Liye Mehfil-e-Kaunain Saji Hai | Wo Mera Nabi, Mera Nabi, Mera Nabi Hai

ऐ ज़हरा के बाबा सुनें इल्तिजा मदीना बुला लीजिए / Aye Zahra Ke Baba Sunen Iltija Madina Bula Lijiye

कोई गुल बाक़ी रहेगा न चमन रह जाएगा / Koi Gul Baqi Rahega Na Chaman Reh Jayega