रौज़ा-ए-मुहम्मद पर एक दिन मैं जाऊँगा / Roza-e-Muhammad Par Ek Din Main Jaunga

मौला ! तयबा बुला ले, मौला ! तयबा बुला ले

अपने रब से रोज़-ओ-शब आस ये लगाऊँगा
रौज़ा-ए-मुहम्मद पर एक दिन मैं जाऊँगा

अपने रब से रोज़-ओ-शब आस ये लगाऊँगा

तिश्नगी मेरे लब की हद से बढ़ रही है अब
पी के आब-ए-ज़मज़म मैं तिश्नगी बुझाऊँगा

रौज़ा-ए-मुहम्मद पर एक दिन मैं जाऊँगा

इक बार मदीने में हो जाए मेरा जाना
फिर और न कुछ माँगे सरकार से दीवाना

दीद को मदीना की दिल मेरा तड़पता है
मुज़्तरिब निगाहों को का'बा भी दिखाऊँगा

रौज़ा-ए-मुहम्मद पर एक दिन मैं जाऊँगा

अपने रब से रोज़-ओ-शब आस ये लगाऊँगा

ग़म ने मुझ को घेरा है, दिल उदास रहता है
थाम कर मैं जाली को हाल-ए-दिल सुनाऊँगा

रौज़ा-ए-मुहम्मद पर एक दिन मैं जाऊँगा

अपने रब से रोज़-ओ-शब आस ये लगाऊँगा

'इश्क़-ए-मुस्तफ़ा का हो हर घड़ी जुनूँ तारी
इन के ही वसीले से रब को मैं मनाऊँगा

रौज़ा-ए-मुहम्मद पर एक दिन मैं जाऊँगा

अपने रब से रोज़-ओ-शब आस ये लगाऊँगा

है दु'आ मेरी रब से आए मौत तयबा में
जाऊँगा मदीने में, लौट कर न आऊँगा

रौज़ा-ए-मुहम्मद पर एक दिन मैं जाऊँगा

इक बार मदीने में हो जाए मेरा जाना
फिर और न कुछ माँगे सरकार से दीवाना

आरज़ू फ़िज़ा की है, सहन-ए-शहर-ए-तयबा में
बज़्म-ए-मुस्तफ़ा हो, मैं ना'त ये सुनाऊँगा

रौज़ा-ए-मुहम्मद पर एक दिन मैं जाऊँगा

अपने रब से रोज़-ओ-शब आस ये लगाऊँगा
रौज़ा-ए-मुहम्मद पर एक दिन मैं जाऊँगा

मदीना ! मदीना ! मदीना ! मदीना !


शायर:
फ़िज़ा फ़ानिया

ना'त-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ हस्सान अंज़र





maula ! tayba bula le, maula ! tayba bula le

apne rab se roz-o-shab aas ye lagaaunga
rauza-e-muhammad par ek din mai.n jaaunga

apne rab se roz-o-shab aas ye lagaaunga

tishnagi mere lab ki had se ba.Dh rahi hai ab
pee ke aab-e-zamzam mai.n tishnagi bujhaaunga

rauza-e-muhammad par ek din mai.n jaaunga

ik baar madine me.n ho jaae mera jaana
phir aur na kuchh maange sarkaar se deewana

deed ko madina ki dil mera ta.Dapta hai
muztarib nigaaho.n ko kaa'ba bhi dikhaaunga

rauza-e-muhammad par ek din mai.n jaaunga

apne rab se roz-o-shab aas ye lagaaunga

Gam ne mujh ko ghera hai, dil udaas rehta hai
thaam kar mai.n jaali ko haal-e-dil sunaaunga

rauza-e-muhammad par ek din mai.n jaaunga

apne rab se roz-o-shab aas ye lagaaunga

'ishq-e-mustafa ka ho har gha.Di junoo.n taari
in ke hi waseele se rab ko mai.n manaaunga

rauza-e-muhammad par ek din mai.n jaaunga

apne rab se roz-o-shab aas ye lagaaunga

hai du'aa meri rab se aae maut tayba me.n
jaaunga madine me.n, lauT kar na aaunga

rauza-e-muhammad par ek din mai.n jaaunga

ik baar madine me.n ho jaae mera jaana
phir aur na kuchh maange sarkaar se deewana

aarzoo Fiza ki hai, sahn-e-shehr-e-tayba me.n
bazm-e-mustafa ho, mai.n naa't ye sunaaunga

rauza-e-muhammad par ek din mai.n jaaunga

apne rab se roz-o-shab aas ye lagaaunga
rauza-e-muhammad par ek din mai.n jaaunga

madina ! madina ! madina ! madina !


Poet:
Fiza Faniya

Naat-Khwaan:
Hafiz Hassan Anzar
Roza e Muhammad Par Ek Din Main Jaunga Lyrics | Roza e Muhammad Par Ek Din Main Jaunga Lyrics in Hindi | Apne Rab Se Rozo Shab Aas Ye Lagaunga Lyrics | rozaye mohammad mohammed | lyrics of naat | naat lyrics in hindi | islamic lyrics | hindi me naat lyrics | hindi me naat likhi hui | All Naat Lyrics in Hindi | नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई | नात शरीफ की किताब हिंदी में | आला हजरत की नात शरीफ lyrics | हिंदी नात | Lyrics in English | Lyrics in Roman 50+ Naat Lyrics | Best Place To Find All Naat Sharif | 500+ Naat Lyrics | Best Site To Find All Naat in Hindi, English | 430 Naat lyrics ideas in 2024

Comments

Most Popular

मेरे हुसैन तुझे सलाम / Mere Husain Tujhe Salaam

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

मेरा बादशाह हुसैन है | ऐसा बादशाह हुसैन है / Mera Baadshaah Husain Hai | Aisa Baadshaah Husain Hai

ऐ ज़हरा के बाबा सुनें इल्तिजा मदीना बुला लीजिए / Aye Zahra Ke Baba Sunen Iltija Madina Bula Lijiye

अल्लाह की रज़ा है मोहब्बत हुसैन की | या हुसैन इब्न-ए-अली / Allah Ki Raza Hai Mohabbat Hussain Ki | Ya Hussain Ibne Ali

कर्बला के जाँ-निसारों को सलाम / Karbala Ke Jaan-nisaron Ko Salam

हुसैन तुम को ज़माना सलाम कहता है / Husain Tum Ko Zamana Salam Kehta Hai

हुसैन आज सर को कटाने चले हैं / Husain Aaj Sar Ko Katane Chale Hain

हम हुसैन वाले हैं / Hum Hussain Wale Hain