मुस्तफ़ा पर दिल से जो क़ुर्बान है | मेरा रज़ा मेरी पहचान है / Mustafa Par Dil Se Jo Qurban Hai | Mera Raza Meri Pehchan Hai

रज़ा रज़ा ! रज़ा रज़ा ! रज़ा रज़ा ! रज़ा रज़ा !

हैं बरेली के शाह, मेरे अहमद रज़ा
जिन की हर हर अदा सुन्नत-ए-मुस्तफ़ा

वादी रज़ा की, कोह-ए-हिमाला रज़ा का है
जिस सम्त देखिए वो 'इलाक़ा रज़ा का है

अगलों ने तो लिखा है बहुत 'इल्म-ए-दीन पर
जो कुछ है इस सदी में वो तन्हा रज़ा का है

मुस्तफ़ा पर दिल से जो क़ुर्बान है
मेरा रज़ा मेरी पहचान है

किस तरह होती हिफ़ाज़त दीन की
दौलत-ए-ईमान थी लुटने लगी
मुस्तफ़ा की ज़ात पर हमले हुए
'आशिक़ों के दिल पे थी अफ़्सुर्दगी
जो बचाने आया फिर ईमान है
मेरा रज़ा मेरी पहचान है

दीन फैलाया नबी की आल ने
और बचाया है नक़ी के लाल ने
हम हैं रज़वी, हम ही चिश्ती क़ादरी
हम को तोड़ा दुश्मनों की चाल ने
हम ही ख़्वाजा वाले हैं ए'लान है
मेरा रज़ा मेरी पहचान है

हर सहाबी की मोहब्बत डाल दी
दी ग़ुलामी हम को अहल-ए-बैत की
जोड़ के इन दोनों से समझा दिया
हम ही अहल-ए-हक़ हैं, हम ही जन्नती
अहल-ए-सुन्नत की यही तो शान है
मेरा रज़ा मेरी पहचान है

हम बरेली वाले हैं पहचान लो
हम ही अहल-ए-हक़ हैं तुम ये जान लो
हम से सौदा होगा न ईमान का
चाहे गोली मारो या फिर जान लो
आ'ला हज़रत का ये सब फ़ैज़ान है
मेरा रज़ा मेरी पहचान है

वो अकेला होके भी लड़ता रहा
मुस्तफ़ा के नाम पर मरता रहा
रात देखी और न दिन देखा कभी
शान आक़ा की बयाँ करता रहा
जिस का सारी दुनिया पर एहसान है
मेरा रज़ा मेरी पहचान है

'उम्र बस पाई थी अड़सठ साल की
और किताबें उस ने तेरह सौ लिखी
वो मुजद्दिद और मुनाज़िर बे-मिसाल
दबदबा है उस का, 'आसिम ! आज भी
'अक़्ल जिस की ज़ात पर हैरान है
मेरा रज़ा मेरी पहचान है


शायर:
मुहम्मद आसिम-उल-क़ादरी मुरादाबादी

ना'त-ख़्वाँ:
सय्यिद हस्सानुल्लाह हुसैनी रहमानी





raza raza ! raza raza ! raza raza ! raza raza !

hai.n bareilly ke shah, mere ahmad raza
jin ki har har ada sunnat-e-mustafa

waadi raza ki, koh-e-himaala raza ka hai
jis samt dekhiye wo 'ilaaqa raza ka hai

aglo.n ne to likha hai bahut 'ilm-e-deen par
jo kuchh hai is sadi me.n wo tanha raza ka hai

mustafa par dil se jo qurbaan hai
mera raza meri pehchaan hai

kis tarah hoti hifaazat deen ki
daulat-e-imaan thi luTne lagi
mustafa ki zaat par hamle hue
'aashiqo.n ke dil pe thi afsurdgi
jo bachaane aaya phir imaan hai
mera raza meri pehchaan hai

deen phailaaya nabi ki aal ne
aur bachaaya hai naqi ke laal ne
ham hai.n razvi, ham hi chishti qaadri
ham ko to.Da dushmano.n ki chaal ne
ham hi KHwaja waale hai.n e'laan hai
mera raza meri pehchaan hai

har sahaabi ki mohabbat Daal di
di Gulaami ham ko ahl-e-bait ki
jo.D ke in dono.n se samjha diya
ham hi ahl-e-haq hai.n, ham hi jannati
ahl-e-sunnat ki yahi to shaan hai
mera raza meri pehchaan hai

ham bareilly waale hai.n pehchaan lo
ham hi ahl-e-haq hai.n tum ye jaan lo
ham se sauda hoga na imaan ka
chaahe goli maaro ya phir jaan lo
aa'la hazrat ka ye sab faizaan hai
mera raza meri pehchaan hai

wo akela hoke bhi la.Dta raha
mustafa ke naam par marta raha
raat dekhi aur na din dekha kabhi
shaan aaqa ki bayaa.n karta raha
jis ka saari duniya par ehsaan hai
mera raza meri pehchaan hai

'umr bas paai thi a.DsaTh saal ki
aur kitaabe.n us ne terah sau likhi
wo mujaddid aur munaazir be-misaal
dabdaba hai us ka, 'Aasim ! aaj bhi
'aql jis ki zaat par hairaan hai
mera raza meri pehchaan hai


Poet:
Muhammad Asim ul Qadri Muradabadi

Naat-Khwaan:
Syed Hassan Ullah Hussaini Rahmani
Mera Raza Meri Pehchan Hai Lyrics | Mera Raza Meri Pehchan Hai Lyrics in Hindi | Mustafa Par Dil Se Jo Qurban Hai Lyrics in Hindi | Manqabat e Raza Lyrics | Manqabat e Ala Hazrat Lyrics | Pahechan pe kurban hei hei hein hain lyrics of naat | naat lyrics in hindi | islamic lyrics | hindi me naat lyrics | hindi me naat likhi hui | All Naat Lyrics in Hindi | नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई | नात शरीफ की किताब हिंदी में | आला हजरत की नात शरीफ lyrics | हिंदी नात | Lyrics in English | Lyrics in Roman 50+ Naat Lyrics | Best Place To Find All Naat Sharif | 500+ Naat Lyrics | Best Site To Find All Naat in Hindi, English | 430 Naat lyrics ideas in 2023

Comments

Most Popular

अलविदा अलविदा माह-ए-रमज़ाँ / Alwida Alwida Mahe Ramzan | Alvida Alvida Mahe Ramzan

क़ल्ब-ए-आशिक़ है अब पारा पारा | अलविदा अलविदा माह-ए-रमज़ाँ / Alvida Alvida Mahe Ramzan | Qalb-e-Aashiq Hai Ab Para Para | Alwada Alwada Mah-e-Ramzan

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

ऐ ज़हरा के बाबा सुनें इल्तिजा मदीना बुला लीजिए / Aye Zahra Ke Baba Sunen Iltija Madina Bula Lijiye

बे-ख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Be-Khud Kiye Dete Hain Andaaz-e-Hijabana

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

कोई दुनिया-ए-अता में नहीं हमता तेरा | तज़मीन - वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा / Koi Duniya-e-Ata Mein Nahin Hamta Tera | Tazmeen of Waah ! Kya Jood-o-Karam Hai, Shah-e-Bat.ha ! Tera

ताजदार-ए-हरम ऐ शहंशाह-ए-दीं | तुम पे हर दम करोड़ों दुरूद-ओ-सलाम / Tajdar-e-Haram Aye Shahanshah-e-Deen | Tum Pe Har Dam Karodon Durood-o-Salam