या रसूलल्लाह आ कर देख लो / Ya Rasoolallah Aa Kar Dekh Lo

या रसूलल्लाह ! आ कर देख लो
या मदीने में बुला कर देख लो

सैकड़ों के दिल मुनव्वर कर दिए
इस तरफ़ भी आँख उठा कर देख लो

कुश्ता-ए-दीदार ज़िंदा हो अभी
जान-ए-'ईसा ! लब हिला कर देख लो

कलमा पढ़ते जी उठें मुर्दे अभी
जान-ए-'ईसा लब हिला कर देख लो

रंज-ओ-ग़म, दर्द-ओ-अलम की मेरे गिर्द
भीड़ है, सरकार ! आ कर देख लो

छेड़े जाते हैं मुझे मुनकर-नकीर
गोर में तशरीफ़ ला कर देख लो

मेरी आँखों में तुम्हीं हो जल्वा-गर
चिलमन-ए-मिज़्गाँ उठा कर देख लो

ये कभी इंकार करते ही नहीं
बे-नवाओ ! आज़मा कर देख लो

चाहे जो माँगो 'अता फ़रमाएँगे
ना-मुरादो ! हाथ उठा कर देख लो

सैर-ए-जन्नत देखना चाहो अगर
रौज़ा-ए-अनवर पे आ कर देख लो

दो जहाँ की सरफ़राज़ी हो नसीब
उन के आगे सर झुका कर देख लो

तूर पर जल्वा जो देखा था कलीम
आज याँ पर्दा उठा कर देख लो

उन की रिफ़'अत का पता मिलता नहीं
मेहर-ओ-मह चक्कर लगा कर देख लो

इस जमील-ए-क़ादरी को भी, हुज़ूर !
अपने दर का सग बना कर देख लो

बे-क़रारों को क़रार आ जाएगा
मेरे आक़ा ! मुस्कुरा कर देख लो


शायर:
मौलाना जमीलुर्रहमान क़ादरी

ना'त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी
ग़ुलाम नूर-ए-मुजस्सम
क़ारी रिज़वान ख़ान





ya rasoolallah ! aa kar dekh lo
ya madine me.n bula kar dekh lo

saik.Do.n ke dil munawwar kar diye
is taraf bhi aankh uTha kar dekh lo

kushtaa-e-deedaar zinda ho abhi
jaan-e-'isa ! lab hila kar dekh lo

kalma pa.Dhte jee uThe.n murde abhi
jaan-e-'isa ! lab hila kar dekh lo

ranj-o-Gam, dard-o-alam ki mere gird
bhee.D hai, sarkaar ! aa kar dekh lo

chhe.De jaate hai.n mujhe munkar-nakeer
gor me.n tashreef laa kar dekh lo

meri aankho.n me.n tumhi.n ho jalwa-gar
chilman-e-mizgaa.n uTha kar dekh lo

ye kabhi inkaar karte hi nahi.n
be-nawaao ! aazma kar dekh lo

chaahe jo maango 'ata farmaaenge
naa-muraado ! haath uTha kar dekh lo

sair-e-jannat dekhna chaaho agar
rauza-e-anwar pe aa kar dekh lo

do jahaa.n ki sarfaraazi ho naseeb
un ke aage sar jhuka kar dekh lo

toor par jalwa jo dekha tha kaleem
aaj yaa.n parda uTha kar dekh lo

un ki rif'at ka pata milta nahi.n
mehr-o-mah chakkar laga kar dekh lo

is Jameel-e-Qadri ko bhi, huzoor !
apne dar ka sag bana kar dekh lo

be-qaraaro.n ko qaraar aa jaaega
mere aaqa ! muskura kar dekh lo


Poet:
Maulana Jameel-ur-Rehman Qadri

Naat-Khwaan:

Owais Raza Qadri
Ghulam Noor-e-Mujassam
Qari Rizwan Khan
Ya Rasool Allah Aa Kar Dekh Lo Lyrics | Ya Rasool Allah Aakar Dekh Lo Lyrics in Hindi | Ya Rasool Allah Aakar Dekh Lo Lyrics in English | Ya Madine Me Bula Kar | lyrics of naat | naat lyrics in hindi | islamic lyrics | hindi me naat lyrics | hindi me naat likhi hui | All Naat Lyrics in Hindi | नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई | नात शरीफ की किताब हिंदी में | आला हजरत की नात शरीफ lyrics | हिंदी नात | Lyrics in English | Lyrics in Roman 50+ Naat Lyrics | Best Place To Find All Naat Sharif | 500+ Naat Lyrics | Best Site To Find All Naat in Hindi, English | 430 Naat lyrics ideas in 2023

Comments

Most Popular

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

बे-ख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Be-Khud Kiye Dete Hain Andaaz-e-Hijabana

नूरी महफ़िल पे चादर तनी नूर की / Noori Mehfil Pe Chadar Tani Noor Ki

वो जिस के लिए महफ़िल-ए-कौनैन सजी है | वो मेरा नबी, मेरा नबी, मेरा नबी है / Wo Jis Ke Liye Mehfil-e-Kaunain Saji Hai | Wo Mera Nabi, Mera Nabi, Mera Nabi Hai

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

पाई शब-ए-बरात ये क़िस्मत की बात है | जागूँगा सारी रात इबादत की रात है / Paai Shab-e-Barat Ye Qismat Ki Baat Hai | Jagunga Saari Raat Ibadat Ki Raat Hai

कोई दुनिया-ए-अता में नहीं हमता तेरा | तज़मीन - वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा / Koi Duniya-e-Ata Mein Nahin Hamta Tera | Tazmeen of Waah ! Kya Jood-o-Karam Hai, Shah-e-Bat.ha ! Tera