उन की जाली वो समाँ और वो रौज़ा उन का / Un Ki Jali Wo Sama Aur Wo Rauza Un Ka

उन की जाली, वो समाँ और वो रौज़ा उन का
कितना पुर-नूर है, वल्लाह ! वो कूचा उन का

देख कर गुंबद-ए-ख़ज़रा वो धड़कना दिल का
याद आता है मुझे रोज़ मदीना उन का

हैं अबू-बक्र-ओ-'उमर और ग़नी, मौला 'अली
बीच में चारों के बैठा है वो आक़ा उन का

रौज़ा-ए-सय्यिदा-ज़हरा से जो देखा मैं ने
आज तक क़ैद है आँखों में नज़ारा उन का

हो गया नूर से मा'मूर ज़माना सारा
ऐसा चमका था शब-ए-नूर वो चेहरा उन का

दो ही लफ़्ज़ों में बदल डाली 'उमर की दुनिया
कितना मीठा था ख़ुदा जाने वो लहज़ा उन का

हश्र में आक़ा को मुँह कैसे दिखाएगा ज़लील
मुँह छुपा लेगा सर-ए-हश्र कमीना उन का

हूँ गुनहगार मगर फिर भी भरोसा है मुझे
बख़्शवा लेगा मुझे हश्र में सज्दा उन का

सय्यिदा ही ने तो पाला है शबाहत को जनाब
उन के ही नाम से मशहूर है बेटा उन का


शायर:
सय्यिद शबाहत हुसैन

ना'त-ख़्वाँ:
मुहम्मद अली फ़ैज़ी





un ki jaali, wo samaa.n aur wo rauza un ka
kitna pur-noor hai, wallah ! wo koocha un ka

dekh kar gumbad-e-KHazra wo dha.Dakna dil ka
yaad aata hai mujhe roz madina un ka

hai.n abu-bakr-o-'umar aur Gani, maula 'ali
beech me.n chaaro.n ke baiTha hai wo aaqa un ka

rauza-e-sayyida-zahra se jo dekha mai.n ne
aaj tak qaid hai aankho.n me.n nazaara un ka

ho gaya noor se maa'moor zamaana saara
aisa chamka tha shab-e-noor wo chehra un ka

do hi lafzo.n me.n badal Daali 'umar ki duniya
kitna meeTha tha KHuda jaane wo lehza un ka

hashr me.n aaqa ko munh kaise dikhaaega zaleel
munh chhupa lega sar-e-hashr kameena un ka

hu.n gunahgaar magar phir bhi bharosa hai mujhe
baKHshwa lega mujhe hashr me.n sajda un ka

sayyida hi ne to paala hai Shabaahat ko janaab
un ke hi naam se mash.hoor hai beTa un ka


Poet:
Sayyed Shabahat Hussain

Naat-Khwaan:
Muhammad Ali Faizi
Unki Jali Wo Sama Aur Wo Rauza Unka Lyrics | Unki Jali Wo Sama Aur Wo Rauza Unka Lyrics in Hindi | Muhammad Ali Faizi Naat Lyrics in Hindi | Saman or roza lyrics of naat | naat lyrics in hindi | islamic lyrics | hindi me naat lyrics | hindi me naat likhi hui | All Naat Lyrics in Hindi | नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई | नात शरीफ की किताब हिंदी में | आला हजरत की नात शरीफ lyrics | हिंदी नात | Lyrics in English | Lyrics in Roman 50+ Naat Lyrics | Best Place To Find All Naat Sharif | 500+ Naat Lyrics | Best Site To Find All Naat in Hindi, English | 430 Naat lyrics ideas in 2023

Comments

Most Popular

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

ऐ ज़हरा के बाबा सुनें इल्तिजा मदीना बुला लीजिए / Aye Zahra Ke Baba Sunen Iltija Madina Bula Lijiye

बेख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Bekhud Kiye Dete Hain Andaz-e-Hijabana

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

कोई दुनिया-ए-अता में नहीं हमता तेरा | तज़मीन - वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा / Koi Duniya-e-Ata Mein Nahin Hamta Tera | Tazmeen of Waah ! Kya Jood-o-Karam Hai, Shah-e-Bat.ha ! Tera

ज़िंदगी ये नहीं है किसी के लिए | वल्लाह वल्लाह / Zindagi Ye Nahin Hai Kisi Ke Liye | Wallah Wallah

जहाँ-बानी अता कर दें भरी जन्नत हिबा कर दें | मुनव्वर मेरी आँखों को मेरे शम्सुद्दुहा कर दें / Jahan-bani Ata Kar Den Bhari Jannat Hiba Kar Den | Muanawwar Meri Aankhon Ko Mere Shamsudduha Kar Den