न करो दुनिया-दार की बातें | कुछ करें अपने यार की बातें तज़मीन के साथ / Na Karo Duniya-dar Ki Baatein | Kuchh Karein Apne Yaar Ki Baatein With Tazmeen

न करो दुनिया-दार की बातें
सीम-ओ-ज़र, इक़्तिदार की बातें
छोड़ कर लाला-ज़ार की बातें
कुछ करें अपने यार की बातें
कुछ दिल-ए-दाग़दार की बातें

जिन के दिल में हुज़ूर रहते हैं
मुस्कुरा कर वो रंज सहते हैं
वज्द में आ के फिर वो कहते हैं
हम तो दिल अपना दे ही बैठे हैं
अब ये क्या इख़्तियार की बातें

काम मैं ने लिया है हिम्मत से
चैन पाया हूँ रंज-ओ-कुल्फ़त से
'अर्ज़ करनी है अहल-ए-उल्फ़त से
मैं भी गुज़रा हूँ दौर-ए-उल्फ़त से
मत सुना मुझ को प्यार की बातें

पूछे हाल-ए-दिल-ए-हज़ीं कोई
ऐसा ग़म-ख़्वार अब नहीं कोई
क़ल्ब का अब नहीं हसीं कोई
अहल-ए-दिल ही यहाँ नहीं कोई
क्या करें हाल-ए-ज़ार की बातें

सारे दुख-दर्द के हैं वो दरमाँ
इस लिए, ऐ असीर-ए-शाह-ए-ज़माँ !
आओ करते हैं नख़्ल-ए-दिल शादाँ
पी के जाम-ए-मोहब्बत-ए-जानाँ
अल्लाह अल्लाह ! ख़ुमार की बातें

हो 'अमल ख़ूब उन के उस्वा पर
चाहते हो ज़फ़र जो आ'दा पर
नक़्श कर लो ये दिल के रुक़'आ पर
मर न जाना मता'-ए-दुनिया पर
सुन के तू मालदार की बातें

ख़ुद में करते हो ख़ूब शिद्दत तुम
मिल के रहते जो अहल-ए-सुन्नत तुम
चाहते गर फ़लाह-ए-उम्मत तुम
यूँ न होते असीर-ए-ज़िल्लत तुम
सुनते गर होशियार की बातें

रूह को ताज़गी जो दे यकसर
ज़िक्र, अय्यूब ! तू वो कर अक्सर
ज़िक्र-ए-दस्त-ए-मदीना को सुन कर
हर घड़ी वज्द में रहे अख़्तर
कीजिए उस दयार की बातें


कलाम:
मुफ़्ती अख़्तर रज़ा ख़ान

तज़मीन:
मुहम्मद अय्यूब रज़ा अमजदी

ना'त-ख़्वाँ:
साबिर रज़ा अज़हरी





na karo duniya-daar ki baate.n
seem-o-zar, iqtidaar ki baate.n
chho.D kar laala-zaar ki baate.n
kuchh kare.n apne yaar ki baate.n
kuchh dil-e-daaGdaar ki baate.n

jin ke dil me.n huzoor rehte hai.n
muskura kar wo ranj sehte hai.n
wajd me.n aa ke phir wo kehte hai.n
ham to dil apna de hi baiThe hai.n
ab ye kya iKHtiyaar ki baate.n

kaam mai.n ne kiya hai himmat se
chain paaya hu.n ranj-o-kulfat se
'arz karni hai ahl-e-ulfat se
mai.n bhi guzra hu.n daur-e-ulfat se
mat suna mujh ko pyaar ki baate.n

poochhe haal-e-dil-e-hazee.n koi
aisa Gam-KHwaar ab nahi.n koi
qalb ka ab nahi.n hasee.n koi
ahl-e-dil hi nahi.n yahaa.n koi
kya kare.n haal-e-zaar ki baate.n

saare dukh-dard ke hai.n wo darmaa.n
is liye, ai aseer-e-shaah-e-zamaa.n !
aao karte hai.n naKHl-e-dil shaadaa.n
pee ke jaam-e-mohabbat-e-jaanaa.n
allah allah ! KHumaar ki baate.n

ho 'amal KHoob un ke uswa par
chaahte ho zafar jo aa'da par
naqsh kar lo ye dil ke ruq'aa par
mar na jaana mataa'-e-duniya par
sun ke tu maaldaar ki baate.n

KHud me.n karte ho KHoob shiddat tum
mil ke rehte jo ahl-e-sunnat tum
chaahte gar falaah-e-ummat tum
yu.n na hote aseer-e-zillat tum
sunte gar hoshiyaar ki baate.n

rooh ko taazgi jo de yaksar
zikr, Ayyub ! tu wo kar aksar
zikr-e-dast-e-madina ko sun kar
har gha.Di wajd me.n rahe aKHtar
kijiye us dayaar ki baate.n


Kalam:
Mufti Akhtar Raza Khan

Tazmeen:
Muhammad Ayyub Raza Amjadi

Naat-Khwaan:
Sabir Raza Azhari
Na Karo Duniya dar Ki Baatein Lyrics in Hindi | Kuch Kare Apne Yaar Ki Baatein With Tazmeen Lyrics in Hindi | Na Karo Duniya dar Ki Baaten Lyrics in Hindi | duniyadar duniyadaar daar duniya-daar batein baten baate karen yar lyrics of naat | naat lyrics in hindi | islamic lyrics | hindi me naat lyrics | hindi me naat likhi hui | All Naat Lyrics in Hindi | नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई | नात शरीफ की किताब हिंदी में | आला हजरत की नात शरीफ lyrics | हिंदी नात | Lyrics in English | Lyrics in Roman 50+ Naat Lyrics | Best Place To Find All Naat Sharif | 500+ Naat Lyrics | Best Site To Find All Naat in Hindi, English | 430 Naat lyrics ideas in 2023

Comments

Most Popular

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

ऐ ज़हरा के बाबा सुनें इल्तिजा मदीना बुला लीजिए / Aye Zahra Ke Baba Sunen Iltija Madina Bula Lijiye

बेख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Bekhud Kiye Dete Hain Andaz-e-Hijabana

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

कोई दुनिया-ए-अता में नहीं हमता तेरा | तज़मीन - वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा / Koi Duniya-e-Ata Mein Nahin Hamta Tera | Tazmeen of Waah ! Kya Jood-o-Karam Hai, Shah-e-Bat.ha ! Tera

ज़िंदगी ये नहीं है किसी के लिए | वल्लाह वल्लाह / Zindagi Ye Nahin Hai Kisi Ke Liye | Wallah Wallah

जहाँ-बानी अता कर दें भरी जन्नत हिबा कर दें | मुनव्वर मेरी आँखों को मेरे शम्सुद्दुहा कर दें / Jahan-bani Ata Kar Den Bhari Jannat Hiba Kar Den | Muanawwar Meri Aankhon Ko Mere Shamsudduha Kar Den