ऐ आमिना के लाल मदीना बुलाइए / Aye Amina Ke Laal Madina Bulaiye

ऐ आमिना के लाल ! मदीना बुलाइए
मरने से पहले गुंबद-ए-ख़ज़रा दिखाइए

ऐ आमिना के लाल ! मदीना बुलाइए

आक़ा प्यारे आक़ा ! मदीना बुलाइए
आक़ा सोहणे आक़ा ! मदीना बुलाइए

आँखें तरस रही हैं ज़ियारत के वास्ते
इक दिन, हुज़ूर ! ख़्वाब में तशरीफ़ लाइए

ऐ आमिना के लाल ! मदीना बुलाइए

आक़ा प्यारे आक़ा ! मदीना बुलाइए
आक़ा सोहणे आक़ा ! मदीना बुलाइए

हसरत है मेरे दिल की, तयबा को जाऊँगा
मुझ को, हुज़ूर ! जल्द ही तयबा बुलाइए

ऐ आमिना के लाल ! मदीना बुलाइए

आक़ा प्यारे आक़ा ! मदीना बुलाइए
आक़ा सोहणे आक़ा ! मदीना बुलाइए


छेड़ेंगे मुझ को क़ब्र में मुन्कर-नकीर जब
फ़ौरन सदा लगाऊँगा, आक़ा बचाइए

ऐ आमिना के लाल ! मदीना बुलाइए

आक़ा प्यारे आक़ा ! मदीना बुलाइए
आक़ा सोहणे आक़ा ! मदीना बुलाइए

होगा बुलंद उतना ही रुत्बा ख़ुदा के पास
सर को नमाज़ में यहाँ जितना झुकाइए

ऐ आमिना के लाल ! मदीना बुलाइए

आक़ा प्यारे आक़ा ! मदीना बुलाइए
आक़ा सोहणे आक़ा ! मदीना बुलाइए


महशर के रोज़ पाओगे उजरत भी कई गुना
नाम-ए-नबी पे, मोमिनो ! जितना लुटाइए

ऐ आमिना के लाल ! मदीना बुलाइए

आक़ा प्यारे आक़ा ! मदीना बुलाइए
आक़ा सोहणे आक़ा ! मदीना बुलाइए


ना'त-ख़्वाँ:
फ़ैज़ान निज़ामी
संदली अहमद





ai aamina ke laal ! madina bulaaiye
marne se pehle gumbad-e-KHazra dikhaaiye

ai aamina ke laal ! madina bulaaiye

aaqa pyaare aaqa ! madina bulaaiye
aaqa sohne aaqa ! madina bulaaiye

aankhe.n taras rahi hai.n ziyaarat ke waaste
ik din, huzoor ! KHwaab me.n tashreef laaiye

ai aamina ke laal ! madina bulaaiye

aaqa pyaare aaqa ! madina bulaaiye
aaqa sohne aaqa ! madina bulaaiye

hasrat hai mere dil ki, tayba ko jaaunga
mujh ko, huzoor ! jald hi tayba bulaaiye

ai aamina ke laal ! madina bulaaiye

aaqa pyaare aaqa ! madina bulaaiye
aaqa sohne aaqa ! madina bulaaiye

chhe.Denge mujh ko qabr me.n munkar-nakeer jab
fauran sada lagaaunga, aaqa bachaaiye

ai aamina ke laal ! madina bulaaiye

aaqa pyaare aaqa ! madina bulaaiye
aaqa sohne aaqa ! madina bulaaiye

hoga buland utna hi rutba KHuda ke paas
sar ko namaaz me.n yahaa.n jitna jhukaaiye

ai aamina ke laal ! madina bulaaiye

aaqa pyaare aaqa ! madina bulaaiye
aaqa sohne aaqa ! madina bulaaiye

mehshar ke roz paaoge ujrat bhi kai guna
naam-e-nabi pe, momino ! jitna luTaaiye

ai aamina ke laal ! madina bulaaiye

aaqa pyaare aaqa ! madina bulaaiye
aaqa sohne aaqa ! madina bulaaiye


Naat-Khwaan:
Faizan Nizami
Sandali Ahmad
Aye Amina Ke Lal Madina Bulaiye Lyrics | Aye Amina Ke Lal Madina Bulaiye Lyrics in Hindi | Aye Amina Ke Lal Madina Bulaiye Lyrics in English | ae ay aamina amena aamena madine | lyrics of naat | naat lyrics in hindi | islamic lyrics | hindi me naat lyrics | hindi me naat likhi hui | All Naat Lyrics in Hindi | नात शरीफ लिरिक्स हिंदी, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात शरीफ लिरिक्स हिंदी में, नात हिंदी में लिखी हुई | नात शरीफ की किताब हिंदी में | आला हजरत की नात शरीफ lyrics | हिंदी नात | Lyrics in English | Lyrics in Roman 50+ Naat Lyrics | Best Place To Find All Naat Sharif | 500+ Naat Lyrics | Best Site To Find All Naat in Hindi, English | 430 Naat lyrics ideas in 2023

Comments

Most Popular

क्या बताऊँ कि क्या मदीना है / Kya Bataun Ki Kya Madina Hai

वो शहर-ए-मोहब्बत जहाँ मुस्तफ़ा हैं / Wo Shehr-e-Mohabbat Jahan Mustafa Hain (All Versions)

ऐ ज़हरा के बाबा सुनें इल्तिजा मदीना बुला लीजिए / Aye Zahra Ke Baba Sunen Iltija Madina Bula Lijiye

बेख़ुद किए देते हैं अंदाज़-ए-हिजाबाना / Bekhud Kiye Dete Hain Andaz-e-Hijabana

अल-मदद पीरान-ए-पीर ग़ौस-उल-आज़म दस्तगीर / Al-Madad Peeran-e-Peer Ghaus-ul-Azam Dastageer

हम ने आँखों से देखा नहीं है मगर उन की तस्वीर सीने में मौजूद है | उन का जल्वा तो सीने में मौजूद है / Hum Ne Aankhon Se Dekha Nahin Hai Magar Unki Tasweer Seene Mein Maujood Hai | Un Ka Jalwa To Seene Mein Maujood Hai

मुस्तफ़ा, जान-ए-रहमत पे लाखों सलाम (मुख़्तसर) / Mustafa, Jaan-e-Rahmat Pe Laakhon Salaam (Short)

कोई दुनिया-ए-अता में नहीं हमता तेरा | तज़मीन - वाह ! क्या जूद-ओ-करम है, शह-ए-बतहा ! तेरा / Koi Duniya-e-Ata Mein Nahin Hamta Tera | Tazmeen of Waah ! Kya Jood-o-Karam Hai, Shah-e-Bat.ha ! Tera

ज़िंदगी ये नहीं है किसी के लिए | वल्लाह वल्लाह / Zindagi Ye Nahin Hai Kisi Ke Liye | Wallah Wallah

जहाँ-बानी अता कर दें भरी जन्नत हिबा कर दें | मुनव्वर मेरी आँखों को मेरे शम्सुद्दुहा कर दें / Jahan-bani Ata Kar Den Bhari Jannat Hiba Kar Den | Muanawwar Meri Aankhon Ko Mere Shamsudduha Kar Den